अब अमेरिका में ईवीएम पर उठे सवाल, बिल क्लिंटन बोले
Wednesday, 06 June 2018 10:13

  • Print
  • Email

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को लेकर भारत ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी सवाल उठ रहे हैं। बैलट पेपर से चुनाव कराने की भी मांग जोर पकड़ती जा रही है। ईवीएम का विरोध करने वालों में अब अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन का नाम भी शामिल हो गया है। उन्होंने ‘बीबीसी’ से बात करते हुए कहा कि अमेरिकी चुनाव पर साइबर आतंकवाद का जबरदस्त खतरा है, ऐसे में हमें चुनाव के बैलट सिस्टम की ओर ही लौटना चाहिए। क्लिंटन ने बताया कि फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि वर्ष 2016 के राष्ट्रपति चुनावों में साइबर हमले का कितना प्रभाव पड़ा था, लेकिन सभी अमेरिकी नागरिकों को मतदान के लिए कागज और कलम की ओर लौटना चाहिए। पूर्व राष्ट्रपति ने खास तौर पर वर्जीनिया प्रांत के फैसले की ओर ध्यान दिलाया, जिसने वर्ष 2017 में चुनावों के लिए पेपर बैलट का इस्तेमाल करने का फैसला किया था। इससे पहले सुरक्षा विशेषज्ञों ने एक कांफ्रेंस में टच स्क्रीन वाले वोटिंग मशीनों के हैक होने की आशंका जताई थी। वर्जीनिया ने वर्ष 2014 क चुनावों में इसका प्रयोग किया था। वोटिंग टेक्नोलॉजी पर शोध करने वाली एक गैरसरकारी संस्था ‘वेरीफाइड वोटिंग फाउंडेशन’ के अनुसार, वर्ष 2016 के राष्ट्रपति चुनावों में 30 राज्यों ने मतदाताओं के लिए डायरेक्ट रिकॉर्डिंग इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग सिस्टम की सुविधा मुहैया कराई थी। इस प्रणाली के तहत वोटर्स ने कंप्यूटर की मदद से अपना मत डाला था। बता दें कि राष्ट्रपति चुनावों में बिल क्लिंटन की पत्नी हिलेरी क्लिंटन डेमोक्रेट पार्टी की ओर से चुनाव मैदान में थीं। चुनावों में रूसी हैकरों द्वारा दखल देने के आरोप लगे थे। फिलहाल इस मामले की जांच चल रही है।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss