बिना किसी पर्यटक के कश्मीर की सुनहरी शरद ऋतु की शुरुआत
Saturday, 07 September 2019 16:37

  • Print
  • Email

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर में शरद ऋतु की शुरुआत हो चुकी है, लेकिन सवाल यह है कि पर्यटक कहां हैं?

खरबूजों और सब्जियों से भरे खेत हैं। ग्रामीण इलाकों में उगने वाले सुनहरे दाने हैं। सेब, नाशपाती और खुबानी से पेड़ लदे हैं। अंगूरों से शाखाएं झुकी हैं। यह सभी घाटी में शरद ऋतु के आगमन का स्वागत कर रहे हैं।

शरद ऋतु में सुबह और शाम को चलने वाली वायु ने कई बार इस मौसम को हनीमून मनाने वालों, पर्वतारोहियों, प्रकृति प्रेमियों और रोमांच चाहने वाले लोगों के लिए अनूठा बना दिया है।

लेकिन इस साल बुरी खबर यह है कि श्रीनगर शहर में स्थित डल और नागिन झीलों पर होटल और हाउसबोट्स के साथ-साथ सोनमर्ग, गुलमर्ग और पहलगाम के हिल स्टेशनों में होटल आदि सब बंद हैं।

अनुच्छेद 370 के रद्द होने और जम्मू एवं कश्मीर राज्य से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने के बाद से कश्मीर में पर्यटन एक दम से ठप पड़ा है। अनिश्चितता के आगे सभी पर्यटक घाटी छोड़ कर जा चुके हैं।

इस अनिश्चितता ने स्थानीय पर्यटन उद्योग को, होटल व्यवसायियों, हाउसबोट मालिकों, टैक्सी चालकों और टूर व ट्रैवल ऑपरेटरों को गहरा झटका दिया है।

सोनमर्ग हिल स्टेशन के एक होटल के मालिक मीर सुहैल ने कहा, "इस शरद ऋतु के लिए हमारे पास बुकिंग थी। तीन बॉलीवुड फिल्म यूनिट्स ने हमारे पास एडवांस बुकिंग कराई थी। हमने ट्रैवल ऑपरेर्ट्स से इस बुकिंग के संदर्भ में एडवांस ले लिया था। इन सभी को रद्द कर दिया गया है।"

उन्होंने कहा, "हमने अगले वसंत तक परिचालन बंद कर दिया है। अगले साल खुलने तक हम सर्किट में कैसे रहेंगे, यह हमारी समझ से परे है?"

एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने कहा, "महाराष्ट्र सरकार ने एक पहलगाम में और दूसरा लद्दाख क्षेत्र में दो प्रमुख पर्यटन रिजॉर्ट बनाने की पेशकश की है।"

अधिकारी ने कहा, "बॉलीवुड को लुभाने के लिए कश्मीर में उनके पसंदीदा स्थानों पर एक फिल्म सिटी स्थापित करने का भी प्रस्ताव है।"

उन्होंने कहा, "यह सुनिश्चित करने के लिए अन्य बड़ी योजनाएं हैं कि कश्मीर में पर्यटन अपनी खोई हुई महिमा को फिर से हासिल करे।"

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.