फेसबुक ने 'व्हाइट सुपरमेसी' के लिए माफी मांगी

सोशल नेटवर्किंग कंपनी फेसबुक ने 'व्हाइट जीनोसाइड कांस्पिरेसी थ्योरी' में रुचि रखने वाले यूजर को लक्षित एक विज्ञापन देने पर माफी मांगी है। समाचार वेबसाइट 'द इंटरसेप्ट' को श्वेत नस्ल को खत्म करने की कोशिश करने वाली बाहरी ताकतों के बारे में कांस्पिरेसी थ्योरी के कुछ दिनों के बाद अभियान शुरू करने में कोई परेशानी नहीं थी। 

श्वेत नस्ल को खत्म करने का प्रयास कथित रूप से उस शख्स से प्रेरित था, जिसने पीट्सबर्ग उपासना केंद्र में बीते सप्ताह 11 यहुदियों की हत्या कर दी।

इससे पहले 'द इंटरसेप्ट' एक खास समूह के लिए दो आलेख को प्रमोट करने में पूर्व निर्धारित मानदंडों अनुसार 'व्हाइट जीनोसाइड कांस्पिरेसी थ्योरी' का चयन करने में सक्षम था। 

फेसबुक के अनुसार, रुचि लेने वाले समूह में 168,000 यूजर हैं, जिन्होंने 'व्हाइट जीनोसाइड कांस्पिरेसी थ्योरी' में अभिरुचि जाहिर की है या इससे जुड़े पेज को वे पसंद करते हैं।

रिपोर्ट में कहा गया कि जिस विज्ञापन को 'ह्वाइट सुपरमेसी-टेस्ट' के तौर पर बढ़ाचढ़ाकर दिखाया गया है उसे फेसबुक की विज्ञापन शखा के सदस्य ने मंजूरी प्रदान की थी। 

समाचार साइट द्वारा फेसबुक से टिप्पणी के लिए संपर्क करने पर कंपनी के प्रवक्ता जोए ओसबर्न ने 'द इंटरसेप्ट' से कहा कि 'व्हाइट जीनोसाइड कांस्पिरेसी थ्योरी की श्रेणी, स्वचालित व मानव समीक्षा के जरिए बनाई गई है, लेकिन नई अभिरुचि की स्वीकृति आखिरकार लोग ही देते हैं।"

फेसबुक के प्रवक्ता ने कहा, "लक्षित विकल्प को हटा दिया गया है और हमने इन विज्ञापनों को भी हटा लिया है। यह हमारे विज्ञापन के सिद्धांतों के खिलाफ है। हमें इस गलती के लिए बेहद खेद है।"

--आईएएनएस

POPULAR ON IBN7.IN