दिग्विजय ने मंत्री सिंघार के आरोपों को खारिज किया
Friday, 06 September 2019 18:20

  • Print
  • Email

भोपाल: मध्य प्रदेश के वन मंत्री उमंग सिंघार की ओर से गंभीर आरोप लगाए जाने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को मीडिया के सामने आकर सफाई दी और उन आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि देश की जनता सच जानती है, और उनकी लड़ाई तो भाजपा की विचारधारा से है। ज्ञात हो कि राज्य के वन मंत्री सिंघार ने दिग्विजय सिंह पर शराब, रेत और परिवहन के अवैध कारोबार से जुड़े लोगों को संरक्षण देने का आरोप लगाया था और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा था। सिंह शुक्रवार को मीडिया के सामने आए और उन्होंने आरोपों को गलत बताया। उन्होंने कहा, "मध्य प्रदेश और देश की जनता जानती है कि दिग्विजय सिंह क्या हैं। अगर आज ये सब आरोप मेरे ऊपर प्रमाणित होते तो क्या मैं इतना खुलकर भाजपा की मुखालफत कर पाता, वह भी तब जब केंद्र में भाजपा की सरकार है।"

उन्होंने आगे कहा, "भाजपा विपक्ष में रहने को पचा नहीं पा रही है। सत्ता भोगी इतने हो गए हैं कि वे राज्य की सत्ता से बाहर होने पर बहुत परेशान हैं। वहीं घोटालों की परतें खुलती जा रही हैं, ई-टेंडरिंग में सब फंस रहे हैं, जो फर्जी लोगों को पैसा मिलता था, उसकी जांच हो रही है। इससे वे परेशान हैं। लगभग 300-350 परियोजनाओं में ई-टेंडरिंग के माध्यम से पैसा कमाया गया है। ये सारी बातें सामने आ रही हैं।"

वन मंत्री द्वारा लगाए गए आरोपों पर पार्टी के रवैए के सवाल पर सिंह ने कहा, "हम सभी कांग्रेस के हैं। पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ही इस मसले पर निर्णय लेंगी। मैं सभी कांग्रेसजनों से अनुशासन का पालन करने की अपील करता हूं।"

पूर्व मुख्यमंत्री सिंह से जब सवाल किया गया कि क्या वह वन मंत्री सिंघार से मुलाकात करेंगे तो उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा, "मुझे टाइबिटीज नहीं है, मीठी चाय पीता हूं।"

उन्होंने आगे कहा, "मेरी राजनैतिक लड़ाई भाजपा की विचारधारा से है। मैंने कभी इस मामले में समझौता नहीं किया। ये वह विचारधारा है, जिसने देश की एकता को तोड़ने का काम किया है।"

वनमंत्री उमंग सिंघार ने आरोप लगाया था कि सिंह पर्दे के पीछे से सरकार चला रहे हैं। इस पर सिंह ने कहा, "मुख्यमंत्री कमलनाथ की शख्सियत वह नहीं है। वह इतने कमजोर नहीं हैं कि उनको किसी और की आवश्यकता पड़े।"

ज्ञात हो कि सिंघार ने पूर्व मुख्यमंत्री सिंह पर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि अगर शराब, रेत और परिवहन मामले की जांच हो जाए तो दिग्विजय कहां-कहां उलझे हैं, सब सामने आ जाएगा।

सिंघार ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया को पत्र भी लिखा था। इस मामले के तूल पकड़ने पर सिंघार की मुख्यमंत्री कमलनाथ से भी मुलाकात हुई थी, जिसमें उन्हें बयानबाजी से बचने की सलाह दी गई थी। साथ ही पार्टी हाईकमान ने एक गाइडलाइन भी जारी की थी और सभी को पार्टी की बात सार्वजनिक तौर पर न करने की हिदायत दी गई थी।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss