प्रकाश पर्व समारोह का गतिरोध तोड़ना चाहते हैं अमरिंदर
Saturday, 26 October 2019 20:52

  • Print
  • Email

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के संयुक्त समारोह पर गतिरोध को खत्म करते हुए शनिवार को प्रस्ताव दिया कि एसजीपीसी 12 नवंबर को राज्य सरकार की तरफ से आयोजित समारोह से जुड़ जाए, जिसमें राष्ट्रपति हिस्सा लेने वाले हैं। अमरिंदर ने कहा कि 11 नवंबर का मुख्य समारोह सुल्तानपुर लोधी में आयोजित होगा, जिसमें केंद्रीय गृहमंत्री हिस्सा ले सकते हैं, और उसे एसजीपीसी के बैनर तले आयोजित किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने यह सुझाव यहां शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी एसजीपीसी के अध्यक्ष गोबिंद सिंह लोंगोवाल के साथ अपनी बैठक में दिया।

मुख्यमंत्री ने बैठक के लिए लोंगोवाल को यहां अपने सरकारी आवास पर बुलाया था।

सरकार के एक प्रवक्ता के अनुसार, मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान इस ऐतिहासिक अवसर पर एकता के अभाव को लेकर चिंता जाहिर की, खासतौर से जब विभिन्न आयोजनों में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री जैसी हस्तियां शामिल हो रही हों।

अमरिंदर ने ऐसी स्थिति को हर संबंधित व्यक्ति के लिए शर्मिदगी भरा बताते हुए कहा कि सिख समुदाय अतीत में इस तरह के आयोजनों में हमेशा एकजुट रहा है।

उन्होंने आगाह किया कि अतीत की परंपरा से जरा भी हटने से समुदाय को अपूरणीय क्षति होगी।

लोंगोवाल ने मुख्यमंत्री को बताया कि केंद्रीय गृहमंत्री और राष्ट्रपति क्रमश: 11 और 12 नवंबर को सुल्तानपुर लोधी में समारोह में मौजूद रहेंगे।

इसके जवाब में मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया कि सुल्तानपुर लोधी में गुरुद्वारा परिसर के अंदर एसजीपीसी के मंच को 11 नवंबर को आम मंच के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है, और वहां समारोह में राज्य सरकार भी शामिल हो सकती है।

उन्होंने प्रस्ताव दिया कि चूंकि 12 नवंबर के कार्यक्रम में राष्ट्रपति हिस्सा लेंगे, लिहाजा राज्य सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि वह राष्ट्राध्यक्ष के ओहदे को ध्यान में रखते हुए उनकी मेजबानी करे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे मुख्य आयोजन को लेकर जनता में व्याप्त भ्रम दूर करने में मदद मिलेगी और यह संदेश भी जाएगा कि सिख समुदाय के बीच एकता है।

प्रवक्ता ने कहा कि लोंगोवाल ने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि एसजीपीसी इस प्रस्ताव पर विचार करेगी और इस बारे में जल्द ही बता दिया जाएगा।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss