गाजीपुर, चंदौली, मऊ और वाराणसी में ईवीएम बदलने की अफवाह के बाद रात भर हंगामा
Tuesday, 21 May 2019 11:31

  • Print
  • Email

वाराणसी: पूर्वांचल के चार जिलों में शाम से ही ईवीएम को लेकर हंगामा मचा रहा। रात भर कई जगह विवाद की नौबत अाई तो फोर्स तक बुलानी पड़ गई। दरअसल चारों मामले वाराणसी, चंदौली, मऊ और गाजीपुर जिले से जुड़े हुए हैं जहां ईवीएम बदलने का आरोप लगाते हुए गठबंधन प्रत्‍याशियों की ओर से प्रदर्शन करते हुए खुद के रखवाली की बात पर विवाद बढ़ता चला गया। विवाद शुरू होते ही प्रशासन के हाथ पांव फूल गए और आनन फानन सुरक्षा व्‍यवस्‍था कड़ी करनी पड़ गई। गाजीपुर और चंदौली में हुए विवाद के मामले में चुनाव आयोग से निर्देश लेने के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी के हस्‍तक्षेप से विवाद का हल निकाला गया। 

गाजीपुर और चंदौली में ईवीएम बदले जाने की अफवाह की सूचना मिलते ही कांग्रेस और सपा के कई कार्यकर्ता पहडिय़ा मंडी पहुंच गए। वे सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गए। अचानक उनके रात में पहुंचने पर मौजूद सुरक्षा कर्मी भी घबरा गए। उन्होंने इसकी सूचना तत्काल उच्च अधिकारियों को दी। मौके पर पीएसी संग स्थानीय पुलिस पहुंच गई। रात तक दोनों पार्टी के कार्यकर्ता धरने पर बैठे रहे। पुलिस ने हालांकि इस दौरान सुरक्षा व्‍यवस्‍था और कड़ी कर दी। रात भर किसी स्थिति से निपटने के लिए सुरक्षा बलों को सतर्क कर दिया गया था। वहीं ईवीएम बदलने की अफवाह को लेकर पहड़िया मंडी में विभिन्न दलों के कार्यकर्ता जमे हैं। रात में उप निदेशक मंडी को लोगों ने रोक दिया था, फ‍िलहाल सुबह भी लोग शांति से बैठे हुए हैं।

वहीं ईवीएम बदलने की अफवाह के बाद सक्रिय हुए अधिकारियों ने मामले में अपनी तरफ से स्पष्ट किया कि कूलर लगे कमरे में बैठने को लेकर बहस हुई थी। एसपी सिटी, एडीएम सिटी मौके पर पहुंचे और लोगों को शांत कराने के बाद सुरक्षा घेरे में स्ट्रांग रूम भी ले जाया गया। सभी प्रतिनिधि व्यवस्था से संतुष्ट थे। जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि पिंडरा में चुनाव के बाद से ही कई प्रत्याशियों के प्रतिनिधि रात में रूक रहे हैं। 24 घण्टे सीसीटीवी के माध्यम से वह ईवीएम पर नजर रख रहे हैं। ईवीएम को लेकर कुछ लोग अफवाह फैला कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश में हैं। सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.