उप्र विधानसभा में भाजपा के 37 प्रतिशत विधायक आपराधिक पृष्ठभूमि वाले
Saturday, 15 February 2020 10:03

  • Print
  • Email

लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट द्वारा राजनीतिक दलों से विधानसभा और लोकसभा चुनावों में अपने उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास को प्रकाशित करने के लिए कहने के साथ ही एक बार फिर से राजनीति के अपराधीकरण पर ध्यान केंद्रित हो गया है। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) के अनुसार, भाजपा आपराधिक इतिहास वाले 37 प्रतिशत विधायकों के साथ इस सूची में सबसे ऊपर है।

2017 में 17वीं विधानसभा में चुने गए कुल 403 में से 143 विधायकों का आपराधिक इतिहास है।

भाजपा ने 2017 में 312 सीटें जीती थीं, 114 ने घोषित किया था कि उन्हें आपराधिक मामलों का सामना करना पड़ा है और 83 के खिलाफ जघन्य अपराध के मामले दर्ज हो चुके थे।

समाजवादी पार्टी पिछले विधानसभा चुनावों में केवल 47 सीटें जीतने में सफल रही थी और नवनिर्वाचित सपा विधायकों में से 14 ने अपने हलफनामों में आपराधिक मामला दर्ज होने की बात स्वीकार की थी।

बहुजन समाज पार्टी के विधानसभा में 19 विधायक हैं, जिनमें से पांच की आपराधिक पृष्ठभूमि है।

सात विधायकों वाली कांग्रेस के केवल एक विधायक का आपराधिक इतिहास है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में तीन निर्दलीय विधायक हैं और तीनों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

मुख्तार अंसारी, कुलदीप सेंगर और बृजेश सिंह जैसे उत्तर प्रदेश के कुछ विधायक फिलहाल जेल में हैं।

राजनीति में अपराधियों को शामिल करने की प्रवृत्ति 1980 के दशक में शुरू हुई जब पूर्वी उत्तर प्रदेश के दो माफिया डॉन - हरि शंकर तिवारी और वीरेंद्र प्रताप शाही ने चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।

इसके बाद, सभी दलों ने उन अपराधियों को चुनावी मैदान में उतारना शुरू कर दिया जो चुनाव लड़ने के लिए पार्टी संगठनों पर निर्भर नहीं थे और उनके पास पर्याप्त धन और अपना रसूख था।

आज, यह लाइन धुंधली सी हो गई है, यह कहना मुश्किल हो गया है कि एक राजनेता अपराध में है या एक अपराधी राजनीति में है।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.