उन्नाव पीड़िता को एयर एंबुलेंस से दिल्ली ले जाने की तैयारी
Thursday, 05 December 2019 19:23

  • Print
  • Email

लखनऊ: उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता जिंदा जलाए जाने के बाद बुरी तरह से झुलस चुकी है। पीड़िता फिलहाल जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है और अब स्थानीय प्रशासन उसे दिल्ली लेकर जाने की तैयारी कर रहा है। लखनऊ स्थित अस्पताल के डॉक्टरों की राय के बाद प्रशासन पीड़िता को दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में भर्ती कराने जा रहा है। पीड़िता को गुरुवार शाम एयर एंबुलेंस से दिल्ली लेकर जाने की तैयारियां शुरू हो गई है। लखनऊ ट्रैफिक पुलिस ने सिविल अस्पताल से एयरपोर्ट तक ग्रीन कॉरिडोर बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। ट्रैफिक पुलिस को शाम छह बजे से ग्रीन कॉरिडोर तैयार करने के आदेश दिए गए हैं।

सूत्रों के अनुसार प्रशासन ने एयरलिफ्ट कराने की जानकारी सिविल अस्पताल को दे दी है। शाम सात से 7.30 बजे के बीच पीड़िता को दिल्ली के लिए लेकर जाया जाएगा।

इससे पहले पीड़िता को देखने के लिए गुरुवार को उसकी मां और बहन पुलिस की कड़ी सुरक्षा में अस्पताल पहुंचीं। अस्पताल के निदेशक डॉ. डी. एस. नेगी ने बताया कि पीड़िता की हालत बेहद गंभीर है। वह करीब 90 फीसदी से ज्यादा जली हुई है। उन्होंने बताया कि मुलाकात के दौरान पीड़िता ने कुछ बातचीत भी की। यहां प्लास्टिक सर्जन की देखरेख में पीड़िता का इलाज हो रहा है।

इस बीच उन्नाव में दुष्कर्म पीड़िता को जिंदा जलाने की घटना सामने आने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट के जरिए राज्य सरकार पर हमला बोला। उन्होंने लिखा, "उन्नाव पीड़िता के स्वास्थ्य समाचार से मन आहत है। ईश्वर से प्रार्थना है कि पीड़िता जल्द स्वस्थ हो। कल भाजपा सरकार का बयान था कि यूपी में सब ठीक है और आज एक बयान और आया। लेकिन कानून-व्यवस्था के बारे में झूठी बयानबाजी व झूठा प्रचार करने की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री और उप्र सरकार की ही है।"

इस मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से रिपोर्ट तलब की है। योगी ने शुक्रवार शाम तक यह रिपोर्ट मांगी है। साथ ही मुख्यमंत्री ने यह आदेश भी दिया कि पीड़िता को सरकारी खर्च के लिए हर संभव मदद दी जाए। कमिश्नर और आईजी को घटनास्थल का मुआयना करने के लिए भेजा गया है। इस मामले के सभी पांचों आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने इस घटना पर कहा, "पहले इन आरोपियों को मैंने ही जेल भिजवाया था। यह बहुत ही निंदनीय अपराध है। जो भी दोषी हैं, उसे बक्शा नहीं जाएगा। दुष्कर्म करने वालों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए।"

-- आईएएनएस

 

 

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss