गोरखपुर: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर में रोडशो कर अपनी ताकत दिखाई।

इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री शिवप्रताप शुक्ल, भाजपा विधायक राधामोहन दास और प्रत्याशी रवि किशन भी मौजूद रहे।

इस मौके पर सड़कों पर उमड़े कार्यकर्ताओं ने 'मोदी-मोदी' और 'योगी-योगी' के नारे से भाजपा की ताकत का एहसास कराया।

रोडशो में शामिल लाखों भाजपाई 'मोदी-योगी' के नारे लगा रहे थे। रोडशो शंखध्वनि और स्वस्ति वाचन के साथ शुरू हुआ। रोडशो के कारण पूरा शहर थम सा गया। शहर का वातावरण भगवामय हो गया। खुले रथ पर सवार अमित शाह और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के हाथ हिलाते ही रोडशो में शामिल कार्यकर्ता और लोग नारेबाजी शुरू कर देते थे। इस मौके पर काशी से आए डमरू दल ने पूरे मौहाल को डमरू की ध्वनि से गुंजायमान कर दिया।

पारंपरिक परिधानों में सजे लोक कलाकार और गायकों की टीम की सुरीली आवाज में गाया गया गीत फिजा में घुलता रहा।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन और प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी की अगुआई में हुए रोडशो में प्रदेश के नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, ग्रामीण विधायक विपिन कुमार सिंह, विधायक फतेहबहादुर सिंह, महापौर सीताराम जयसवाल, एमएलसी देवेंद्र सिंह भी शामिल रहे।

--आईएएनएस

कोलकाता: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बुधवार को कोलकाता में प्रस्तावित तीन रैलियों में से एक रैली रद्द कर दी गई, क्योंकि कुछ अराजक तत्वों ने रैली के मंच को तोड़ दिया और मंच बना रहे लोगों की पिटाई कर दी।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश नेतृत्व के एक करीबी सूत्र ने कहा, "फूलबागान में बी.टी. मार्ग पर होने वाली रैली के मंच को तोड़े जाने और सजावट करने वालों को पीटे जाने के बाद रैली रद्द करनी पड़ी।"

आगामी 19 मई को लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के मतदान के मद्देनजर आदित्यनाथ यहां तीन जनसभाओं -उत्तर 24 परगना जिला के हाबड़ा, उत्तर कोलकाता के फूलबागान गेट और दक्षिण कोलकाता के बेहाला में- को संबोधित करने वाले थे।

सूत्रों ने कहा कि अन्य दो जनसभाएं पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार हो रही हैं।

--आईएएनएस

गोरखपुर: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह अब उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर में रोड शो कर अपनी ताकत एहसास कराने जा रहे हैं। वे यहां 16 मई को विशाल रोड शो करने जा रहे हैं। इससे पहले वह अमेठी में भव्य रोड शो कर विरोधियों को भाजपा की ताकत का एहसास करा चुके हैं।

भाजपा के प्रदेश सह सम्पर्क प्रमुख राकेश त्रिपाठी ने बताया, "राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 16 मई को गोरखपुर में लगभग तीन किलोमीटर लंबा भव्य रोड शो करेंगे। इसके लिए कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने ताकत झोंक दी है। रोड शो में लगभग एक लाख लोगों की भीड़ जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए हमारे राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन पूरी तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कार्यकर्ताओं को इस बारे में दिशा निर्देश दिए हैं।"

त्रिपाठी ने बताया कि यह रोड शो टाउन हाल से शुरू होकर विजय चौक पर जाकर समाप्त होगा। इस दौरान खुले रथ में अमित शाह के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रत्याशी रवि किशन समेत पूवार्ंचल के अधिकांश बड़े नेता शामिल होंगे।

उन्होंने बताया कि रोड शो में विभिन्न परिधानों में सजे कलाकारों की झांकिया इसकी शोभा बढ़ाएंगी। सरकार की ओर संचालित योजनाएं- मुद्रा योजना, 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना' आदि के कट आउट से पूरे मार्ग को सजाया जाएगा।

बिरहा गायन, स्वस्ति वाचन, घण्टा घड़ियाल और शंख ध्वनि इसका मुख्य आकर्षण होंगे। जगह-जगह स्वागत में कार्यकार्ताओं और जनता द्वारा पुष्प वर्षा की जाएगी। इसके अलावा इसका मुख्य आकर्षण बनारस का डमरू दल होगा।

--आईएएनएस

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को पद्मश्री व बिरहा सम्राट हीरा लाल यादव को श्रद्धांजलि देने उनके निवास पर पहुंचे।

वहां मुख्यमंत्री योगी ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर शोक जताया। इस दौरान परिजनों को ढांढस बधाते हुए योगी ने उनके दुख की घड़ी में साथ होने की बात कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हीरा लाल यादव के निधन से अपूरणीय क्षति हुई है।

उन्होंने कहा कि हीरा लाल यादव के जाने की कमी न केवल समाज को बल्कि लोकगीत और कला क्षेत्र से जुड़े हर लोग को महसूस हो रही है। इस दौरान परिजनों ने हीरा लाल यादव की प्रतिमा लगाने और मकबूल आलम रोड का नाम बदलकर हीरा लाल यादव मार्ग करने की मांग की।

इस पर मुख्यमंत्री ने हीरा लाल यादव के प्रतिमा लगाने और मकबूल आलम रोड का नाम हीरा लाल यादव मार्ग रखने का आश्वासन दिया।

हीरालाल यादव के पुत्र बचाऊ लाल यादव ने कहा कि हमें पूरा विश्वास है कि मुख्यमंत्री ने जो भी आश्वासन दिया है, उसे वह जरूर पूरा करेंगे।

--आईएएनएस

 

 

गोरखपुर/महराजगंज: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा, और कहा कि जिस अंदाज में मुंहनोचवा को सबक सिखाया गया, उसी तरह का वोट कटवा का भी होगा।

योगी ने यहां गोरखपुर में एक चुनावी जनसभा में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के बयान का हवाला देते हुए कहा, "कांग्रेस वोट काटने के लिए खड़ी हुई है। जिस तरह से यहां की जनता ने दो वर्ष पूर्व मुंह नोचवा का जवाब दिया था, वोट कटवा पार्टी का भी यही हश्र होने वाला है।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "बुआ और बबुआ ने हमेशा खुद के विकास के लिए काम किया है। उन्हें जनता के विकास से कोई मतलब नहीं। बुआ की जब सरकार बनी तो उन्होंने अपना महल बनवाया और बबुआ की सरकार बनी तो उन्होंने सरकारी पैसे से सरकारी मकान बनवा कर टोटी ही चोरी कर ली।"

योगी ने कहा, "2014 के लोकसभा चुनाव और 2017 के विधानसभा चुनाव में जनता ने सपा और बसपा को उनके इस कृत्य पर सबक सिखाया। लोकसभा चुनाव में जनता ने हाथी को एक भी सीट न देकर अंडा दे दिया। अब जब हाथी साइकिल पर सवार होगी तो उसका पंचर होना तो तय ही है। 2019 के लोकसभा चुनाव में भी उन्हें यही परिणाम मिलने वाला है।"

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने बिना भेदभाव के विकास की गंगा बहाई है तो ऐसे में उन्हें बिना भेदभाव के वोट भी मिलना चाहिए।

योगी ने कहा, "विकास के साथ कला का संगम स्थापित करने के लिए वह फिल्म कलाकार रवि किशन को गोरखपुर लेकर आए हैं। रवि किशन के माध्यम से पूर्वी उत्तर प्रदेश में फिल्म उद्योग स्थापित होगा और पूर्वांचल के इच्छुक लोगों को भी फिल्मों में काम करने का अवसर मिल सकेगा।"

महराजगंज में मुख्यमंत्री योगी ने कहा, "सपा, बसपा और कांग्रेस को उनकी हार सुनिश्चित दिख रही है। इसी कुंठा के चलते विपक्षी दल अब प्रधानमंत्री की जाति पूछ रहे हैं।"

उन्होंने कहा कि छह चरणों में जिस तरह से जनता का समर्थन मिला है, सातवें चरण में भी यही उत्साह देखने को मिल रहा है।

महराजगंज जिले के बृजमनगंज में भाजपा प्रत्याशी पंकज चौधरी के पक्ष में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जिनके परदादा अपने को एक्सीडेंटल हिन्दू कहते थे, आज वह खुद को जनेऊधारी साबित करने में लगे हैं।

योगी ने कहा, "प्रियंका वाड्रा ने श्रीरामजन्म भूमि को विवादित स्थल कहा है। क्या हमारे राम विवादित हैं। वर्ष 2005 में तत्कालीन केंद्र सरकार की ओर से कहा गया कि राम और कृष्ण का अस्तित्व ही नहीं था। तो आज क्यों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मंदिर-मंदिर घूम कर भगवान का दर्शन कर रहे हैं।"

--आईएएनएस

देवरिया: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर कटाक्ष करते हुए समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि "जब हम सत्ता में आएंगे तो जिन अधिकारियों ने मेरे आधिकारिक निवास पर 'खोई हुई टोंटियों' की खोज की थी, उन्हीं अधिकारियों से योगी के घर में 'चिलम' और 'धूम्रपान के पाइपों' की खोज करवाएंगे। 

देवरिया में एक जनसभा को संबोधित करते हुए अखिलेश ने कहा, "जब हमने दुनिया के सबसे बेहतरीन लैपटॉप विद्यार्थियों को बांटे हैं तो हम भला क्यों टोंटियां चुराएंगे? छात्र अभी भी हमारे दिए गए लैपटॉप का उपयोग कर रहे हैं, जो उनकी गुणवत्ता को दिखाता है।"

उन्होंने कहा, "हम उन्हें योगी के घर में 'चिलम' ढूंढने को कहेंगे।"

बगल में बैठे योगी की तरह दिखने वाले सुरेश ठाकुर की बात करते हुए अखिलेश ने कहा, "हम यहां फर्जी बाबाओं की बात नहीं कर रहे हैं, लेकिन मैं एक 'बाबा' को यहां लाया हूं।"

मुख्यमंत्री की 'ठोको नीति' (मुठभेड़ नीति) पर बात करते हुए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने कहा, "यहां कुछ ऐसे भी लोग हैं जो मुठभेड़ की नीति अपनाकर राज्य में अपराध को खत्म करने का दावा कर रहे हैं। यह बहुत जरूरी है कि ना केवल 'चौकीदार' (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) बल्कि 'ठोकीदार' (मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ) को भी पद से हटाया जाए।"

अखिलेश ने चुनाव आयोग द्वारा वाराणसी लोकसभा सीट से सपा उम्मीदवार बीएसएफ के जवान तेज बहादुर यादव की उम्मीदवारी रद्द किए जाने में कथित भूमिका के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की आलोचना की।

उन्होंने कहा, "सरकार आतंकवाद को खत्म करने का दावा करती है लेकिन एक जवान से डरती है।"

राज्य में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के गठबंधन पर बात करते हुए अखिलेश ने कहा कि पहले चरण के चुनाव के बाद से जो खबरें सामने आ रही हैं, उससे यह साफ है कि "जो लोग स्वच्छ भारत अभियान के बारे में बात कर रहे थे, वे खुद पूरी तरह साफ हो रहे हैं।"

--आईएएनएस

 

 

सिद्घार्थनगर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी(सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधा और कहा कि यादव ने आंतकवादियों पर लगे आरोप खत्म किए थे।

मुख्यमंत्री योगी ने आज यहां एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "सपा की सरकार ने आतंकियों पर हमेशा नरमी बरतने का काम किया। इसीलिए अखिलेश यादव जब मुख्यमंत्री बने तो सबसे पहले उन्होंने आतंकवादियों पर लगे आरोपों को खत्म करने का काम किया है।"

उन्होंने कहा, "एक तरफ भारतीय जनता पार्टी है दूसरी तरफ नकारात्मक राजनीति करने वाले लोग हैं। इनका बस एक ही एजेंडा है प्रदेश को लूटना।"

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने 55 वषों तक देश में शासन किया, लेकिन कांग्रेस ने जो काम 55 वर्षो में नहीं किया, वह पीएम मोदी ने पांच वर्षो में कर के दिखा दिया।

उन्होंने कहा, "आज हर किसी को बिना भेदभाव के योजनाओं का लाभ मिल रहा है, क्योंकि भाजपा सरकार है। कोई सोचता नहीं था कि गोरखपुर में एम्स बनेगा, लेकिन आज गोरखपुर में एम्स बन कर तैयार हो गया है। अब लोगों को इलाज के लिए दिल्ली और मुंबई जाने की जरूरत नहीं होगी।"

योगी ने कहा, "हमने बिजली विसंगति को दूर किया। उत्तर प्रदेश की 23 करोड़ जनता को बिजली देने का प्रबंधन किया। गरीबों के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने जो कार्य किया, वह आज चुनाव में विपक्ष के लोग झुठला नहीं पा रहे।"

-- आईएएनएस

 

 

गोरखपुर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को गोरखपुर में बूथ सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे। कुछ लोगों की अनुपस्थिति पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा कि आप लोग कागजी खानापूर्ति बंद करें, और जो कार्य कर सकता है उसे सक्रिय करें। 

गोरखपुर में भाजपा के बूथ सम्मेलन में योगी ने कहा कि हर बूथ पर एक भाजपा और एक हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता हों।

बैठक में कुछ लोगों की अनुपस्थिति पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा, "आप लोग कागजी खानापूर्ति बंद करें। जो कार्य कर सकता है उसे सक्रिय करें। 10 मई से पहले हर बूथ पर सक्रियता हो और सभी बड़े पदाधिकारी अपने बूथ पर बैलेट पेपर लेकर घर घर जाएं।"

योगी ने कहा, "प्रधानमंत्री मोदी कहते भी हैं कि बूथ जीता, तो चुनाव जीता। केंद्र बिंदु हमारा बूथ होना चाहिए। हर कार्यकर्ता जब बूथ जीतने के लिए कार्य करेगा तो समझिए हम चुनाव जीत गए।"

मुख्यमंत्री योगी ने कहा, "बैलेट पेपर के नमूने को लेकर जनसंपर्क करें। मतदान पर्ची लेकर घर-घर संपर्क करना है। नगर विधानसभा में 70 फीसदी मतदान करा लेंगे, तो 1.5 लाख वोट का अंतर पहुंच जाएगा। सभी विधानसभाओं में 70 प्रतिशत हुआ तो दो लाख से अधिक का अंतर होगा।"

उन्होंने कहा, "चार प्रमुख कार्य बूथ स्तर पर होना चाहिए, उसके लिए हर बूथ पर बैठक करना होगा। बूथ की एक टीम बने और सक्रिय कार्यकर्ता खड़ा करें। घर-घर संपर्क करना, परिवार पर्ची लेकर घर-घर संपर्क करना प्रमुखता से होना चाहिए।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "गोरखपुर संसदीय सीट का यह तीसरा बूथ अध्यक्ष सम्मेलन है। प्राथमिकता के आधार पर बूथों को सक्रिय करें या फिर से गठन करें। बूथ चुनाव लड़ने की सबसे प्राथमिक इकाई है।"

योगी ने शहर विधान सभा के बाद गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा के बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं को सहेजा। उन्होंने कहा, "घर-घर दस्तक देकर भाजपा के पक्ष में 80 फीसद वोट पोल कराना है। मतदाताओं को बताएं कि उनका वोट प्रधानमंत्री मोदी को जा रहा है।"

-- आईएएनएस

बस्ती/अम्बेडकरनगर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पर निशाना साधा, और कहा कि कांग्रेस की शहजादी बच्चों को गाली सिखा रही हैं।

योगी ने यहां एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "जिस उम्र में बच्चों को संस्कार सिखाने चाहिए, कांग्रेस की शहजादी उस उम्र में बच्चों को गाली सिखा रही हैं। कांग्रेस की महासचिव को बच्चों से कहना चाहिए बेटा गाली नहीं देना चाहिए। अच्छा आचरण करना चाहिए। बड़ों का सम्मान करना चाहिए।"

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों अमेठी में चुनाव प्रचार के दौरान प्रियंका को देखकर कुछ बच्चों ने 'चौकीदार चोर है' का नारा लगाना शुरू कर दिया था, जिसे देखकर प्रियंका चकित रह गई थीं। उन्होंने बच्चों को यह नारा नहीं लगाने और उन्हें अच्छा बनने की सलाह दी। उसके बाद बच्चों ने तत्काल राहुल गांधी जिंदाबाद का नारा लगाया था। योगी अपने भाषण में इसी घटना का जिक्र कर रहे थे।

उन्होंने कहा, "ट्रिपल तलाक की बात आई तो सपा, बसपा, कांग्रेस उसके विरोध में एक हो गए। हमारा आधार न मत है न मजहब है न जाति। हमने सबका विकास समान रूप से किया है। जो काम कांग्रेस के राज में नामुमकिन था, वह आज मुमकिन हो चुका है। देश की सुरक्षा हो या विकास, हर क्षेत्र में ईमानदारी के साथ काम हुआ है।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "बुआ-बबुआ की रिश्तेदारी पर शिवपाल यादव कहते हैं कि जब हमारी कोई बहन ही नहीं तो बुआ कहां से आ गई। यह रिश्तेदारी लूट की रिश्तेदारी है। लेकिन यह रिश्तेदारी सिर्फ 23 मई तक की ही है।"

योगी ने कहा, "भीमराव आंबेडकर को जो लोग गाली देते थे, मायावती उनके साथ मंच साझा कर रही हैं। आंबेडकर के लिए अपशब्द कहने वालों के लिए वोट मांगती हैं। लोहिया के नाम पर सपा के एक परिवार ने सबसे ज्यादा संपत्ति कमाई। राजनीति में परिवारवाद का लोहिया ने विरोध किया था, लेकिन खुद सपा ही परिवारवादी पार्टी हो गई। सपा, बसपा की सरकार में बिजली की भी जाति होती थी और जाति देखकर बिजली दी जाती थी। ईद में बिजली मिलती थी, लेकिन दीपावली और होली में बिजली नहीं मिलती थी। हमारी सरकार में सबको बिजली मिल रही है। चाहे ईद हो या दीपावली, हमारी सोच है सबका साथ सबका विकास।"

आदित्यनाथ ने कहा, "कांग्रेस, सपा और बसपा की सरकार में कभी अयोध्या में विस्फोट, कभी गोरखपुर में तो कभी वाराणसी में आतंकवादी हमला होता था। पिछले पांच सालों में उत्तर प्रदेश में एक भी विस्फोट किसी ने नहीं देखा। यह मोदी जी की सरकार के सुरक्षा के प्रति बनाई गई नीति का परिणाम है।"

-- आईएएनएस

 

 

बलिया: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) पर सोमवार को निशाना साधा, और कहा कि वह (मुख्यमंत्री) इसलिए इस्तीफा स्वीकार नहीं कर रहे, ताकि चुनाव में मेरे झंडे का इस्तेमाल कर सकें।

ओमप्रकाश राजभर ने पांचवें चरण के मतदान के बीच यह बयान देकर हलचल पैदा कर दी है। उन्होंने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा, "मैंने अपना इस्तीफा 13 अप्रैल को ही दे दिया था। लेकिन भाजपा सरकार मेरा इस्तीफा स्वीकार नहीं कर रही है। भाजपा लोकसभा चुनाव में लाभ लेने के लिए मेरे झण्डे का इस्तेमाल करने के लिए ही मेरे इस्तीफे को स्वीकार नहीं कर रही है।"

राजभर ने कहा, "मैंने भाजपा से कहा था कि हम अपने झंडे के तहत चुनाव लड़ेंगे और वह भी एक सीट पर। लेकिन इस पर सहमति नहीं बनी। साथ ही जब मैंने अपना इस्तीफा दिया तो वह भी स्वीकार नहीं किया गया। इस स्थिति में मैंने चुनाव आयोग से शिकायत भी की है।"

राजभर ने बताया कि वह इस मसले पर चुनाव आयोग में लिखित शिकायत कर चुके हैं, लेकिन चुनाव आयोग भाजपा से मिलीभगत के कारण कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

उन्होंने उत्तर प्रदेश में महागठबंधन की विजय का दावा किया तथा कहा कि भाजपा भले ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पप्पू बोले, लेकिन भाजपा सबसे अधिक परेशान पप्पू से ही है, क्योंकि पप्पू भाजपा की हवा निकाल रहे हैं।

ओम प्रकाश अक्सर अपनी ही सरकार के खिलाफ बयानबाजी करते रहे हैं। जिसे लेकर भाजपा और राजभर के रिश्तों में कड़वाहट बनी हुई है। राजभर पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री हैं और वह लोकसभा टिकटों को लेकर भाजपा से नाराज चल रहे हैं।

-- आईएएनएस