नेताजी, आंबेडकर को याद करने के लिए कांग्रेस ने भाजपा की खिल्ली उड़ाई

कांग्रेस ने सोमवार को भाजपा पर स्वतंत्रता संग्राम के महानायकों को हथियाने का प्रयास करने का आरोप लगाया, और आजादी के 70 वर्षो बाद महात्मा गांधी, सरदार पटेल, बी.आर. आंबेडकर और सुभाष चंद्र बोस जैसे नायकों को याद करने के लिए भाजपा की खिल्ली उड़ाई। कांग्रेस महासचिव व राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "यह स्थिति कुछ ऐसी है कि 'विरासत हमारी, कब्जा ये कर रहे हैं'।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को नेताजी द्वारा स्थापित आजाद हिंद सरकार की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर कहा था, "नेताजी सुभाष चंद्र बोस, आंबेडकर और सरदार पटेल जैसे नेताओं के योगदान को एक परिवार को बड़ा दिखाने के लिए भुला दिया गया।"

मोदी ने रविवार को लालकिले पर राष्ट्रध्वज फहराया और नेहरू-गांधी परिवार पर बोस जैसे राष्ट्रवादी नेताओं को दरकिनार किए जाने को लेकर निशाना साधा।

इस संदर्भ में मोदी की टिप्पणी के बाद कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की।

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने रविवार को कहा था, "मोदी को पता है कि संघ परिवार का इससे दूर-दूर तक नाता नहीं है और स्वतंत्रता संग्राम में भी उनकी कोई भूमिका नहीं है। इसलिए, जल बिन मछली की तरह वे नेताजी की विरासत को हथियाने के लिए छटपटा रहे हैं और उन्हें राजनीति में घसीट रहे हैं।"

गहलोत ने आरएसएस पर अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मतदाताओं का ध्रुवीकरण करने का आरोप लगाया। आरएसएस प्रमुख ने अपने वार्षिक दशहरा भाषण में उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने के लिए कानून लाने की बात कही थी।

--आईएएनएस