पाकिस्‍तान का आतंकवाद परस्‍त चेहरा आया सामने, पुलवामा में आतंकी हमले को कबूला
Thursday, 29 October 2020 17:34

  • Print
  • Email

इस्‍लामाबाद: पाकिस्‍तान के आतंकवाद को शह देने के बारे में पूरी दुनिया जानती है लेकिन अब पाकिस्‍तान सरकार के मंत्री फवाद चौधरी ने खुद संसद में कबूला है कि पुलवामा आतंकी हमला इमरान खान की सरपरस्‍ती में अंजाम दिया गया। उन्‍होंने कहा कि पुलवामा इमरान खान के नेतृत्व में एक बड़ी उपलब्धि थी।इससे पहले आर्थिक प्रतिबंधों से बचने के लिए पाकिस्‍तान की इमरान खान सरकार पुलवामा में आतंकी हमले से इंकार करती रही है, अब पाकिस्‍तान की नेशनल असेंबली में खुद उसके मंत्री ने कबूल लिया है कि इमरान खान सरकार ने ही यह आतंकी हमला करवाया था।

इमरान खान सरकार के मंत्री फवाद चौधरी ने संसद में माना कि पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले में पाकिस्तान का हाथ था। पुलवामा हमला पाकिस्तान की कामयाबी है। फवाद चौधरी ने पुलवामा हमले का श्रेय इमरान खान और उनकी पार्टी पीटीआइ को दिया।

आपको बता दें कि 14 फरवरी 2019 को कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरी कार सीआरपीएफ के काफिले से टकरा दी थी, इस धमाके में सीआरपीएफ के जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारत ने बालाकोट में एयर स्ट्राइक करते हुए आतंकी लॉन्चपैड को तबाह किया था। एयर स्ट्राइक में बड़ी संख्या में आतंकवादी, ट्रेनर और सीनियर कमांडर मारे गए। इस कैंप को मसूद अजहर का साला मौलाना युसूफ अजहर संचालित कर रहा था।

मंत्री फवाद चौधरी से पहले इमरान खान की पार्टी पीएमएल-एन के सांसद ने खुलासा किया था कि भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन की रिहाई न होने पर भारत, पाकिस्तान पर हमले के लिए तैयार बैठा था। उन्होंने इस बात को कबूला कि उस वक्त पाकिस्तानी सेना के प्रमुख की हालत खराब थी, उनके हाथ पैर कांप रहे थे। अगर पाकिस्तान अभिनंदन को नहीं छोड़ता तो भारत कभी भी हमला कर सकता था।

कुछ दिनों पहले एएनआइ ने पुलवामा हमले को लेकर चार्जशीट पेश किया था, जिसमें हमले के लिए पाकिस्‍तान के आतंकी संगठनों को जिम्‍मेदार ठहराया गया था। हमले के 19 आरोपितों में जैश सरगना मसूद अजहर, रउफ असगर और उमर फारूक भी शामिल हैं। छह आरोपित मारे जा चुके हैं और सात पकड़े जा चुके हैं। मुख्य आरोपी पाकिस्तानी कमांडर मोहम्मद उमर फारूक था, जो मसूद अजहर का भतीजा था। उमर फारूक अपने एक अन्य साथी के साथ पुलवामा हमले के चंद दिनों बाद मारा गया था।

इस मामले के प्रमुख आरोपित जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मसूद अजहर को पाकिस्‍तान में शरण मिलना जारी है। उस दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा था कि पुलवामा हमले के मामले में चार्जशीट एक जांच के बाद डेढ़ साल में दाखिल की गई। आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद ने पुलवामा हमले की जिम्मेदारी ली थी। संगठन और उसका नेतृत्व पाकिस्तान में है। यह खेदजनक है कि चार्जशीट में पहले आरोपित मसूद अजहर को पाकिस्तान में पनाह मिलना जारी है। उस दौरान पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया था कि एनआइए ने पुलवामा हमले में पाकिस्तान को फंसाने की कोशिश की है।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.