Print this page

पाकिस्तान में मनाया गया 'कश्मीर एकजुटता दिवस'
Wednesday, 14 August 2019 17:45

इस्लामाबाद: जम्मू एवं कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के भारत के फैसले के बाद से पाकिस्तान में हड़कंप मचा हुआ है। सरकार और तमाम दल इस फैसले के खिलाफ बोलने में सबसे आगे रहना चाह रहे हैं और ऐसे माहौल में देश ने बुधवार को अपना 73वां स्वतंत्रता दिवस 'कश्मीर एकजुटता दिवस' के रूप में मनाया। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, इस मौके पर देश भर में रैलियां निकाली गईं जिनमें 'कश्मीर बनेगा पाकिस्तान' का नारा लगाया गया। पाकिस्तान की सरकार ने इस मौके लिए 'कश्मीर बनेगा पाकिस्तान' का लोगो जारी किया था।

देश की राजधानी में ध्वजारोहण के बाद पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अलवी ने कहा कि भारत ने यह कदम उठाकर अपने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के वादों पर भी पानी फेर दिया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान कश्मीरियों को कभी अकेला नहीं छोड़ेगा। हम कश्मीर के साथ थे, हैं और रहेंगे।

पाकिस्तानी राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कहा कि भारत ने कश्मीर के दर्जे में बदलाव कर शिमला समझौते का उल्लंघन किया है और उसे ऐसा करने का अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि 'भारत हमारे शांति के पक्ष में होने को कमजोरी न समझे। अगर हम पर जंग थोपी गई तो हम पीछे नहीं हटेंगे।'

पाकिस्तान में सत्तारूढ़ तहरीके इंसाफ पार्टी ने इस मौके पर रावलपिंडी से इस्लामाबाद तक रैली निकाली जिसमें कश्मीर पर भारत के फैसले का विरोध जताया गया और 'कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के अधिकार' का समर्थन किया गया।

ऐसी ही रैली दक्षिण वजीरिस्तान, लाहौर, कराची और देश के कई अन्य हिस्सों में निकाली गईं। इनका आयोजन सत्तारूढ़ दल के साथ-साथ विपक्षी पाकिस्तान मुस्लिम लीग और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी द्वारा किया गया। इनमें तमाम वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया।

--आईएएनएस