राममंदिर भूमिपूजन कार्यक्रम में कोविड-19 से सुरक्षा के तगड़े इंतजाम
Wednesday, 05 August 2020 11:38

  • Print
  • Email

अयोध्या: राम जन्म भूमि परिसर में बुधवार को मंदिर निर्माण का शुभारंभ प्रधानमंत्री करेंगे। कार्यक्रम में कोविड-19 संक्रमण से बचने के लिए प्रशासन ने व्यापक इंतजाम किए जाने के दावे किए हैं। जिला प्रसाशन की ओर से बताया गया है कि कोविड टेस्ट में नकारात्मक पाए गए लोगों की ही ड्यूटी लगाई गई है। साथ ही वही लोग कार्यक्रम में जा सकेंगे, जो टेस्ट में कोविड संक्रमण से मुक्त पाए जाएंगे। इसके लिए व्यापक स्तर पर प्रबंध किए गए हैं।

जिलाधिकारी अनुज झा ने बताया कि यहां सभी लोगों की कोरोना जांच की गई है और कोरोना गाइडलांइंस का कड़ाई से पालन करवाया जा रहा है।

हनुमानगढ़ी में दर्शन कार्यक्रम में शामिल होने वाले पुजारियों की कोरोना जांच करवा ली गई है। राम जन्म भूमि परिसर में तैनात सुरक्षा बलों के जवानों व मंदिर के पुजारियों की भी जांच हो चुकी है।

नगर आयुक्त डॉ. नीरज शुक्ल ने बताया कि कार्यक्रम को लेकर सारे स्थलों का लगातार सैनिटाइजेशन चल रहा है। राम जन्म भूमि परिसर में वे ही लोग प्रवेश कर सकेंगे, जिनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव होगी।

प्रधानमंत्री के पास वीवीआईपी सर्किल में मास्क के साथ फेस शील्ड लगाना व सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य कर दिया गया है।

डॉ. शुक्ल ने बताया कि कार्यक्रम में सभी को मास्क लगाना अनिवार्य किया गया है। बैठने की व्यवस्था सोशल डिस्टेसिंग के मुताबिक की गई है। फॉगिंग के लिए मशीनें लगाई गई हैं। विशेष टीमें मशीनों से सैनिटाइजिंग का काम कर रही हैं।

सीएमओ डॉ. घनश्याम सिंह के अनुसार, कार्यक्रम में शामिल लोगों की कोरोना की जांच करवा ली गई है। परिसर में सैनिटाइजर मशीनें और हाथ धोने की व्यवस्था की गई है।

राम लला के पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास की दो बार जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने पर वह मंगलवार को राम लला मंदिर में पूजा करवाने पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि मंगलवार को प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का रिहर्सल करवाया गया। उन्हें प्रशासन से प्रधानमंत्री की पूजा करवाने की गाइडलान्स बताई गई, जिसके मुताबिक थाली में आरती, प्रसाद, फूल, अक्षत, चंदन आदि रखकर सामने रख दिया जाएगा। पुजारी ने कहा कि मुझे इस घड़ी का वर्षों से इंतजार था।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.