Print this page

केंद्र ने निर्दोषों को फंसाने वाला 'गुजरात मॉडल' लागू किया : दिग्विजय
Saturday, 07 September 2019 09:34

भोपाल: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम का बचाव करते हुए शुक्रवार को केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि केंद्र की सरकार झूठे मामलों में निर्दोषों को फंसाने वाले गुजरात मॉडल को लागू कर रही है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा, "ये लोग आज सत्ता में शासन का गुजरात मॉडल लागू कर रहे हैं। निर्दोष लोगों को फंसा रहे हैं, झूठे मामले दर्ज कर रहे हैं, जैसा कि इन्होंने गुजरात में किया था।"

दिग्विजय सिंह ने चिदंबरम के खिलाफ ईडी की कार्रवाई के बारे में पूछे जाने पर कहा, "मैं इसकी निदा करता हूं। उन्हें झूठा फंसाया गया है। किसी भी मामले में उनके खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है। चिदंबरम को मैं 1984-85 से जानता हूं। वह ईमानदार हैं और कभी भी नियम और कानून के खिलाफ काम नहीं करते हैं।"

ज्ञात हो कि आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्तमंत्री पी़ चिदंबरम को गुरुवार को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया गया।

वन मंत्री उमंग सिघार की ओर से लगाए गए गंभीर आरोपों पर दिग्विजय कहा कि मंत्रियों और जन प्रतिनिधियों को पत्र लिखना उनका अधिकार और कत्र्तव्य है, क्योंकि वह सांसद हैं। उन्होंने कहा कि ये पत्र उन्हीं कार्यकर्ताओं से जुड़े मामलों के होते हैं, जिनके प्रयास से राज्य में कांग्रेस की सरकार बनी है।

ज्ञात हो कि राज्य के वन मंत्री सिघार ने दिग्विजय सिह पर शराब, रेत और परिवहन के अवैध कारोबार से जुड़े लोगों को संरक्षण देने का आरोप लगाया था और पार्टी अयक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा था।

सिह ने कहा, "मध्य प्रदेश और देश की जनता जानती है कि दिग्विजय सिह क्या हैं। अगर आज ये सब आरोप मेरे ऊपर प्रमाणित होते तो क्या मैं इतना खुलकर भाजपा की मुखालफत कर पाता, वह भी तब जब केंद्र में भाजपा की सरकार है।"

उन्होंने आगे कहा, "भाजपा विपक्ष में रहने को पचा नहीं पा रही है। सत्ता भोगी इतने हो गए हैं कि वे राज्य की सत्ता से बाहर होने पर बहुत परेशान हैं। घोटालों की परतें खुलती जा रही हैं, ई-टेंडरिग में सब फंस रहे हैं। जो फर्जी लोगों को पैसा मिलता था, उसकी जांच हो रही है। इससे वे परेशान हैं। लगभग 300-350 परियोजनाओं में ई-टेंडरिग के माध्यम से पैसा कमाया गया है। ये सारी बातें सामने आ रही हैं।"

वन मंत्री के आरोपों पर पार्टी के रवैए के सवाल पर सिह ने कहा, "हम सभी कांग्रेस के हैं। पार्टी के प्रदेशायक्ष कमलनाथ और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ही इस मसले पर निर्णय लेंगी। मैं सभी कांग्रेसजनों से अनुशासन का पालन करने की अपील करता हूं।"

उन्होंने आगे कहा, "मेरी राजनैतिक लड़ाई भाजपा की विचाराारा से है। मैंने कभी इस मामले में समझौता नहीं किया। ये वह विचाराारा है, जिसने देश की एकता को तोड़ने का काम किया है।"

वनमंत्री उमंग सिघार ने आरोप लगाया था कि सिह पर्दे के पीछे से सरकार चला रहे हैं। इस पर सिह ने कहा, "मुख्यमंत्री कमलनाथ की शख्सियत वह नहीं है। वह इतने कमजोर नहीं हैं कि उनको किसी और की आवश्यकता पड़े।"

ज्ञात हो कि सिघार ने पूर्व मुख्यमंत्री सिह पर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि अगर शराब, रेत और परिवहन मामले की जांच हो जाए तो दिग्विजय कहां-कहां उलझे हैं, सब सामने आ जाएगा।

सिघार ने पार्टी अयक्ष सोनिया गांधी और प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया को पत्र भी लिखा था। इस मामले के तूल पकड़ने पर सिघार की मुख्यमंत्री कमलनाथ से भी मुलाकात हुई थी, जिसमें उन्हें बयानबाजी से बचने की सलाह दी गई थी। साथ ही पार्टी हाईकमान ने एक दिशानिर्देश भी जारी किया था और सभी को पार्टी की बात सार्वजनिक तौर पर न करने की हिदायत दी गई थी।

-- आईएएनएस