जापान को चीन और रूस की बढ़ती सैन्य गतिविधि से खतरा
Monday, 03 September 2018 17:19

  • Print
  • Email

जापान के रक्षा प्रमुख ने सोमवार को आगाह किया कि चीन तथा रूस की बढ़ती सैन्य गतिविधि और उत्तर कोरिया की ओर से मिल रही चुनौतियों के कारण देश सुरक्षा खतरे का सामना कर रहा है। रक्षा मंत्री इत्सुनोरी ओनोदेरा ने कहा कि चीन ने पिछले साल एकतरफा तरीके से अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ाई हैं जिसमें जापान के आसापास नए विमान संचालन अभियान चलाना तथा विवादित पूर्वी तटीय द्वीप समूह के समीप परमाणु पनडुब्बी संचालन शामिल हैं। ओनोदेरा ने जापान की सेल्फ डिफेंस फोर्सेज के शीर्ष अधिकारियों की वार्षिक सभा में कहा, ‘‘चीन तेजी से अपनी सैन्य ताकत में सुधार कर रहा है और अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ा रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘वह हमारे देश के आसपास समुद्र तथा हवाईक्षेत्र में एकतरफा तरीके से तेजी से अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ा रहा है। यह हमारे देश की रक्षा के लिए चिंता की बात है।’’ ओनोदेरा ने यह टिप्पणी तब की है जब जापान, चीन के साथ अपने तनावपूर्ण कूटनीतिक संबंधों को सुधारने की कोशिश कर रहा है। प्रधानमंत्री शिंजो आबे के अगले महीने जापान के सबसे बड़े व्यापारिक साझेदार देश की यात्रा करने की संभावना है।

सत्ता में आने के बाद आबे ने पूर्वी चीन सागर के विवादित द्वीपों पर जापान के दावों को लेकर दृढ़ रुख अपनाया है। हालांकि उन्होंने अपने रुख में नरमी लाते हुए चीन से उत्तर कोरिया पर उसके परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों को वापस लेने का दबाव डालने के लिए कहा है। जापान के रक्षा प्रमुख ने कहा कि रूस शीतयुद्ध के बाद से सबसे बड़ा अभ्यास करने की योजना बना रहा है और वह विवादित दक्षिणी कुरिल द्वीपों पर शक्तिशाली हथियार ला रहा है। ओनोदेरा ने यह भी कहा कि उत्तर कोरिया की ओर से लगातार जापान पर ‘‘गंभीर और आसन्न खतरा’’ मंडरा रहा है।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.