दिल्‍ली के CM और 3 मंत्री LG के घर डटे, केजरीवाल ने कहा- सुप्रभात दिल्लीवासियों, संघर्ष जारी है
Tuesday, 12 June 2018 08:32

  • Print
  • Email

दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल के बीच एक बार फिर टकराव की स्थिति है.  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपनी मांगों को लेकर उपराज्यपाल अनिल बैजल के घर सोमवार शाम से धरने पर बैठे हैं. उनके साथ डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, मंत्री गोपाल राय, सत्येंद्र जैन भी पूरी रात धरने पर रहे. केजरीवाल दिल्ली सरकार की डोर टू डोर राशन योजना को मंज़ूरी देने और पिछले चार महीने से सरकार के कामकाज का बहिष्कार करनेवाले अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. केजरीवाल का आरोप है कि एलजी इस मामले में ढीला-ढाला रवैया अपना रहे हैं. अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि उनके पास सीबीआई, पुलिस, ईडी, आईटी, आईएएस, एसीबी- सब कुछ है. फिर वो इतना घबराए क्यों हैं? हमारे साथ सत्य है, आत्मबल है. इसीलिए चेहरों पर सुकून और मुस्कान है. सत्य में बड़ी ताक़त होती है.

- मुख्यमंत्री के बंगले के बाहर स्टेज तैयार हो रहा है. सीएम हाउस के बाहर ही अब धरना होगा. LG हाउस अब कार्यकर्ता नहीं आएंगे.

- मनीष सिसोदिया ने उपराज्‍यपाल अनिल बैजल ट्वीट करके कहा कि हमारे स्कूलों में वाइट वॉश का काम गर्मी की छुट्टियों में होना था. इस बार आपके आईएएस अधिकारियों की हड़ताल के चलते ये काम शुरू ही नहीं हुआ. बड़ी मुश्किल से सरकारी स्कूलों की चमक लौटनी शरू हुई थी. इसका काम बंद करवाकर आप कह रहे हैं. आईएएस अफसर काम तो कर रहे हैं.

- दिल्‍ली की सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा कि मेरे प्यारे दिल्लीवासियों, सुप्रभात! संघर्ष जारी है.

- दिल्‍ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने ट्वीट करके कहा कि सुप्रभात साथियों, दिल्ली की जनता को उनके अधिकार दिलाने के लिए हमारा यह संघर्ष जारी है. इंक़लाब जिंदाबाद.

- धरने पर बैठे मनीष सिसोदिया ने मंगलवार सुबह-सुबह एलजी को ट्वीट किया. इस ट्वीट में लिखा है कि दिल्ली के सीएम और 3 मंत्री सोमवार शाम से अब तक आपके वेटिंग रूम में आपका इंतज़ार कर रहे हैं. हमें उम्मीद है कि आज आप अपने व्यस्त समय से हमारे कुछ वक़्त निकाल सकेंगे.

दिल्‍ली सरकार की ये हैं तीन मांग
1- पहली अधिकारी कथित हड़ताल खत्म करें 
2- दूसरा काम रोकने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई हो
3- तीसरा राशन की डोर टू डोर योजना पास की जाए.

उधर, मधुमेह के शिकार मुख्यमंत्री को इस दौरान इंसुलिन लेना पड़ा है और उन्होंने घर का बना खाना खाया. कई आप विधायकों ने भी राज्यपाल कार्यालय के बाहर डेरा डाल दिया. पुलिस ने वहां बैरीकेड लगा दिए. केजरीवाल ने उप राज्यपाल (एलजी) कार्यालय के प्रतीक्षा कक्ष से शाम छह बजे ट्वीट किया कि बैजल को एक पत्र सौंपा गया लेकिन उन्होंने कार्रवाई करने से इनकार कर दिया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘उन्हें पत्र सौंपा. एलजी ने कार्रवाई करने से इनकार कर दिया. कार्रवाई करना एलजी का संवैधानिक कर्तव्य है. कोई विकल्प नहीं बचने पर हमने एलजी से विनम्रता से कहा है कि जब तक वह सभी विषयों पर कार्रवाई नहीं करेंगे, तब तक वे वहां से नहीं जाएंगे.’’

वहीं एलजी अनिल बैजल का कहना है कि केजरीवाल ने धमकी भरे अंदाज़ में अधिकारियों की हड़ताल ख़त्म कराने की मांग की. अफ़सरों में डर और अविश्वास का माहौल है, जिसे सीएम ही दूर कर सकते हैं. लेकिन उनसे सकारात्मक बातचीत की कोशिश तक नहीं हुई. डोर-टू-डोर राशन डिलीवरी की फ़ाइल 3 महीने से मंत्री इमरान हुसैन के साथ है. इसके लिए केंद्र की मंज़ूरी ज़रूरी है.

इससे पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को विधानसभा में कहा कि अगर बीजेपी दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देती है तो 2019 में वो बीजेपी के लिए प्रचार करेंगे, दिल्ली का एक-एक वोट उसे मिलेगा, लेकिन इसके लिए बीजेपी को उनकी शर्त माननी होगी.

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss