चीनी कंपनी ने बांग्लादेश में कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के लिए आवेदन किया
Wednesday, 05 August 2020 16:15

  • Print
  • Email

ढाका: एक चीनी कंपनी सिनोवैक बायोटेक ने बांग्लादेश में कोविड-19 के खिलाफ वैक्सीन के तीसरे चरण के नैदानिक परीक्षण (क्लीनिकल ट्रायल) के लिए आवेदन किया है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव अब्दुल मन्नान ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन का लाभ बांग्लादेश को मिलेगा।

अधिकारियों ने कहा कि चीनी कंपनी को बांग्लादेश की सामान्य आबादी को वैक्सीन देने में कम से कम छह महीने लग सकते हैं। वैक्सीन पहले 18 से 59 आयु वर्ग के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को दी जाएगी।

बायोफार्मास्युटिकल कंपनी सिनोवैक बायोटेक लिमिटेड ने एक जून को कहा था कि कंपनी 99 प्रतिशत सुनिश्चित है कि उसकी कोविड-19 वैक्सीन, जिसे कोरोनावैक कहा जाता है, काम करेगी।

चीन में पहले और दूसरे चरण के मानव क्लीनिकल परीक्षणों के संचालन के लिए सिनोवैक को पहले ही चीनी सरकार के अधिकारियों से मंजूरी मिल चुकी है। कोरोनावैक के विकास में कंपनी ने महत्वपूर्ण प्रगति की है।

इसके पहले चरण का क्लीनिकल ट्रायल अप्रैल माह में ही कर लिया गया था, जिसमें कोविड-19 वैक्सीन की सुरक्षा एवं प्रारंभिक प्रतिरक्षण क्षमता का मूल्यांकन किया गया।

कंपनी ने हाल ही में कोरोनावैक के बारे में पूर्व-नैदानिक (प्री-क्लीनिकल) परिणाम प्रकाशित किए हैं। इसमें वैक्सीन के ट्रायल को सुरक्षित बताया गया।

पहले चरण के अध्ययन में कोरोनावैक के सुरक्षात्मक पहलुओं के प्रारंभिक अवलोकन के बाद सिनोवैक ने मई में दूसरे चरण का परीक्षण शुरू किया, जिसमें 1,000 से अधिक स्वयंसेवक शामिल थे। द्वितीय चरण के तहत एक बड़ी आबादी में वैक्सीन की प्रतिरक्षा और सुरक्षा का मूल्यांकन किया गया।

सिनोवैक ने अपनी कोविड-19 वैक्सीन के विकास में तेजी लाने के लिए 1.5 करोड़ डॉलर की धनराशि संरक्षित की है और यह एक वाणिज्यिक वैक्सीन उत्पादन संयंत्र का निर्माण कर रही है जिसमें सालाना 10 करोड़ खुराक के उत्पादन की उम्मीद है।

स्काई न्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार, जब सिनोवैक के एक शोधकर्ता लुओ बैशन से एक रिपोर्टर ने पूछा कि क्या उन्हें लगता कि वैक्सीन सफल होगी, तो उन्होंने कहा, हां, हां। यह सफल होनी चाहिए, 99 प्रतिशत सुनिश्चित है कि यह सफल होगी।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.