नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के एक आतंकवादी को श्रीनगर से गिरफ्तार किया। एक पुलिस अधिकारी ने मंगलवार को यह सूचना दी।

स्पेशल सेल की टीम ने रविवार को श्रीनगर में छिपे फरार आतंकी अदुल मजीद को उसके ठिकाने पर छापेमारी के बाद गिरफ्तार किया। उसे ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली लाया गया है।

अधिकारी ने कहा कि मजीद पर दो लाख रुपये का इनाम है।

--आईएएनएस

 

 

नई दिल्ली: पाकिस्तानी आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के सरगना मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के प्रतिबंध की राह में रोड़ा अटकाते रहे चीन ने, भारत सहित कुछ देशों द्वारा सामूहिक रूप से उपलब्ध कराए गए तथ्यात्मक और पर्याप्त सबूत के बाद अपनी तकनीकी रोक हटा ली, जिसके कारण मसूद को प्रतिबंधित किया जा सका।

सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की प्रक्रिया 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद शुरू हुई, लेकिन उन्होंने इसकी तह में जाने से इनकार कर दिया कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1,267 प्रतिबंध समिति के प्रस्ताव में आतंकी हमले का उल्लेख क्यों नहीं हुआ।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के संबंध में सूत्रों ने बताया, "पुलवामा से संबंध बिल्कुल स्पष्ट है, क्योंकि प्रक्रिया (अजहर पर प्रतिबंध लगाने की) आतंकी घटना के बाद शुरू हुई।"

उन्होंने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि दरअसल अजहर पाकिस्तान में है, इसलिए उसे यूएनएससी के प्रस्ताव पर अवश्य अमल करना चाहिए और कथित तौर पर पाकिस्तान फैसले से संतुष्ट है।

सूत्रों से जब यह पूछा गया कि ऐसा क्या हुआ, जिसके कारण चीन को अपना रुख बदलना पड़ा तो उन्होंने बताया कि यूएनएससी द्वारा प्रतिबंधित जेईएम से अजहर का सीधा संबंध होने के बारे में अतिरिक्त जानकारी प्रतिबंध समिति को बाद में प्रदान की गई, जिसके बाद उनको वैश्विक आतंकी की सूची में डालना संभव हुआ।

चीन पिछले 10 सालों से अधिक समय से मसूद अहजर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की राह में रोड़ा अटका रहा था। पुलवामा आतंकी हमले के बाद भी मार्च में प्रस्ताव पर विचार के समय उसने अपनी तकनीकी रोक लगा दी थी।

--आईएएनएस

 

 

Published in दुनिया

नई दिल्ली: विदेश मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर के खिलाफ कार्रवाई भारत के रुख के अनुसार हुआ है।

मंत्रालय ने कहा कि भारत द्वारा सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति के सदस्यों के साथ साझा की गई सूचनाओं के आधार पर ही यह कार्रवाई की गई है।

उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने अजहर मसूद को बुधवार को वैश्वित आतंकवादियों की सूची में शामिल कर दिया।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने ट्वीट किया, "मसूद अजहर संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित सूची में एक आतंकवादी के रूप में घोषित।"

अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के लिए प्रस्ताव यूएनएससी प्रतिबंध समिति 1267 में लाया गया था। इससे करीब तीन महीने पहले आतंकी संगठन जैश ने कश्मीर के पुलवामा जिले में आत्मघाती हमला किया था।

--आईएएनएस

 

 

Published in देश

पेरिस: फ्रांस ने आतंकवादी संगठन, जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने का बुधवार को स्वागत किया।

उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने मसूद अजहर को वैश्वित आतंकवादियों की सूची में शामिल कर दिया है।

--आईएएनएस

 

 

Published in दुनिया

श्रीनगर: सेना की 15वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने बुधवार को वादी में 2019 में अब तक 69 आतंकियों के मारे जाने का दावा करते हुए कहा कि जैश-ए-मुहम्मद का नेटवर्क लगभग तबाह हो चुका है।

कश्मीर में इस समय कोई आतंकी कमांडर जैश की कमान संभालने के लिए सामने नहीं आ रहा है। आतंकवाद के समूल नाश तक आतंकरोधी अभियान जारी रखने का यकीन दिलाते हुए उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद को फिर से सिर नहीं उठाने देंगे।

ढिल्लो श्रीनगर में पुलिस नियंत्रण कक्ष में एक पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद वकार को मीडिया के समक्ष पेश करने के बाद राज्य पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह और आइजी सीआरपीएफ जुल्फिकार हसन की मौजूदगी में पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। आतंकी मोहम्मद वकार उर्फ वकार उर्फ आकिब उर्फ छोटा दुजाना को दो दिन पहले मीरगुंड, पट्टन के इलाके में पकड़ा गया था। वह पाकिस्तान में मियां, मियांवाली पंजाब प्रांत का रहने वाला है और 2017 से उत्तरी कश्मीर में सक्रिय था।

केजेएस ढिल्लों ने बताया कि इस साल अब तक वादी में 69 आतंकी मारे गए हैं और 12 आतंकियों को पकड़ा गया है। इनमें 41 आतंकी पुलवामा हमले के बाद चले सैन्य अभियानों में मारे गए हैं। इनमें 25 आतंकी जैश ए मुहम्मद के थे और इनमें 13 पाकिस्तान के रहने वाले थे।

कोर कमांडर ने कहा कि इस समय कश्मीर में जैश का लगभग सफाया किया जा चुका है। जैश के अधिकांश ओवरग्राऊंड वर्कर भी पकड़े जा चुके हैं। इस समय स्थिति यह है पाकिस्तान बैठे आतंकी सरगनाओं और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ की तमाम कोशिशों के बावजूद जैश की कमान संभालने के लिए वादी में कोई आतंकी कमांडर सामने नहीं आ रहा है। हम जैश समेत सभी आतंकी संगठनों को पूरी तरह समाप्त करने के अभियान जारी रखेंगे।

Published in देश

जम्मू: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने रविवार को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी इरशाद अहमद रेशी को 2017 में जम्मू एवं कश्मीर के लेथपोरा में सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर पर हुए हमले में संलिप्तता के लिए गिरफ्तार कर लिया। पुलवामा जिले के रतनीपोरा का निवासी रेशी इस मामले में गिरफ्तार पांचवां आरोपी है।

एनआईए ने एक बयान में कहा, "प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का ओवरग्राउंड सक्रिय कार्यकर्ता रेशी मारे जा चुके जैश कमांडर नूर मोहम्मद तांत्री (नूर त्राली) का करीबी सहयोगी था।"

रेशी को सोमवार को यहां एनआईए की एक विशेष अदालत में पेश किया जाएगा। एजेंसी आगे की जांच के लिए उसके पुलिस हिरासत की मांग कर सकती है।

एनआईए ने कहा कि सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर पर हमला नूर त्राली की मौत का बदला लेने के मकसद से किया गया था। नूर दिसंबर 2017 में सुरक्षा बलों के साथ एक मुठभेड़ में मारा गया था। एक प्रमुख साजिशकर्ता रेशी ने सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर की रेकी करने, आतंकियों को शरण देने और उनके परिवहन जैसे लॉजिस्टिक मदद मुहैया कराने में मदद की थी।

एनआईए ने कहा, "इस मामले में चार आरोपी -फयाज अहमद मगरे, मंजूर अहमद भट, निसार अहमद तांत्रे और सैयद हिलाल अंद्राबी- को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।"

इस सेंटर पर 30-31 दिसंबर, 2017 की रात जैश के तीन आतंकियों ने हमला किया था। जांच के दौरान उनकी पहचान फरदीन अहमद खांडेय, मंजूर बाबा, और एक पाकिस्तानी आतंकी अब्दुल शकूर के रूप में हुई थी।

--आईएएनएस

 

 

Published in देश

बीजिंग: चीन ने बुधवार को कहा कि वह पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद(जेईएम) के प्रमुख मसूद अजहर को काली सूची में डालने के मुद्दे पर कड़ी परिश्रम कर रहा है। इसके साथ ही चीन ने अमेरिका को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में खुद का मसौदा प्रस्ताव पेश करने को लेकर एक बार फिर चेतावनी दी है।

यह बयान चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने एक प्रेस वार्ता में दिया। प्रेस वार्ता में उनसे अमेरिका द्वारा मसूद अजहर को प्रतिबंधित करने के बारे में सवाल पूछे गए थे।

उन्होंने कहा, "चीन संबंधित मामले को लेकर कड़ी मेहनत कर रहा है और इस दिशा में सकारात्मक प्रगति कर रहा है। अमेरिका इसे अच्छी तरह जानता है। इस तरह की परिस्थितियों में, अमेरिका मसौदा प्रस्ताव को आगे बढ़ा रहा है, जिसका कोई मतलब नहीं है।"

अजहर आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने के लिए भारत में वांछित है। उसके आतंकवादी संगठन जेईएम ने जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में 40 जवानों की हत्या की जिम्मेदारी ली थी।

पिछले सप्ताह, बीजिंग ने कहा था कि वह अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी के रूप में सूचीबद्ध करने की दिशा में सकारात्मक प्रगति कर रहा है।

चीन ने इससे पहले 13 मार्च को संयुक्त राष्ट्र 1267 मंजूरी समिति के समक्ष अमेरिका के प्रस्तावित मसौदे पर तकनीकी रोक लगा दी थी।

--आईएएनएस

 

 

Published in दुनिया

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने श्रीनगर से जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी को गिरफ्तार कर लिया। 

एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि आतंकवादी पर दो लाख रुपये का इनाम था।

स्पेशल सेल की सूचना पर जैश के सदस्य फैयाज अहमद लोन को शनिवार को गिरफ्तार किया गया।

जम्मू एवं कश्मीर के कुपवाड़ा जिले का निवासी लोन जैश-ए-मोहम्मद का सक्रिय सदस्य है।

दिल्ली पुलिस ने लोन पर इनाम घोषित किया था।

एक अधिकारी ने कहा, "यहां दिल्ली उच्च न्यायालय ने उसके खिलाफ एक गैर-जमानती वारंट भी जारी कर दिया था।"

लोन 2015 से गिरफ्तारी से बचा हुआ था।

--आईएएनएस

 

 

Published in श्रीनगर

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को कहा कि फेमा के तहत प्राधिकारी ने लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के गुर्गे व उसके दो सहयोगियों को हवाला मामले में संलिप्तता के लिए दोषी ठहराया गया है। यह मामला आतंकी वित्त पोषण से जुड़ा है, जिसमें 15 लाख का जुर्माना लगाया गया है। 

बुधवार के आदेश में संदिग्ध एलईटी सदस्य मोहम्मद अयूब मीर, उसके सहयोगी बेच राज बेंगानी व हरबंस सिंह को क्रमश: पांच लाख, सात लाख व 3 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया।

प्राधिकारी ने 17 साल पुराने आतंकवादी वित्तपोषण मामले में 7 लाख रुपये नकद भी जब्त करने का आदेश दिया।

ईडी ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (एफईएमए) ने एक जांच शुरू की। यह जांच तीन आरोपियों के खिलाफ दिल्ली पुलिस से प्राप्त एक रिपोर्ट के आधार पर शुरू की गई।

दिल्ली पुलिस ने 2 जुलाई 2002 को मीर को सिंह से सात लाख रुपये का हवाला भुगतान प्राप्त करने के दौरान गिरफ्तार किया। सिंह ने यह भुगतान आतंकवादी संगठन एलईटी के लिए किया।

ईडी ने कहा कि मीर, एलईटी का एक सक्रिय सदस्य था और वह जम्मू एवं कश्मीर पुलिस के लिए वांछित था।

अपने बयान में ईडी ने कहा कि मीर ने कबूल किया है। उससे जब्त किए गए सात लाख रुपये हवाला धन थे।

इसमें कहा गया, "मीर ने एलईटी से अपने संबंधों को भी कबूल किया है।"

सिंह, बेंगानी के चालक के तौर पर काम कर रहा था। वह अपने नियोक्ता के निर्देश पर मीर बेंगानी को नकदी की आपूर्ति करता था। बेंगानी हवाला कारोबार में शामिल था।

--आईएएनएस

 

 

Published in देश

कोलकाता: पाकिस्तान समर्थित जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के मुखिया मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकी के रूप में मान्यता देने के भारत के प्रयास में चीन द्वारा रोड़ा अटकाए जाने के विरोध में कंफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने गुरुवार को अपने सदस्यों से देश में चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करने का आह्वान किया है। कैट के राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा, "हम व्यापारियों से विशेषकर होली के त्योहार से पहले चीनी वस्तुओं को न खरीदने और न ही बेचने का आह्वान करने के लिए एक राष्ट्रीय अभियान की शुरुआत कर रहे हैं।"

कैट ने अपने सदस्यों से विरोध के रूप में 19 मार्च को चीनी वस्तुओं को जलाने के लिए कहा है और सरकार से सभी चीनी आयात पर भारी शुल्क लगाने का आग्रह किया है।

खंडेलवाल ने कहा, "पाकिस्तान की भारत विरोधी गतिविधियों को संरक्षण देने के लिए चीन को सजा दी जानी चाहिए।"

--आईएएनएस

Published in देश
Page 1 of 3