कश्मीर मुद्दे पर नेकां नेता ने की पाकिस्तान की भूमिका की तारीफ
Thursday, 12 September 2019 19:57

  • Print
  • Email

श्रीनगर: नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) के नेता और सांसद अकबर लोन ने कश्मीर मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उठाने और भारत पर दबाव बनाने को लेकर पाकिस्तान की भूमिका की तारीफ की।

हालांकि, उन्होंने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में जब भी मतदान होंगे उनकी पार्टी चुनाव में उतरेगी।

आईएएनएस को दिए एक साक्षात्कार में लोन ने कहा, "पूर्व में चुनाव लड़ना एक मजबूरी रही क्योंकि कश्मीरियों का भारत से संबंध नहीं है।"

उन्होंने कहा, "नए चुनावों में से नई विधानसभा को क्या अधिकार दिए जाएंगे पहले हमें यह जानना होगा। नेशनल कॉन्फ्रेंस का कार्यकर्ता होने के नाते में बताना चाहता हूं, यदि चुनाव होते हैं, तो हमें उसमें हिस्सा लेना ही होगा।"

अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने और जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने पर, उन्होंने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियों को चाहिए कि वे राज्य के विशेष दर्जे को पुन: लागू कराने के बाबत एक साथ आएं और एक स्वर में बात करें।

लोन ने आगे कहा, "सभी पार्टी जैसे, कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी और सभी छोटी बड़ी पार्टियों को चाहिए कि वह साथ आएं और राज्य के विशेष दर्जे को वापस बनाए रखने के लिए कार्य करें।"

लोन ने कहा कि विशेष दर्जा छिने जाने के बाद राज्य में लगाए गए प्रतिबंध कश्मीरी के लोगों को अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करने से रोक रहे हैं।

उन्होंने कहा, "कश्मीर में सेना का शासन है। राज्य की प्रत्येक गली और नुक्कड़ पर सेना और अर्धसैनिक बलों का पहरा है। लोगों को बाहर आने की इजाजत नहीं है। यदि उन्हें बाहर आने दिया जाएगा तो वह अपनी नाराजगी जाहिर करेंगे।"

उन्होंने कहा कि वह कश्मीर के मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीय करण करने के लिए और भारत की सरकार पर दबाव बनाने के लिए पाकिस्तान की भूमिका की सराहना करते हैं।

लोन ने कहा, "यह अच्छी बात है कि अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान, चीन, अमेरिका या फिर दूसरे देश कश्मीर मुद्दे को लेकर बाते कर रहे हैं।"

लोन ने पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला की तुरंत रिहाई की मांग की। उन्होंने साथ ही कहा कि भविष्य की योजना पर चर्चा करने के लिए पार्टी नेतृत्व को इन वरिष्ठ नेताओं से मिलने की अनुमति दी जाए।

लोन ने कहा, "हमें अपने नेताओं से मिलने की अनुमति दी जाए और उन्हें तुरंत रिहा किया जाए।"

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss