कोरोनावायरस : शंघाई के अधिकारी अफवाहों पर कस रहे नकेल
Friday, 14 February 2020 09:33

  • Print
  • Email

शंघाई: नोवल कोरोनावायरस निमोनिया (कोविड-19) के विरुद्ध लड़ाई लड़ने के लिए फर्जी सूचनाओं को पर्दाफाश करना सबसे महत्वपूर्ण है। ऐसे समय में कुछ गुमराह करने वाली खबरें लोगों में दशहत पैदा कर सकती है। शंघाई में, अधिकारी और मीडिया महामारी के मद्देनजर बेवजह की डर को समाप्त करने के लिए अफवाहों और गलत सूचनाओं को उजागर करने में लगे हुए हैं। स्थानीय प्रशासन पारदर्शिता बनाए रखने के लिए प्रतिदिन प्रेस वार्ता आयोजित कर रहा है।

इस बाबत शंघाई म्यूनिसिपल इंटरनेट इंफोर्मेशन ऑफिस, जियाफांग डेली ऑनलाइन प्लेटफार्म 'रयूमर बस्टर' के साथ मिलकर तथ्यों की जांच और महामारी से संबंधित सूचनाओं को अपडेट कर रहा है।

ग्लोबल टाइम्स ने हाल ही में कई अफवाहों पर संज्ञान लिया था, जो हाल ही में शंघाई में सर्कुलेट हो रहे थे। संबंधित सरकरी विभागों ने हालांकि इन अफवाहों का पर्दाफाश कर दिया है।

इनमें से एक अफवाह के तहत, शंघाई के मिनहांग जिले में दो व्यक्तियों ने मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो सुर्केलेट किया, जिसमें एक व्यक्ति को उसके आवासीय इमारत से छलांग लगाते हुए देखा जा सकता है। दोनों ने दावा किया कि इमारत से छलांग लगाने वाला व्यक्ति वुहान के हुबाई प्रांत का है, जो इस महामारी का केंद्र है और अस्पताल में 14 दिनों तक अलग रखे जाने के भय (क्वारंटाइन) की वजह से उसने छलांग लगाई है।

लेकिन मिनहांग पुलिस ने अपने आधिकारिक वीइबो खाते पर स्पष्ट करते हुए कहा कि व्यक्ति ने 14 दिनों तक अलग कमरे में रखे जाने के भय से नहीं, बल्कि अपने कर्जो की वजह से इमारत से छलांग लगाई थी। पुलिस ने अफवाह फैलाने वाले दोनों लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने कहा कि जिस व्यक्ति ने आत्महत्या करने की कोशिश की थी, वह अभी खतरे से बाहर है।

उल्लेखनीय है कि कोरोनावायरस की वजह से चीन में अबतक 1367 लोगों की मौत हो चुकी है और हजारों लोगों में इस वायरस की पुष्टि हो चुकी है। चीन ही नहीं, दुनिया के कई देश भी इस वायरस से प्रभावित हैं और लोगों में इसे लेकर भय व्याप्त है।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.