तानाशाह गद्दाफी से 4 अरब रुपए लेने का आरोप

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी को 2007 के चुनाव प्रचार के लिए लीबिया के दिवंगत तानाशाह मोअम्मर गद्दाफी से 4 अरब रुपए लेने के आरोप में पुलिस ने हिरासत में लिया है। खबर के अनुसार सरकोजी को मंगलवार (20 मार्च, 2018) सुबह हिरासत में लिया गया और भ्रष्टाचार, धन शोधन और कर चोरी की जांच के विशेषज्ञ उनसे पेरिस के उपनगरीय शहर नानतेरे स्थित उनके कार्यालय में पूछताछ कर रहे हैं। दरअसल, सरकोजी (63) हाल फिलहाल तक इस मामले में पूछताछ संबंधी सम्मन का जवाब देने से इनकार करते रहे हैं। सूत्र ने बताया कि सरकोजी के राष्ट्रपति रहने के दौरान मंत्री रहे ब्रिस होर्तफीक्स से भी जांच के तहत पूछताछ की गई।

गौरतलब है कि पिछले साल नवंबर में एक कारोबारी ने लीबिया के नेता से नोटों से भरे तीन सूटकेस फ्रांसीसी नेता के चुनाव प्रचार के लिए चंदे के तौर पर देने की बात स्वीकारी थी। सरकोजी को हिरासत में लिए जाने के बारे में सबसे पहले मीडिया पार्ट खोजी समाचार वेबसाइट और फ्रांसीसी दैनिक ली मोंडे ने खबर दी थी और यह पूर्व सहयोगी अलेक्सांद्र जौहरी की लंदन में गिरफ्तारी और बाद में जमानत पर रिहा किए जाने के कुछ हफ्ते बाद सामने आई है।

जांच से जुड़े एक करीबी सूत्र ने यह भी कहा कि सरकोजी के राष्ट्रपति रहने के दौरान सरकार में शीर्ष मंत्री रहे ब्राइस होर्टेफ्यूक्स से भी जांच के सिलसिले में मंगलवार को पूछताछ की गई। वह जांच के केंद्र में रहे हैं। लीबियाई शासक मोअम्मर गद्दाफी और उनके बेटे सैफ अल-इस्लाम के सरकोजी को चुनाव लड़ने के लिए धन प्रदान करने के दावों की जांच कर रहे न्यायाधीशों ने 2013 में इसकी जांच शुरू की। हालांकि, सरकोजी ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि लीबिया में कज्जाफी के 41 साल के शासन को खत्म करने में अमेरिकी नेतृत्व वाले सैन्य हस्तक्षेप में उनकी भागीदारी को लेकर लीबियाई शासन के कुछ सदस्य उनसे नाराज थे।

फ्रांसीसी मूल के लीबियाई कारोबारी जैद तकीदीन ने कहा कि उन्होंने सरकोजी के चुनाव प्रचार के लिए 2006 के अंत में और 2007 की शुरूआत में धन के साथ त्रिपोली से पेरिस की तीन यात्राएं की थी। तकीदीन ने दावा किया कि हर बार सूटकेस में 20 लाख यूरो थे। उनके मुताबिक उन्हें यह रकम गद्दाफी के सैन्य खुफिया प्रमुख अब्दुल्ला सेनुसी ने दी थी।

POPULAR ON IBN7.IN