लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने शुक्रवार को अपने 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की है। बसपा ने विज्ञप्ति के माध्यम से बताया कि सहारनपुर से हाजी फजलुर्रहमान, बिजनौर से मलूक नागर, नगीना से गिरीश चंद्र, अमरोहा से कुंवर दानिश अली, मेरठ से हाजी मोहम्मद याकूब, गौतमबुद्ध नगर से सतबीर नागर, बुलंदशहर से योगेश वर्मा, अलीगढ़ से अजीत बालियान, आगरा से मनोज कुमार सोनी, फतेहपुर सीकरी से राजवीर सिंह और आंवला से रुचि वीरा को टिकट दिया गया है।

बसपा ने पहली बार लोकसभा चुनाव में प्रत्याशियों की सूची जारी की है। इससे पहले जिसे प्रभारी बनाया जाता था, उसे ही प्रत्याशी माना जाता था।

--आईएएनएस

 

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने शुक्रवार को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 20 स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है। बसपा प्रमुख ने अपने भतीजे आकाश आनंद को भी स्टार प्रचारक बनाया है। आकाश युवा चेहरा हैं और वे पार्टी से नौजवानों को जोड़ने का काम करेंगे।

आकाश मायावती के छोटे भाई आनंद कुमार के बेटे हैं। लंदन से एमबीए करने वाले आकाश को मायावती ने 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव हारने के बाद सहारनपुर की रैली में सुनियोजित तरीके से लांच किया था। आकाश मायावती के साथ पार्टी की बैठकों भी नजर आते हैं। बताया जा रहा है कि मायावती का सोशल मीडिया खाता इन्हीं की देख-रेख चलाया जा रहा है।

पहले चरण के लिए बनाए गए स्टार प्रचारकों में मायावती, सतीश चंद्र मिश्रा,आकाश आनंद, आर.एस कुशवाहा, समसुद्दीन राईन, राजकुमार गौतम, नरेश गौतम, सुरेश कश्यप, महिपाल सिंह माजरा, जनेश्वर प्रसाद, राजकुमार, प्रेमचंद्र गौतम, सतपाल पीपला, कमल सिंह राज, मुरारी लाल केन, दिनेश काजीपुर, रवि जाटव, रणविजय सिंह और पूजन प्रसाद शामिल हैं।

--आईएएनएस

 

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने बुधवार को आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की। मायावती ने कहा, "ऐसा फैसला मैंने गठबंधन हित में लिया है। वर्तमान परिस्थितियों में चुनाव न लड़ना पार्टी के हित में रहेगा। उन्होंने कहा कि मेरे जीतने से ज्यादा गठबंधन की जीत जरूरी है। सुप्रीमो होने के नाते कड़े फैसले लेने पड़ते हैं। बाद में अगर जरूरत पड़ी तो वह चुनाव लड़ेंगी।"

दरअसल, सपा-बसपा के गठबंधन के बाद मायावती के पश्चिम की किसी सीट से चुनाव लड़ने की चर्चा जोरों पर थी। लेकिन चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा के बाद से इसपर विराम लग गया।

गौरतलब है चुनाव को लेकर सपा-बसपा दोनों अपने को एक रूप में प्रस्तुत कर रही हैं। मायावती जो ट्वीट करती हैं,अखिलेश भी उसपर अपनी सहमति दर्ज कराते नजर आते हैं।

--आईएएनएस

Published in लखनऊ

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने एक बार फिर कांग्रेेस पार्टी पर हमला बोला है। उन्होंने साफ किया कि कांग्रेस से हमारा कोई गठबंधन नहीं है और वह कोई भ्रम ना फैलाए। हम भारतीय जनता पार्टी को हराने में सक्षम हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा, "बीएसपी एक बार फिर साफ कर देना चाहती है कि उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में कांग्रेस पार्टी से हमारा कोई भी, किसी भी प्रकार का तालमेल व गठबंधन आदि बिल्कुल भी नहीं है। हमारे लोग कांग्रेस पार्टी के आए दिन फैलाये जा रहे किस्म-किस्म के भ्रम में कतई न आएं।"

उन्होंने आगे लिखा, "कांग्रेस उत्तर प्रदेश में भी पूरी तरह से स्वतंत्र है कि वह यहां की सभी 80 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़ा करके अकेले चुनाव लड़े, अर्थात हमारा यहां बना गठबंधन अकेले बीजेपी को पराजित करने में पूरी तरह से सक्षम है। कांग्रेस जबर्दस्ती यूपी में गठबंधन के लिए 7 सीटें छोड़ने की भ्रान्ति ना फैलाए।"

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा था कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के लिए सात सीटों पर अपने उम्मीदवार नहीं उतारेगी। इन सीटों में मैनपुरी, कन्नौज, आजमगढ़, के साथ फिरोजाबाद, मुजफ्फरनगर व मथुरा की सीट शामिल हैं। उन्होंने कहा था कि हमारी पार्टी मायावती, रालोद के अजित सिंह और जयंत चौधरी के खिलाफ अपने प्रत्याशी नहीं उतारेगी।

--आईएएनएस

Published in देश

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की अध्यक्ष मायावती से राष्ट्रीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी आज मुलाकात करने पहुंचे। गठबंधन में शामिल होने के बाद पहली बार वह मायावती से मिले हैं। इस मौके पर बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्र और रालोद के प्रवक्ता अनिल दुबे भी मौजूद रहे। बसपा प्रमुख मायावती की जयंत से मुलाकात करीब एक घंटे तक चली है।

जयंत ने मुलाकात के बाद कहा, "मायावती जी से देश के ज्वलंत मुद्दों, आगे होने वाले कार्यक्रमों पर वार्ता हुई है। हमारे सभी कार्यकर्ता एकजुट हैं और हम 80 की 80 लोकसभा सीटों पर विजय प्राप्त करेंगे। हालांकि उन्होंने पूरा कार्यक्रम नहीं बताया है।"

ज्ञात हो कि राष्ट्रीय लोकदल को गठबंधन में तीन सीटें मिली हैं। इनमें मुजफ्फरनगर से पार्टी अध्यक्ष अजित सिंह तथा बागपत से जयंत चौधरी मैदान में हैं। तीसरी सीट मथुरा है।

--आईएएनएस

लखनऊ: लोकसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान होने के साथ ही नेताओं की बयानबाजी का दौर तेज होता जा रहा है। इसी क्रम में केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने लखनऊ में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मुखिया मायावती पर तंज कसते हुए कहा, "इस बार भी अगर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता मायावती पर हमला करें, तो मैं उन्हें बचाऊंगी।" उमा ने कहा कि समाजवादी पार्टी के लोग उन पर हमला जरूर करेंगे, चाहे चुनाव के पहले करें या फिर चुनाव के बाद।

उन्होंने कहा, "जब गेस्ट हाउस में मायावती जी पर हमला हुआ था, तब ब्रह्मदत्त द्विवेदी जी थे। अब वह नहीं हैं, तो मैं हूं। जैसे ही उनको संकट आए तो मेरा मोबाइल नंबर रखें और तुरंत मुझे फोन करें। उन पर संकट आना जरूर है।"

उमा भारती ने मायावती को वर्ष 1995 की वह घटना याद दिलाई है, जब समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और विधायकों ने लखनऊ के स्टेट गेस्ट हाउस पर हमला बोल दिया था। बसपा विधायकों के साथ मारपीट की गई थी और मायावती ने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया था। उनका दरवाजा तोड़ने की कोशिश भी की गई थी।

--आईएएनएस

 

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने गुरुवार को पार्टी मुख्यालय पर पार्टी के लोकसभा प्रभारियों व जोनल कोऑर्डिनेटरों संग बैठक की और समाजवादी पार्टी (सपा) कार्यकर्ताओं के साथ सामंजस्य बिठाकर प्रचार-प्रसार की तैयारी का निर्देश दिया। इस बैठक में लोकसभा चुनाव के प्रत्याशियों के नाम पर चर्चा हुई हालांकि किसी प्रकार की घोषणा नहीं की गई है। बैठक में कार्यकर्ताओं को चुनाव आचार संहिता का सख्ती से पालन करने का भी निर्देश दिया गया।

मायावती ने एक बयान में कार्यकर्ताओं से 15 मार्च को बसपा के संस्थापक कांशीराम और 14 अप्रैल को बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर की जयंती पूरी शालीनता के साथ घर पर ही मनाने को कहा।

पत्रकारों से बातचीत में बसपा विधायक उमाशंकर सिंह ने कहा कि मायावती की अध्यक्षता में हुई बैठक में चुनाव की तैयारियों पर चर्चा हुई। प्रत्याशियों के नाम का ऐलान एक-दो दिन में हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस महागठबंधन में शामिल नहीं है। कांग्रेस को वोट करना अपना वोट बर्बाद करने जैसा है।

रायबरेली और अमेठी में उम्मीदवार उतारने की बात पर विधायक ने बताया कि इस पर अंतिम निर्णय पार्टी के बड़े नेता ही लेंगे।

उमा शंकर ने यह भी कहा कि कई दलों के बड़े नेता गठबंधन की ताकत को देखते हुए पार्टी के संपर्क में हैं। उन्होंने बताया कि मायावती ने गठबंधन के साथ बूथ लेवल तक तालमेल बैठाने का निर्देश भी दिया है।

--आईएएनएस

 

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती आज अपने प्रदेश पदाधिकारियों के साथ बैठक कर लोकसभा चुनाव की व्यापक रणनीति पर चर्चा करेंगी। इसमें मंडल से लेकर जोनल तक के सभी नेताओं को बुलाया गया है।

बताया जा रहा है कि बैठक में सपा-बसपा के बीच सीटों के बंटवारे में कुछ संशोधन हो सकता है। चुनाव प्रचार के लिए संयुक्त रैलियों समेत कई मुद्दों पर चर्चा होने की भी संभावना है। आज की बैठक में ही प्रत्याशियों के टिकट पर भी चर्चा होगी।

कल सपा मुखिया अखिलेश के साथ बातचीत में उन्होंने कांग्रेस से दूरी बनाए रखने पर जोर दिया था। साथ ही प्रियंका गांधी की भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर से हुई मुलाकात के बाद वह रणनीति बदलकर अमेठी और रायबरेली सीट पर प्रत्याशी उतारने पर भी निर्णय ले सकती हैं।

जोनल जोनल कोऑर्डिनेटर भीमराव आंबेडकर के अनुसार, "बसपा अध्यक्ष मायावती ने लखनऊ कैंप कार्यालय पर लोकसभा प्रभारियों और जोनल कोऑर्डिनेटरों की बैठक बुलाई है। इसमें लोकसभा चुनाव को लेकर अनेक विषयों पर चर्चा होगी।"

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली/लखनऊ: लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी महागठबंधन की योजना को झटका देते हुए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने यहां मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी कांग्रेस के साथ किसी भी राज्य में गठबंधन नहीं करेगी। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने यह टिप्पणी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक के बाद की।

मायावती ने मीडिया से कहा, "बैठक के दौरान यह दोहराया गया कि बसपा का किसी भी राज्य में कांग्रेस के साथ न तो कोई गठबंधन होगा और न ही कोई आपसी समझ ही।"

बसपा ने उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और लोकदल के साथ एक गठबंधन किया है।

मायावती ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कई राजनीतिक दल बसपा से गठबंधन के इच्छुक हैं, लेकिन मामूली चुनावी फायदे के लिए अपनी विचारधारा के खिलाफ कोई कदम उठाना पार्टी के हित में नहीं है।

मायावती ने बाद में लखनऊ में लोकसभा प्रभारी, पदाधिकारियों और नेताओं के साथ बैठक की। इसके बाद उन्होंने हर राज्य के नेताओं से अलग-अलग बैठक की और फिर सभी को सामूहिक रूप से पार्टी की रणनीति से अवगत कराया।

बसपा मुखिया ने कहा कि बसपा और सपा का गठबंधन दोनों तरफ से आपसी सम्मान व पूरी नेक नीयत के साथ काम कर रहा है तथा उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड व मध्य प्रदेश में यह 'फस्र्ट एंड परफेक्ट एलायंस' माना जा रहा है, जो सामाजिक परिवर्तन की जरूरतों को भी पूरा करता है और भाजपा को परास्त करने की क्षमता रखता है।

मायावती ने कहा, "लोकसभा चुनाव में हम किसी भी राज्य में कांग्रेस के साथ न तो गठबंधन करेंगे और न ही उनकी कोई भी मदद लेंगे। अगर वे हमसे मदद मांगते हैं, तब हम विचार कर सकते हैं।"

उन्होंने पार्टी के लोगों को जमीनी स्तर पर काम करके पार्टी को कैडर के आधार पर तैयार करने पर बल देते हुए कहा कि बसपा एक पार्टी के साथ बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर के अधूरे कारवां को मंजिल तक पहुंचाने तथा उनके आत्म-सम्मान व स्वाभिमान का 'मूवमेंट' भी है।

--आईएएनएस

Published in देश

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को लड़ाकू विमान राफेल को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने सवाल उठाया कि भाजपा ने देश की रक्षा व सुरक्षा के साथ ऐसा खिलवाड़ क्यों किया? बसपा प्रमुख ने ट्विटर के जरिए कहा, "प्रधानमंत्री मोदी का रैलियों में कहना है कि पाकिस्तान के साथ लड़ाई में राफेल विमान बहुत काम आ सकता था। ऐसी बात थी तो पिछले पांच वर्ष के इनके शासन में एक भी राफेल विमान क्यों नहीं भारतीय बेड़े में शामिल किया गया? भाजपा ने देश की रक्षा व सुरक्षा के साथ ऐसा खिलवाड़ क्यों किया?"

दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी ने अमेठी की रैली में कहा था कि "हमारी सरकार में ही पहला राफेल उड़ेगा। लोग वर्षो तक राफेल विमानों के सौदे पर बैठे रहे और जब सरकार जाने की बारी आई तो उसको ठंडे बस्ते में डाल दिया।" मोदी सेना की सुरक्षा से खिलवाड़ करने का आरोप लगाकर विपक्षियों पर जमकर बरसे थे। मायावती ने अब ट्विटर के जरिए उन पर पलटवार किया है।

--आईएएनएस

 

Published in देश