Print this page

नोएडा के सेक्टर-11 में बिल्डिंग गिरी, मलबे में दबे 4 लोग निकाले गए; सीएम योगी ने लिया संज्ञान
Friday, 31 July 2020 18:06

नोएडा: नोएडा के सेक्टर-11 में एक बिल्डिंग गिरने से हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची प्रशासन की टीम ने मलबे में दबे सभी चार लोगों को बाहर निकाल लिया है। सभी को एंबुलेंस के जरिए जिला अस्पताल भेजा गया है। घायलों में एक की हालत नाजुक है। डीसीपी संकल्प शर्मा का कहना है कि रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा कर सभी को बाहर निकाल लिया गया है। हादसे में घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है। कंपनी में निर्माण कार्य चल रहा था। बिल्डिंग के आगे के हिस्से की शटरिंग गिरने से उसमें कुछ लोग दब गए थे। मिली जानकारी के अनुसार, घायलों में एक महिला भी शामिल है। उसे भी जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। फिलहाल सभी का इलाज चल रहा है। 

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार, बिल्डिंग गिरने के मामले का सीएम योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लिया है। उन्होंने नोएडा के पुलिस कमिश्नर को घटना स्थल का दौरा करने का निर्देश दिया है। वहीं, जिला प्रशासन का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। अगर बिल्डिंग अवैध होगी तो निश्चित तौर पर कार्रवाई की जाएगी। हालांकि अब तक की जानकारी के अनुसार बिल्डिंग अवैध रूप से नहीं बनी है। निर्माण कार्य के बारे में जानकारी एकत्र की जा रही है।

बता दें कि जहां पर ये हादसा हुआ उस बिल्डिंग में निर्माण कार्य चल रहा था। इसकी वजह से ये हादसा हुआ। सूचना मिलने पर एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची है। हालांकि मलबे में दबे सभी को पहले ही बाहर निकाल लिया गया था। 

बता दें कि हर साल बारिश के दिनों में इमारतें गिरने के मामले सामने आते हैं। इनमें से कुछ जर्जर तो कुछ निर्माणाधीन इमारतें होती हैं। 17 जुलाई 2018 को ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में छह मंजिला इमारत भरभराकर गिर गई थी। इस हादसे में नौ लोगों की मौत हो गई थी। इसके अलावा इसी गांव में एक अन्य मकान झुक गया था। इसके बाद पूरी बिल्डिंग को खाली करा दिया गया था। आज भी इस गांव में करीब 20 हजार से अधिक लोग बारिश के दिनों में खौफ में रहते हैं। उन्हें डर सता रहा होता है कि कहीं वे काल के गोद में समा न जाएं। इसकी बड़ी वजह यह है कि यहां पर अधिकतर इमारतें अवैध बनीं हैं। हादसे से बचने के लिए कोई कारगर उपाय नहीं किए गए।