नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के जल्दी स्वस्थ होने की कामना की है।

धवन अंगूठे में चोट के कारण इंग्लैंड एंड वेल्स में जारी विश्व कप से बाहर हो गए हैं।

विश्व कप से बाहर होने के बाद धवन ने एक वीडियो ट्वीट किया था। इस ट्वीट को रिट्वीट कर प्रधानमंत्री ने लिखा है, "प्रिय धवन, इसमें कोई शक नहीं है कि पिच आपको याद करेगी, लेकिन मुझे उम्मीद है कि आप जल्दी से जल्दी ठीक हो जाएंगे और एक बार फिर मैदान पर वापसी करेंगे और देश की कई जीतों में अपना योगदान देंगे।"

धवन को पांच जून को आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए मैच में पैट कमिंस की गेंद पर अंगूठे में चोट लग गई थी। धवन ने उस मैच में 109 गेंदों पर 117 रनों की पारी खेली थी।

बुधवार को बीसीसीआई ने धवन के विश्व कप के बाकी मैच न खेलने की पुष्टि कर दी थी और आईसीसी से युवा ऋषभ पंत को टीम में शामिल करने की अपील की थी जिसे क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था ने मान लिया था।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

रांची: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए गुरुवार रात रांची पहुंचेंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार, मोदी गुरुवार रात दस बजे रांची पहुंचेंगे। उनका स्वागत झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवरदास व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू करेंगी।

प्रधानमंत्री राजभवन में रात्रि विश्राम करेंगे। वह शुक्रवार सुबह रांची के प्रभात तारा ग्राउंड में कार्यक्रम में भाग लेंगे।

रांची उपायुक्त राय महिपत रे ने मीडिया से कहा, "कार्यक्रम के लिए सभी तैयारियां कर ली गई हैं। हमने प्रतिभागियों को ग्राउंड में लाने के लिए बस की व्यवस्था की है। बसें मध्य रात्रि के बाद 1 बजे से 3 बजे तक चलेंगी, सभी प्रतिभागियों को सुबह 4 बजे तक ग्राउंड में पहुंचना है।"

उन्होंने कहा, "करीब 40,000 लोगों के भाग लेने की संभावना है। 10,000 लोगों ने ऑनलाइन आवेदन किया है और 4,500 लोगों ने इसके पास मांगें हैं।"

रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) अनीश गुप्ता ने मीडिया से कहा, "व्यापक सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। कार्यक्रम स्थल पर ग्यारह प्रवेश द्वार बनाए गए हैं। करीब 100 सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं।"

पुलिस के अनुसार, कार्यक्रम के लिए 4,000 से ज्यादा सुरक्षाकर्मी तैनात होंगे।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान से कहा है कि भारत उनके देश के साथ सामान्य और सहयोगी संबंध चाहता है, लेकिन इसके लिए 'विश्वास का माहौल, आतंक, हिंसा व शत्रुता से मुक्त माहौल' बनाने की जरूरत है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस महीने की शुरुआत में मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनने के लिए बधाई संदेश भेजा था, जिसके जवाब में प्रधानमंत्री ने यह संदेश उन्हें भेजा।

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने भी अपने पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी को उनके बधाई संदेश के जवाब में यही संदेश दिया।

मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, "स्थापित कूटनीतिक प्रथा के तहत, प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री ने पाकिस्तान के अपने समकक्षों से प्राप्त शुभकामना संदेश के जवाब में यह प्रतिक्रिया दी।"

प्रवक्ता ने कहा, "अपने संदेशों में, दोनों ने उल्लेख किया कि भारत पाकिस्तान समेत अपने पड़ोसी देशों के साथ सामान्य और सहयोगी संबंध चाहता है।"

प्रधानमंत्री ने कहा, "इसके लिए, यह जरूरी है कि आतंक, हिंसा और शत्रुता से मुक्त और विश्वास का माहौल बनाया जाए।"

प्रवक्ता ने कहा, "जयशंकर ने भी 'आतंक और हिंसा से मुक्त माहौल' बनाने की जरूरत पर जोर दिया।"

--आईएएनएस

Published in दुनिया

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक राष्ट्र एक चुनाव पर चर्चा के लिए बुधवार को एक सर्वदलीय बैठक की, लेकिन निर्वाचन आयोग के सूत्रों ने कहा है कि यह विचार फिलहाल संभव नहीं है।

एक पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने भी कहा कि यह प्रस्ताव जितना उचित है, उतना ही अनुचित भी है।

निर्वाचन आयोग के एक शीर्ष सूत्र ने कहा कि यदि यह विचार संभव होता तो आयोग ने इस साल लोकसभा और विधानसभा चुनाव एकसाथ कराए होते।

निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव सात चरणों में कराए थे, जो 11 अप्रैल से शुरू हुआ था और 19 मई तक चला था। चुनाव परिणाम 23 मई को घोषित हुए थे।

सूत्रों ने यह भी कहा कि एकसाथ चुनाव कराने में कानून-व्यवस्था का मुद्दा बहुत चुनौतीपूर्ण हो सकता है, क्योंकि केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की संख्या सीमित है।

उन्होंने यह भी कहा कि देश में 90 करोड़ से अधिक मतदाता हैं और एकसाथ चुनाव की तैयारी करना फिलहाल काफी कठिन काम है।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सर्वदलीय बैठक में कहा कि 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' की योजना के संबंध में विभिन्न मुद्दों पर विचार करने के लिए एक समिति गठित की जाएगी।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने लगभग साढ़े तीन घंटे चली बैठक के बाद मीडिया से कहा, "बैठक में पांच प्रमुख एजेंडों पर चर्चा हुई, जिसमें 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' शामिल था।"

उन्होंने कहा कि सिर्फ भाकपा और माकपा को छोड़कर बैठक में उपस्थित सभी विपक्षी पार्टियों ने इस विचार का समर्थन किया।

रक्षामंत्री ने कहा, "सिर्फ भाकपा और माकपा ने अलग राय जाहिर की। दोनों ने कहा कि इसे लागू कैसे किया जा सकता है।"

सिंह ने कहा कि 40 से अधिक पार्टियों को बैठक में आमंत्रित किया गया था, जिसमें से 21 पार्टियों के अध्यक्षों ने हिस्सा लिया। तीन ने कुछ कारणों से बैठक में शामिल होने में असमर्थता जताई।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' के प्रस्ताव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गई बैठक यहां बुधवार को शुरू हो गई। आठ मुख्य विपक्षी दल इसमें शामिल नहीं हो रहे हैं। भाजपा के अलावा बैठक में अकाली दल के सुखबीर सिंह बादल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार, जनता दल-युनाइटेड के नेता नीतीश कुमार, बीजू जनता दल के अध्यक्ष नवीन पटनायक, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के प्रमुख वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी, भाकपा के डी.राजा और एस सुधाकर रेड्डी, माकपा के सीताराम येचुरी, टीआरएस अध्यक्ष के.टी. रामाराव, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की नेता महबूबा मुफ्ती और नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला शामिल हुए।

इस बैठक में कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी, द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, तेलुगू देशम पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल शामिल नहीं हुईं।

प्रधानमंत्री ने पूरे देश में एकसाथ चुनाव कराने की अपनी पहल के लिए और नीति आयोग के 28 राज्यों के 117 जिलों में सामाजिक-आर्थिक विकास को गति देने के प्रस्ताव के लिए यह बैठक बुलाई है।

सरकार ने बैठक के लिए संसद में प्रतिनिधित्व कर रहे सभी दलों के प्रमुखों को आमंत्रित किया था।

बैठक में केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी, जे.पी. नड्डा और प्रह्लाद जोशी समेत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सहयोगियों ने शिरकत की।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों का लोकसभा में परिचय करवाया, जिसकी शुरुआत उन्होंने रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से की। नवनियुक्त अध्यक्ष ओम बिड़ला के संक्षिप्त भाषण के बाद, मोदी ने एक-एक करके सत्ता पक्ष के सदस्यों के मेज थपथपाने के बीच मंत्रियों का परिचय करवाया।

हर बार जब प्रधानमंत्री किसी मंत्री का नाम पढ़ते थे, तो उक्त मंत्री हाथ जोड़कर खड़ा हो जाता। राजनाथ सिह के बाद गृहमंत्री अमित शाह का सदन से परिचय करवाया गया।

उसके बाद सदन को दिनभर के लिए स्थगित कर दिया गया।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को 49 वर्ष के हो गए और इस अवसर पर कांग्रेस ने जश्न मनाया। उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जन्मदिन की बधाई दी। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पार्टी महासचिव के.सी. वेणुगोपाल समेत कई पार्टी समर्थक राहुल गांधी से मिलने और उन्हें बधाई देने के लिए अकबर रोड स्थित पार्टी कार्यालय पहुंचे।

लोकसभा चुनावों में राहुल गांधी के साथ तीखे शब्दों की लड़ाई करने वाले मोदी ने ट्वीट किया, "जन्मदिन के अवसर पर राहुल गांधी को शुभकामनाएं। ईश्वर उन्हें अच्छा स्वास्थ्य और दीघार्यु प्रदान करे।"

उन्हें प्रतिक्रिया देते हुए राहुल ने गर्मजोशी से लिखा, "नरेंद्र मोदी जी आपकी शुभकामनाओं के लिए धन्यवाद। मैं उनका सम्मान करता हूं।"

इस दौरान कांग्रेस के अकबर रोड स्थित मुख्यालय पर सुबह जश्न का माहौल था, वहां पार्टी समर्थक ढोल की धुनों पर नाच रहे थे।

ऐसा ही माहौल उनकी मां और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) अध्यक्ष सोनिया गांधी के 10 जनपथ मार्ग स्थित आवास पर था जहां युवा कांग्रेस सदस्य जश्न मना रहे थे।

राहुल गांधी मिठाई के एक डब्बे के साथ पार्टी कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने मीडिया कर्मियों को मिठाई बांटी।

इसके बाद उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ केट काटा।

राहुल गांधी की बहन और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पार्टी महासचिव के.सी. वेणुगोपाल, गुलाम नबी आजाद और अन्य नेताओं ने पार्टी मुख्यालय पर राहुल गांधी को बधाई दी।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, "मैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को उनके जन्मदिन पर बधाई देता हूं।"

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट किया, "हर प्रतिकूल परिस्थिति में आपका अदम्य साहस, हर हमले के सामने सिद्धांतों के प्रति आपकी अमिट प्रतिबद्धता, धूर्तता को गुण माने जाने के दौर में आपकी सादगी और स्पष्टवादिता आपको सबसे अलग करती है। जन्मदिन की शुभकामनाएं राहुल गांधी।"

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, "मेरे जन्मदिन पर बधाई और शुभकामनाएं देने के लिए आप सभी का धन्यवाद। आपके स्नेह और प्रेम से मैं अभिभूत हूं।"

राहुल हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनावों में वायनाड सीट से निर्वाचित हुए है। हालांकि वे अमेठी सीट पर हार गए थे। उनके नेतृत्व में कांग्रेस ने लोकसभा चुनावों में महज 52 सीटें जीती थीं जिसके बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश की थी।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: राजस्थान की कोटा-बूंदी लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद ओम बिड़ला बुधवार को 17वीं लोकसभा के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए। उन्हें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने अपना उम्मीदवार बनाया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन में बजट सत्र के तीसरे दिन बिड़ला (56) के समर्थन में प्रस्ताव पेश किया, जिसे ध्वनिमत से पारित कर दिया गया।

बिड़ला को अध्यक्ष बनाने के राजग के प्रस्ताव को राजग के सभी दलों के साथ-साथ कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस ने भी समर्थन दिया।

प्रधानमंत्री खुद बिड़ला को लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी तक ले गए। तीन बार विधायक भी रह चुके बिड़ला मध्य प्रदेश के कोटा से दूसरी बार सांसद निर्वाचित हुए हैं।

इस प्रतिष्ठित पद के लिए भाजपा ने सबको चौंकाते हुए बिड़ला को नामित किया था।

संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिड़ला के निर्विरोध निर्वाचन को महान गर्व का विषय बताया।

मोदी ने कहा, "सदन के लिए यह महान गर्व की बात है। सर्वसम्मति से लोकसभा अध्यक्ष चुने जाने पर हम बिड़ला जी को बधाई देते हैं। कई सांसद बिड़ला जी को अच्छी तरह जानते हैं। सार्वजनिक सेवा उनकी राजनीति का केंद्र बिंदु रही है।"

उन्होंने कहा, "मुझे व्यक्तिगत रूप से बिड़ला जी के साथ लंबे समय तक काम करने का अनुभव याद है। वे कोटा के प्रतिनिधि हैं। शिक्षा और अध्ययन की भूमि कोटा मिनी इंडिया है। वे कई सालों से सार्वजनिक जीवन में हैं। उन्होंने छात्र नेता के रूप में शुरूआत की। तब से निर्बाध रूप से समाजसेवा कर रहे हैं।"

बिड़ला के समर्थन में कुल 13 प्रस्ताव पेश किए गए।

मंगलवार को लोकसभा में कांग्रेस के नेता नियुक्त किए गए अधीर रंजन चौधरी ने बिड़ला से आग्रह किया कि सदन को लोकतांत्रिक परंपराओं का पालन करना चाहिए।

चौधरी ने कहा, "हम चर्चा, असहमति और निर्णय में विश्वास करते हैं। हमें अपने अधिकारों के सम्मान की अपेक्षा है। संसदीय चर्चाओं में, हमें अध्यादेश लागू करने वाले मार्ग को नजरंदाज करना होगा क्योंकि यह लोकतांत्रिक नियमों के खिलाफ है।"

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वित्त मंत्रालय के सचिवों, कुछ अन्य मंत्रालयों के सचिवों और नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) से मुलाकात कर केंद्रीय बजट 2019-20 और अर्थव्यवस्था के लिए आगे की योजनाओं पर चर्चा की। दूसरी बार प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद मोदी की खास सचिवों के साथ यह दूसरी बैठक थी।

सूत्रों के अनुसार, अपने आधिकारिक आवास पर हुई इस बैठक में मोदी ने हर विभाग में सुधार के रोडमैप पर चर्चा की। सूत्रों ने कहा कि बैठक में राजस्व बढ़ाने और जीडीपी दर में बढ़ोतरी के उपायों पर चर्चा हुई।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण पांच जुलाई को आम बजट पेश करेंगी। माना जा रहा है कि बजट में अन्य मुद्दों के साथ अर्थव्यवस्था को सुस्ती से उबारने, गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों में नगदी के संकट और कृषि क्षेत्र के सामने पेश आ रही चुनौतियों से निपटने के उपाय किए जाएंगे।

--आईएएनएस

Published in देश