दिल्ली : मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों को बंधक बनाने पर रिपोर्ट मांगी

दिल्ली सरकार ने पुरानी दिल्ली में एक स्कूल में समय पर ट्यूशन फीस जमा नहीं करने वाले कुछ बच्चों को स्कूल में पांच घंटे तक बंधक बना कर रखने के मामले में बुधवार को रिपोर्ट मांगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और शिक्षा विभाग संभालने वाले उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने शिक्षा सचिव को मामले में रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया है।

शिक्षा विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी गुरुवार को मामले की जांच के लिए चांदनी चौक स्थित राबिया स्कूल का दौरा करेंगे।

सिसौदिया ने बुधवार को ट्वीट किया, "मैं स्तब्ध हूं। मैंने कल (मंगलवार) को जब यह सुना तो अधिकारियों को तुरंत सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया।"

केजरीवाल ने भी ट्वीट किया कि वह सिसौदिया के साथ गुरुवार सुबह 10 बजे स्कूल जाएंगे और बच्चों, उनके परिजनों और स्कूल प्रशासन से मुलाकात करेंगे।

उनकी यह प्रतिक्रिया फीस जमा नहीं होने पर स्कूल प्रशासन द्वारा सोमवार को 4-5 साल के बच्चों को कथित रूप से कैद करने की खबर फैलने के बाद आई।

इसके बाद स्कूल की प्रधानाध्यापिका फरहा दीबा खान सहित स्कूल प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज हुआ।

मामला दर्ज कराने वाले शबीन हसन ने बताया कि उन्होंने अपनी दो बेटियों को सोमवार सुबह 7.30 बजे स्कूल छोड़ा था। उन्होंने बताया कि स्कूल का समय समाप्त होने पर जब वे उन्हें लेने गए तो उन्होंने अपनी बेटियों को उनकी कक्षा में नहीं पाया।

उन्होंने प्राथमिकी में कहा, "मैंने जब स्कूल कर्मियों से पूछा तो मुझे पता चला कि कुछ बच्चों को पढ़ाई के समय स्कूल के बेसमेंट में बिना खाने-पीने के जबरन रखा गया। हमने पुलिस को सूचना दी, उसके बाद बच्चों को आजाद किया गया।"

हसन ने आईएएनएस को बताया कि पीड़ित परिजनों ने स्कूल प्रबंधन से पहले ही कहा था कि वे दो दिन में बकाया फीस चुका देंगे।

--आईएएनएस