उन्नाव मामले में सरकार को विपक्ष ने घेरा, मांगा मुख्यमंत्री का इस्तीफा
Thursday, 05 December 2019 18:32

  • Print
  • Email

लखनऊ: उन्नाव की सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को जलाने की घटना के बाद अब राजनीतिक दलों ने सत्ता पक्ष को घेरना शुरू कर दिया है। समाजवादी पार्टी(सपा)और कांग्रेस ने मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग की है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, "उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता को जिंदा जलाए जाने के दुस्साहस की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए प्रदेश की भाजपा सरकार का सामूहिक इस्तीफा होना चाहिए। न्यायालय से गुहार है कि वो इस घटना की गंभीरता को देखते हुए पीड़िता के समुचित उपचार व सुरक्षा की तत्काल व्यवस्था के निर्देश दे।"

समाजवादी पार्टी से विधान परिषद सदस्य सुनील सिंह यादव 'साजन' ने आरोप लगाया कि पीड़िता को जलाने वालों की गाड़ी पर भाजपा के झंडे लगे हैं। वह पीड़िता को देखने सिविल हॉस्पिटल पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने घोषणा की कि पीड़िता के इलाज का पूरा खर्च समाजवादी पार्टी उठाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने उन्नाव में दुष्कर्म पीड़िता को जलाए जाने की घटना को सरकार के लिए कलंक बताया है।

उन्होंने कहा, "प्रदेश अपराधियों का चारागाह बन चुका है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से प्रदेश नहीं संभल रहा है। उन्हें गोरखपुर लौट जाना चाहिए।"

ज्ञात हो कि उन्नाव की सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को गुरुवार तड़के जिंदा जलाने के प्रयास के मामले ने तूल पकड़ लिया है। लखनऊ के सिविल अस्पताल में भर्ती पीड़िता की हालत नाजुक है।

उधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लेते हुए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि पीड़िता को सरकारी खर्च पर हर संभव चिकित्सा दी जाए। इसके साथ ही योगी ने जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर कोर्ट से प्रभावी दंड दिलाने के लिए हर संभव प्रयास किए जाए।

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने लखनऊ के कमिश्नर और आईजी को तत्काल घटनास्थल का निरीक्षण कर आज शाम तक अपनी रिपोर्ट उपलब्ध कराने का निर्देश दिए हैं। उन्नाव पुलिस मामले में 5 आरोपियों को गिरफ्तार करके पूछताछ कर रही है।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss