बेंगलुरू: महेंद्र सिंह धोनी ने रविवार को रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ 48 गेंदों पर नाबाद 84 रनों की पारी खेलकर चेन्नई सुपर किंग्स को लगभग जीत दिला दी थी।

यहां एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में 162 रनों का पीछा करते हुए मेहमान टीम निर्धारित 20 ओवर में आठ विकेट के नुकसान पर 160 रन ही बना पाई और एक रन से मैच हार गई।

आखिरी दो ओवरों में चेन्नई को जीत के लिए 66 रनों की दरकार थी। धोनी ने 19वें ओवर में तेजी से रन बनाए, लेकिन एक रन नहीं लिया और स्ट्राइक अपने पास रखी।

मैच के बाद इस पर धोनी ने कहा, "मैंने कई गेंदें खेली थी और हमें बहुत रन बनाने थे इसलिए मैं जोखिम उठा सकता था। मैं समझता हूं कि 10 या 12 गेंदों पर हमें 40 या 36 के करीब रन चाहिए थे जिसका मतलब है हमें बाउंड्री की जरूरत थी।"

धोनी ने कहा, "हां, आप अभी गिन सकते हैं कि दो रन वहां, एक रन यहां और हम मैच जीत जाते क्योंकि हम एक रन से मुकाबला हारे, लेकिन उसी समय आपको यह सोचना होगा कि अगर कुछ गेंदे खाली निकल जातीं तो क्या होता। क्या हमें वह अतिरिक्त बाउंड्री मिल पाती या नहीं।"

आखिरी ओवर में वे उमेश यादव के खिलाफ 24 रन बनाने में कमायाब रहे थे।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

बेंगलुरू: चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में 200 छक्के लगाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं।

धोनी ने रविवार को यहां एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ हुए मुकाबले में 48 गेंदों पर नाबाद 84 रनों की पारी के दौरान यह कीर्तिमान स्थापित किया।

चेन्नई को हालांकि, मैच में हार झेलनी पड़ी। 162 रनों का पीछा करते हुए मेहमान टीम निर्धारित 20 ओवर में आठ विकेट के नुकसान पर 160 रन ही बना पाई।

धोनी ने अपनी ताबड़तोड़ पारी में चार चौके और सात छक्के जड़े। वह आईपीएल में अबतक 203 छक्के लगा चुके हैं। 12वें संस्करण में 37 वर्षीय खिलाड़ी ने अभी तक 17 छक्के लगाए हैं।

रोहित शर्मा और सुरेश रैना इस सूची में दूसरे और तीसरे नंबर पर काबिज हैं। दोनों बल्लेबाजों ने अपने आईपीएल करियर में अबतक 190-190 छक्के जड़े हैं।

पूरे टूर्नामेंट में सबसे अधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के आक्रामक बल्लेबाज क्रिस गेल (323) के नाम है।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

बेंगलुरू: रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ भले ही चेन्नई सुपर किंग्स को एक रन से हार झेलनी पड़ी हो, लेकिन महेंद्र सिंह धोनी की पारी ने सभी का दिल जीत लिया। विजेता कप्तान विराट कोहली ने भी माना कि धोनी की दमदार बल्लेबाजी ने उनके मन में डर पैदा कर दिया था।

धोनी ने रविवार को यहां एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में हुए मुकाबले में बेंगलोर के खिलाफ 48 गेंदों पर नाबाद 84 रनों की पारी खेली। हालांकि, वह टीम को जीत नहीं दिला सके।

मैच के बाद कोहली ने कहा, "काफी चीजें महसूस कर रहा हूं। हम 19वें ओवर से पहले तक बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे थे। इस तरह की पिच पर जहां ओस थी, 160 के लक्ष्य को डिफेंड करके हमारी टीम ने बेहतरीन काम किया। आखिरी गेंद पर जो हुआ उसकी मुझे अपेक्षा नहीं थी। छोटे अंतर से मैच जीतकर अच्छा लगा। हमने छोटे अंतर से कई मुकाबले हारे हैं। धोनी ने वही किया जिसमें वह माहिर हैं, उन्होंने हमें डरा दिया।"

कोहली ने कहा, "पहले छह ओवर में हमने सोचा कि गेंद बल्ले पर नहीं आ रही है। पार्थिव और डिविलियर्स ने पारी को संभाला और बीच में हमें लगा कि इस पिच पर 175 एक अच्छा टोटल होगा। हमने सोचा हमें 15 रन और बनाने चाहिए थे।"

इस जीत के बाद तालिका में आखिरी पायदान पर काबिज बेंगलोर के छह अंक हो गए हैं।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

बेंगलुरू: कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 84) की तूफानी पारी के बावजूद चेन्नई सुपर किंग्स को रविवार को यहां एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण के मैच में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के हाथों एक रन से करीबी हार का सामना करना पड़ा।

चेन्नई को 2018 के बाद से पहली बार लगातार दो मैचों में हार का सामना करना पड़ा है।

बेंगलोर ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सात विकेट पर 161 रन का स्कोर बनाया और फिर चेन्नई को आठ विकेट पर 160 रन पर रोक दिया।

चेन्नई की इस सीजन में 10 मैचों में यह तीसरी हार है। टीम अभी भी 14 अंकों के साथ तालिका में चोटी पर कायम है। वहीं, बेंगलोर की 10 मैचों में यह तीसरी जीत है और वह छह अंकों के साथ आठवें नंबर पर है।

बेंगलोर के 161 रन का जवाब देने उतरी चेन्नई की शुरुआत काफी खराब रही और टीम ने 28 रन के अंदर अपने चार शीर्षक्रम के बल्लेबाजों का विकेट गंवा दिया। इन चार विकेटों में शेन वाटसन (5), फॉफ डु प्लेसिस (5), सुरेश रैना (0) और केदार जाधव (9) के विकेट शामिल हैं।

हालांकि इसके बाद अंबाती रायडू (29) और धोनी ने पांचवें विकेट के लिए 55 रन की साझेदारी कर चेन्नई को संभालने की कोशिश की। लेकिन तभी युजवेंद्र चहल ने रायडू को बोल्ड कर चेन्नई को एक और झटका दे दिया। रायडू ने 29 गेंदों की पारी में दो चौके और एक छक्का लगाया।

रायडू के आउट होने के बाद बल्लेबाजी के लिए क्रीज पर आए रवींद्र जडेजा (11) ने छठे विकेट के लिए 25 रन जोड़े। जडेजा गलतफहमी का शिकार होकर रन आउट हो गए। जडेजा के बाद ड्वेन ब्रावो भी पांच रन बनाकर चलते बने।

मौजूदा चैम्पियन चेन्नई को मैच जीतने के लिए अंतिम छह गेंदों पर 26 रन बनाने थे और धोनी ने उमेश यादव के इस ओवर में तीन छक्के और एक चौका लगाकर मैच लगभग बेंगलोर से छीन ही लिया था।

चेन्नई को अंतिम गेंद दो रन बनाने थे और धोनी इस बार गेंद को शॉट मारने से चूक गए। गेंद सीधी विकेटकपर पार्थिव पटेल के पास चली गई।

इधर रन के लिए भागे धोनी अपने दूसरे छोर पर पहुंच गए लेकिन शार्दुल ठाकुर अपने छोर पर नहीं पहुंच पाए और पटेल ने शार्दुल को रन आउट करके चेन्नई के मुंह से जीत वापस छीन ली।

धोनी ने बतौर कप्तान आईपीएल में अपने 4000 रन भी पूरे कर लिए। आईपीएल में उनका यह 23वां अर्धशतक है। कप्तान धोनी ने 48 गेंदों की नाबाद पारी में पांच चौके ओर सात छक्के लगाए। आईपीएल में उनका यह सर्वोच्च स्कोर है।

बेंगलोर की ओर से डेल स्टेन और उमेश ने दो-दो जबकि नवदीप सैनी और चहल ने एक-एक विकेट लिया।

मैच में शानदार 53 रन बनाने और एक बेहतरीन रन आउट कर जीत बेंगलोर की झोली में डालने वाले विकेटकीपर पार्थिव पटेल को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला।

इससे पहले, ओपनर पार्थिव पटेल (53) के अर्धशतक की मदद से रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने सात विकेट पर 161 रन का स्कोर बनाया और उसके गेंदबाजों ने आखिरकार इस स्कोर का बचाव कर ही लिया।

टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी बेंगलोर की शुरूआत खराब रही और पिछले मैच में शतक बनाने वाले कप्तान विराट कोहली (9) जल्द ही दीपक चाहर का शिकार बन गए। इसके बाद पटेल ने अब्राहम डिविलियर्स ने (25) के साथ दूसरे विकेट के लिए 47 रन जोड़े।

डिविलियर्स को टीम के 58 के स्कोर पर रवींद्र जडेजा ने आउट किया। डिविलियर्स ने 19 गेंदों पर तीन चौके और एक छक्का लगाया। डिविलियर्स के आउट होने के बाद टीम को तीसरा झटका अक्षदीप नाथ (24) के रूप में और चौथा झटका पटेल के रूप में 124 के स्कोर पर लगा।

पटेल ने 37 गेंदों पर दो चौके और चार छक्के लगाए। अगले ही ओवर में मार्कस स्टोयनिस (14) भी इमरान ताहिर का शिकार बन बैठे।

इसके बाद मोइन अली ने 16 गेंदों पर पांच चौकों की मदद से 26 रन की पारी खेलकर बेंगलोर को 150 के पार पहुंचा। पवन नेगी ने छह गेंदों पर पांच रन बनाए। उमेश यादव एक रन बनाकर नाबाद लौटे।

चेन्नई की ओर से जडेजा, दीपक, ब्रावो ने दो-दो जबकि तथा ताहिर ने एक विकेट लिया।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

हैदराबाद: ओपनर डेविड वार्नर (67) और जॉनी बेयरस्टो (नाबाद 80) के तूफानी अर्धशतकों की मदद से सनराइजर्स हैदराबाद ने यहां राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण के मैच में रविवार को कोलकाता नाइट राइडर्स को नौ विकेट से करारी शिकस्त दी।

कोलकाता ने पहले बल्लेबाजी करते हुए आठ विकेट पर 159 रन का स्कोर बनाया, जिसे हैदराबाद ने एक विकेट खेकर 15 ओवर में ही हासिल कर लिया।

हैदराबाद की नौ मैचों में यह पांचवीं जीत है और वह 10 अंकों के साथ अब चौथे नंबर पर पहुंच गई है। वहीं, कोलकाता की 10 मैचों में यह छठी हार है और वह आठ अंकों के साथ छठे नंबर पर है। कोलकाता को लगातार पांचवीं हार का सामना करना पड़ा है।

कोलकाता से मिले 160 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी हैदराबाद को वार्नर और बेयरस्टो ने पहले विकेट के लिए 12.2 ओवर में 131 रन की साझेदारी कर जीत की दहलीज तक पहुंचा दिया।

वार्नर को आईपीएल टूर्नामेंट में अपना पहला मैच खेल रहे तेज गेंदबाज वाई. पृथ्वीराज ने बोल्ड किया। वार्नर ने 38 गेंदों पर तीन चौके और पांच छक्के लगाए। उन्होंने इस सीजन का अपना छठा अर्धशतक भी पूरा किया।

वार्नर के आउट होने के बाद बेयरस्टो ने कप्तान केन विलियम्सन (नाबाद आठ) के साथ दूसरे विकेट के लिए 30 रन की अविजित साझेदारी कर 30 गेंद शेष रहते हैदराबाद को नौ विकेट से जीत दिला दी।

इस सीजन का अपना आखिरी मैच खेल रहे बेयरस्टो का सीजन का दूसरा अर्धशतक है। इंग्लैंड की 15 सदस्यीय विश्व कप टीम में शामिल बेयरस्टो इस मैच के बाद वापस स्वदेश लौट जाएंगे। उन्होंने 43 गेंदों पर सात चौके और चार छक्के लगाए। विलियम्सन ने नौ गेंदों पर नाबाद आठ रन का योगदान दिया।

कोलकाता की ओर से पृथ्वीराज ने एकमात्र विकेट हासिल किया।

इससे पहले, कोलकाता ने ओपनर क्रिस लिन (51) के अर्धशतक की मदद से आठ विकेट पर 159 रन का सम्मानजनक स्कोर बनाया लेकिन उसके गेंदबाज इस स्कोर का बचाव नहीं कर सके।

टॉस हारकर बल्लेबाजी के लिए कोलकाता को लिन और सुनील नरेन (25) ने पहले विकेट के लिए 2.4 ओवर में 42 रन की साझेदारी कर विस्फोटक शुरूआत दी। नरेन तभी खलील अहमद की गेंद पर बोल्ड हो गए। उन्होंने आठ गेंदों पर तीन चौके और दो छक्के लगाए।

इसके बाद कोलकाता ने 73 रन तक अपने चार विकेट गंवा दिए, जिसमें शुभमन गिल (3), पिछले मैच के हीरो नीतीश राणा (11) और कप्तान दिनेश कार्तिक (6) के विकेट शामिल हैं।

हालांकि लिन ने इस सीजन में अपना पहला मैच खेल रहे रिंकू सिंह (30) के साथ पांचवें विकेट के लिए 51 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी कर टीम को सम्मानजनक स्थिति में पहुंचाया।

रिंकू ने 25 गेंदों पर एक चौका और दो छक्के लगाए। उनके आउट होने के बाद लिन भी 47 गेंदों की पारी में चार चौके और एक छक्का लगाकर चलते बने। उन्होंने आईपीएल का अपना नौंवां अर्धशतक लगाया।

लिन के आउट होने के बाद बल्लेबाजी के लिए आंद्रे रसेल कुछ खास नहीं कर सके और नौ गेंदों पर दो छक्कों की मदद से 15 रन बनाकर आउट हो गए। पीयूष चावला ने चार और केसी करियप्पा ने नाबाद नौ रन बनाए।

हैदराबाद की ओर से खलील अहमद ने तीन और भुवनेश्वर कुमार ने दो और संदीप शर्मा तथा राशिद खान ने एक-एक विकेट लिया।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

नई दिल्ली: दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने शनिवार को यहां फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैच में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए किंग्स इलेवन पंजाब को पांच विकेट से मात दी।

इस दमदार जीत के बाद तालिका में तीसरे पायदान पर काबिज दिल्ली की टीम के कुल 12 अंक हो गए हैं। वह रन रेट के आधार पर दूसरे स्थान पर मौजूद मुंबई इंडियंस से पीछे है।

दिल्ली ने पंजाब की ओर से दिए गए 164 रनों के लक्ष्य को 19.4 ओवर में पांच विकेट खोकर ही हासिल कर लिया। मेहमान टीम की ओर से हरडस विजोएन ने दो और मोहम्मद शमी ने एक विकेट लिया।

लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली की शुरुआत पंजाब की तरह खराब रही, लेकिन उसने पावरप्ले में तेजी से रन बनाए। सलामी बल्लेबाजी पृथ्वी शॉ कुछ खास नहीं कर पाए और 13 के निजी स्कोर पर रन आउट हो गए।

शॉ के पवेलियन लौटने के बाद शिखर धवन ने कप्तान श्रेयस अय्यर के साथ मिलकर तेजी से रन बनाए। पहले छह ओवर में मेजबान टीम ने कुल 60 रन जड़ दिए।

धवन 12वें ओवर में अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने 50 रन बनाने के लिए 36 गेंदों का सामना किया और मेजबान टीम की पारी को लड़खड़ाने नहीं दिया। अय्यर ने भी उनका बखूबी साथ निभाया।

कोटला की धीमी विकेट का लाभ उठाने के लिए पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने लगातार स्पिन गेंदबाजों का उपयोग किया, लेकिन उन्हें विकेट लेने में बहुत कठिनाई हुई। अय्यर ने शुरुआत में अपना समय लिया और फिर तेजी से रन बनाए।

मैच के 14वें ओवर में पंजाब को सफलता मिली। तेज गेंदबाज विजोएन ने धवन को अश्विन के हाथों कैच आउट कराया। धवन ने 41 गेंदों पर सात चौके और एक छक्के की बदौलत 56 रन की पारी खेली।

विकेटीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत से इस अहम मौका पर रनों की उम्मीद थी, लेकिन उन्होंने एक बार फिर निराशा किया। पंत को विजोएन ने छह के निजी स्कोर पर अपना दूसरा शिकार बनाया और पंजाब की उम्मीदों को जिंदा रखा।

अय्यर ने कोलिन इंग्राम (19) के साथ मिलकर कप्तानी पारी खेली और टूर्नामेंट का अपना 12वां अर्धशतक पूरा किया। शमी ने इंग्राम को अपना शिकार बनाया और हरफनमौला खिलाड़ी अक्षर पटेल एक रन बनाकर रन आउट हो गए जिसने मेजबान टीम के खेमे में चिंता बढ़ा दी।

आखिरी ओवर में दिल्ली को जीत के लिए छह रनों की दरकार थी और गेंद कुरेन के हाथों में थी, लेकिन इस बार वह कमाल नहीं कर पाए और दिल्ली की टीम ने मुकाबला जीत लिया।

अय्यर 58 रन बनाकर नाबाद रहे, उन्होंने 49 गेंदों की अपनी पारी में पांच चौके एक छक्का लगाया। शेरफेन रदरफोर्ड दो रन बनाकर नाबाद पवेलियन लौटे।

इससे पहले, टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी पंजाब की शुरुआत खराब रही। फॉर्म में चल रहे सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल केवल 12 रन ही बना पाए। संदीप लामिछाने ने उन्हें पवेलियन भेजकर 13 के कुल योग पर मेहमान टीम को पहला झटका दिया।

क्रिस गेल पर हलांकि, किसी प्रकार दबाव नहीं दिखा और उन्होंने खुलकर बल्लेबाजी की। पावरप्ले में पंजाब ने मयंक अग्रवाल (2) का विकेट भी खो दिया, लेकिन गेल की आक्रामक बल्लेबाजी के कारण मेहमान टीम पहले छह ओवर में 50 रन बनाने में कमायाब रही।

अग्रवाल को कगिसो रबाडा ने शेरफेन रदरफोर्ड के हाथों कैच करवाया। चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए दिक्षण अफ्रीकी बल्लेबीज डेविड मिलर भी ज्यादा देर तक क्रीज पर टिक नहीं पाए। उन्हें सात के निजी स्कोर पर अक्षर पटेल ने पवेलियन की राह दिखाई।

इसके बाद, गेल ने मंदीप सिंह के साथ मिलकर पंजाब की पारी को तेजी से आगे बढ़ाया। गेल खतरनाक नजर आ रहे थे, लेकिन 13वें ओवर में लामिछाने ने उन्हें आउट कर दिया। उन्होंने 37 गेंदों की अपनी पारी में छह चौके और पांच छक्के जड़े।

गेल और मंदीप के बीच चौथे विकेट के लिए 45 रनों की साझेदारी हुई।

हरफनमौला खिलाड़ी सैम कुरेन भी लामिछाने की बेहतरीन गेंदबाजी का शिकर हुए। यहां मेहमान का स्कोर पांच विकेट पर 106 रन हो गया।

मंदीप ने कप्तान रविचंद्रन अश्विन (16) के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाने प्रयास किया, लेकिन दोनों की बीच 23 रनों की ही साझेदारी हो पाई। पटेल ने 30 के निजी स्कोर पर मंदीप को आउट करके पंजाब को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया।

हरप्रीत बराड़ 20 और हरडस विजोएन दो रन बनाकर नाबाद रहे। दिल्ली की ओर से लामिछाने ने तीन जबकि रबाडा और पटेल ने दो-दो विकेट चटकाए।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

जयपुर: राजस्थान रॉयल्स ने शनिवार को यहां स्टीव स्मिथ की कप्तानी में आईपीएल के 12वें संस्करण में पहली जीत दर्ज की। सवाई मानसिंह स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में मेजबान टीम ने मुंबई इंडियंस को पांच विकेट से हराया।

स्मिथ की देखरेख में राजस्थान की टीम इस सीजन में अपना पहला मैच खेल रही थी। अजिंक्य रहाणे के स्थान पर स्मिथ को कप्तान बनाया गया। राजस्थान की यह कुल तीसरी जीत है।

राजस्थान ने 162 रनों के लक्ष्य को 19.1 ओवरों में पांच विकेट खोकर हासिल कर लिया। स्मिथ ने अपनी टीम के लिए नाबाद 59 रनों की पारी खेली। रियान पराग ने 43 और संजू सैमसन ने 35 रन बनाए।

नौ मैचो में राजस्थान की यह तीसरी जीत है जबकि 10 मैचों में मुंबई को चौथी हार मिली है। मुम्बई इस हार के बावजूद तालिका में दूसरे और राजस्थान जीत के बावजूद सातवें स्थान पर है।

लक्ष्य का पीछा करते हुए राजस्थान ने पावरप्ले का फायदा उठाया। मेजबान टीम ने पहले छह ओवर में केवल एक विकेट खोकर 60 रन बनाए। अजिंक्य रहाणे को राहुल चहर ने 12 के निजी स्कोर पर आउट किया।

दूसरे विकेट के लिए सैमसन और स्मिथ के बीच 37 रनों की साझेदारी हुई। सैमसन को चहर ने अपना दूसरा शिकार बनाया। हरफनमालौ खिलाड़ी बेन स्टोक्स अपना खाता भी नहीं खोल पाए और चहर की ही गेंद पर आउट हुए।

यहां राजस्थान का स्कोर तीन विकेट पर 77 रन था और फिर स्मिथ ने पराग के साथ मिलकर 70 रनों की अहम साझेदारी निभाई। पराग और एश्टन टर्नर 19वें ओवर में आउट हो गए, लेकिन स्मिथ एक छोर पर टिके रहे और टीम को जीत दिलाकर वापस लौटे।

मुंबई के लिए चहर ने तीन और जसप्रीत बुमराह ने एक विकेट लिया।

इससे पहले, टॉस हारकर बल्लेबजी करने उतरी मुंबई इंडियंस ने निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट 161 रन जड़े। मेहमान टीम की ओर से क्विंटन डी कॉक ने सबसे अधिक 65 रनों की पारी खेली जबकि सूर्यकुमार यादव ने 34 रन बनाए।

मुंबई की शुरुआत अच्छी नहीं रही। 11 के कुल योग पर ही उसने कप्तान रोहित शर्मा (5) का विकेट गंवा दिया। इसके बाद हालांकि 74 गेंदों पर छह चौके और दो छक्केलगाने वाले डी कॉक और यादव (33 गेंद, 1 चौका और 1 छक्का) ने दूसरे विकेट के लिए 97 रन जोड़े।

यादव 108 के कुल योग पर आउट हुए। डी कॉक का विकेट 111 रन के कुल योग पर गिरा। उनके जाने के बाद केरन पोलार्ड (10) और हार्दिक पांड्या (23) विकेट पर आए।

पोलार्ड का विकेट 124 और पांड्या का 152 के कुल योग पर गिरा। पांड्या ने 15 गेंदों की पारी में दो चौके और एक छक्का लगाया। बेन कटिंग नौ गेंदो पर एक चौके और एक छक्के की मदद से 13 रन बनाकर नाबाद लौटे।

राजस्थान की ओर से श्रेयस गोपाल ने दो विकेट लिए। स्टुअर्ट बिन्नी, ज्योफ्री आर्चर और जयदेव उनादकट ने भी एक-एक सफलता हासिल की।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

नई दिल्ली/जयपुर: इंडियन प्रीमियर लीग की (आईपीएल) फ्रेंचाइजी राजस्थान रॉयल्स ने अजिंक्य रहाणे को कप्तानी से हटाकर अस्ट्रेलिया के स्टीवन स्मिथ को इस सीजन के शेष बचे मैचों के लिए टीम की कमान सौंपी और उनके इस निर्णय से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) हैरान है।

दक्षिण अफ्रीका में पिछले वर्ष हुए सैंडपेपर विवाद के बाद क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) ने कहा था कि स्मिथ अगले दो वर्षो तक सभी अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू टूर्नामेंट में कप्तानी नहीं कर पाएंगे। स्मिथ के क्रिकेट खेलने पर एक साल का प्रतिबंध लगाया गया था,जो अब समाप्त हो चुका है।

बीसीसीआई के अधिकारी ने माना कि बोर्ड ने सीए के निर्णय को ध्यान में रखकर डेविड वार्नर और स्मिथ को अईपीएल के पिछले सीजन में खेलने की इजाजत नहीं दी थी। इसलिए, स्मिथ को कप्तान बनाने से पहले राजस्थान को अपने निर्णय पर विचार करना चाहिए था।

आईएएनएस से बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा, "प्रशासकों की समिति (सीओए) ने खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगाने के निर्णय को ध्यान में रखकर उन्हें आईपीएल के पिछले संस्करण में हिस्सा नहीं लेने दिया था। तो उनकी कप्तानी पर लगाए गए प्रतिबंध का क्या हुआ? क्या वह भी इस फैसले का हिस्सा नहीं है? या सीए के फैसले पर केवल अपनी सुविधा के अनुसार अमल किया जाएगा। सीओए को इस मामले पर संज्ञान लेना चाहिए और फ्रेंचाइजी को उत्तर भी देना होगा।"

आईपीएल के पिछले संस्करण में स्मिथ और वार्नर पर प्रतिबंध लगाते हुए सीओए ने कहा था, "बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सी.के खन्ना, आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला और कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी के साथ परामर्श करने के बाद सीओए ने स्मिथ और वार्नर के आईपीएल 2018 में भाग लेने पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। बीसीसीआई को उम्मीद है कि आईपीएल में भाग लेने वाले खिलाड़ियों के मन में क्रिकेट की भावना और खिलाड़ियों एवं मैच अधिकारियों के लिए बनाई गई आचार संहिता के प्रति सर्वोच्च सम्मान है।"

बीसीसीआई अधिकारी ने कहा, "अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का संविधान कहता है कि अगर एक पूर्ण सदस्य कोई निर्णय लेता है, तो अन्य सदस्यों को भी इसका पालन करना चाहिए और इसलिए विभिन्न देशों ने अपने खिलाड़ियों को आईसीएल में खेलने की अनुमति नहीं दी क्योंकि बीसीसीआई उसका समर्थन नहीं करता था।"

मुंबई इंडियंस के खिलाफ मुकाबला शुरू होने से पहले राजस्थान रॉयल्स के क्रिकेट के प्रमुख जुबिन भरुचा ने कहा, "अजिंक्य टीम में हैं और वह हमेशा रॉयल्स के साथ रहेंगे। उन्होंने 2018 में चुनौतीपूर्ण माहौल में टीम को प्लेऑफ में पहुंचाया था। वह हमारी टीम और नेतृत्व का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बने हुए हैं और स्टीव को जहां भी जरूरत होगी वह उनकी मदद करेंगे।"

उन्होंने कहा, "स्टीव सभी प्रारूपों में दुनिया के सबसे सफल कप्तानों में से एक हैं। हमें विश्वास है कि वह रॉयल्स को सफलता की ओर ले जा सकते हैं।"

रहाणे ने इस सीजन के आठ मैचों में अबतक 201 रन बनाए हैं, जिसमें 70 उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर है। वहीं, स्मिथ ने सात मैचों में अबतक 186 रन बनाए हैं, जिसमें नाबाद 73 रन उनका सर्वोच्च स्कोर है।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

कोलकाता: नीतीश राणा (नाबाद 85) और आंद्रे रसेल (65) की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के बावजूद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने यहां ईडन गार्डन्स मैदान पर खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण के मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स को 10 रनों से शिकस्त दी।

कोलकाता की टीम ने 214 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट खोकर 203 रन बनाए। राणा ने 46 गेंदों की अपनी पारी में नौ चौक्के और पांच छक्के लगाए, जबकि रसेल ने 25 गेंदों की अपनी पारी में दो चौक्के और नौ छक्के लगाए।

इस जीत के साथ बेंगलोर ने इस संस्करण के प्ले-ऑफ में पहुंचने की अपनी उम्मीदों को जिंदा रखा है।

कोलकाता की शुरुआत बेहद खराब रही। नौ वर्षो बाद बेंगलोर के लिए खेल रहे दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने सलामी बल्लेबाज को एक रन के निजी स्कोर पर ही आउट कर दिया।

सुनील नरेन (18) ने तेजी से रन बनाने का प्रयास किया, लेकिन 24 के कुल योग पर नवदीप सैनी ने उन्हें पवेलियन भेजकर पॉवरप्ले में बड़ा स्कोर बनाने के मेजबान टीम के सपने को पूरा नहीं होने दिया। खराब फॉर्म से जूझ रहे युवा बल्लेबाज शुभमन गिल (9) को स्टेन ने अपना दूसरा शिकार बनाकर कोलकाता को खराब स्थिति में पहुंचा दिया।

रॉबिन उथप्पा ने राणा के साथ मिलकर कोलकाता की पारी को आगे बढ़ाया। मेजबान टीम के कुल योग में अभी 46 रन ही जुड़े थे कि हरफनमौला खिलाड़ी मार्कस स्टोइनिस, उथप्पा (9) को पवेलियन भेजने में कामयाब रहे।

इसके बाद, रसेल क्रीज पर आए और उन्होंने राणा के साथ मिलकर कोलकाता की पारी को दोगुनी तेजी से आगे बढ़ाया। रसेल ने 15वें ओवर में स्पिन गेंदबाज युजवेंद्र चहल को तीने गेंदों पर तीन छक्के लगाकर अपने इरादे साफ जाहिर कर दिए।

दूसरे छोर से राणा ने भी गेंदबाजों को किसी प्रकार की राहत नहीं दी। उन्होंने छक्के के साथ अपना अर्धशतक पूरा किया। आखिरी तीन ओवर में कोलकाता को जीत के लिए 61 रन चाहिए थे। राणा ने स्टेन के ओवर में 18 रन जड़कर अपनी टीम की जीत की उम्मीदों को जिंदा रखा।

स्टोइनिस ने 19वें में ओवर में 19 रन दिए और मैच रोमांचक मोड़ पर पहुंच गया। कप्तान विराट कोहली आखिरी ओवर में मोइन अली को गेंदबाजी पर लेकर आए। उनका यह दांव सही साबित हुआ।

रसेल रन आउट हुए। उनके और राणा के बीच पांचवें विकेट के लिए 118 रनों की बड़ी साझेदारी हुई। मेहमान टीम के लिए स्टेन ने दो जबकि सैनी और स्टोइनिस ने एक-एक विकेट चटकाया।

इससे पहले, टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी बेंगलोर की शुरुआत खराब रही और 18 के कुल योग पर उसे पहला झटका लगा।

सलामी बल्लेबाज पार्थिव पटेल को 11 के निजी स्कोर पर आउट करके सुनील नरेन ने बेंगलोर को पहला झटका दिया। जल्द विकेट खोने के कारण मेहमान टीम पावरप्ले का कुछ खास फायदा नहीं उठा पाई और पहले छह ओवर में 42 रन बनाए।

दूसरे विकेट के लिए कोहली और अक्षदीप नाथ (13) के बीच 41 रनों की साझेदारी हुई। नाथ को हरफनमौला खिलाड़ी आंद्रे रसेल ने पवेलियन भेजा।

इसके बाद, कोहली और इंग्लैंड के मोइन अली ने तेजी से रन बनाए। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 90 रनों की साझेदारी की। अली को 66 के निजी स्कोर पर प्रसिद्ध कृष्णा के हाथों कैच कराकर कुलदीप यादव ने मेजबान टीम के लिए खतरनाक दिख रही इस साझेदारी को तोड़ने में कमयाबी पाई।

अली ने महज 28 गेंदों की अपनी पारी में पांच चौके और छह छक्के जड़े। कोहली एक छोर पर डटे रहे। उन्होंने आक्रामक बल्लेबाजी की और कोलकाता के किसी गेंदबाज को नहीं बख्शा।

पारी के आखिरी ओवर की पांचवीं गेंद पर हैरी गर्नले को चौका मारकर कोहली ने अपना शतक पूरा किया। पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए हरफनमौला खिलाड़ी मार्कस स्टोइनिस 17 रन बनाकर नाबाद रहे।

कोलकाता की ओर से नरेन, रसेल, कुलदीप और गर्नले ने एक-एक विकेट लिया।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

नई दिल्ली: मुंबई इंडियंस ने अपनी सटीक गेंदबाजी के दम पर यहां फिरोजशाह कोटला मैदान पर गुरुवार को खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण के मैच में दिल्ली कैपिटल्स को 40 रनों से करारी शिकस्त दी।

मुंबई ने पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली को पांच विकेट पर 169 रनों का लक्ष्य दिया जिसके जवाब में दिल्ली निर्धारित 20 ओवर में नौ विकेट पर 128 रन ही बना पाई।

मुंबई की नौ मैचों में यह छठी जीत है और अब उसके 12 अंक हो गए हैं और वह तालिका में दूसरे नंबर पर पहुंच गई है। वहीं, दिल्ली की नौ मैचों में चौथी हार है और वह 10 अंकों के साथ तीसरे नंबर पर है।

लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली को शिखर धवन और पृथ्वी शॉ ने पावरप्ले में 48 रन जेड़कर अच्छी शुरुआत दी। धवन को राहुल चाहर ने 35 के निजी स्कोर पर आउट किया। धवन ने 22 गेंदों की अपनी पारी में पांच चौके और एक छक्का लगाया।

चाहर ने इसके बाद शॉ को अपना दूसरा शिकार बनाया। शॉ 24 गेंदों पर दो चौकों की मदद से महज 20 रन ही बना पाए। शॉ के आउट होते ही मुंबई की गेंदबाजी ने दिल्ली पर अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया।

कोलिन मुनरो और कप्तान श्रेयस अय्यर तीन-तीन रन बनाकर पवेलियन लौट गए। यहां मेजबान टीम का स्कोर चार विकेट के नुकसान पर 63 रन हो गया।

विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (7) से सभी को आक्रामक पारी की उम्मीद थी, लेकिन वह भी तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की गेंद पर बोल्ड हो गए।

हरफनमौला खिलाड़ी अक्षर पटेल ने एक छोर पर टिके रहकर दिल्ली की जीत की उम्मीदों को जिंदा रखा। हालांकि, दूसरी ओर से मेजबान टीम के विकेट गिरते रहे। क्रिस मोरिस (11) को लसिथ मलिंगा ने पवेलियन की राह दिखाई जबकि कीमो पॉल को बुमराह ने रन आउट किया। पॉल बिना खाता खोले आउट हुए।

पटेल भी बढ़ते रन रेट के तले दब गए और 26 रनों के निजी स्कोर पर बुमराह का शिकार हुए। इसके बाद दिल्ली 128 रनों तक ही पहुंच पाई। अमित मिश्रा (6) और इशांत शर्मा (0) नाबाद रहे।

मुंबई की ओर से चहरे ने तीन और बुमराह ने दो विकेट चटकाए जबकि बाकी के तीन गेंदबाजों को एक-एक विकेट मिला।

इससे पहले, क्रुणाल पांड्या और हार्दिक पांड्या ने पांचवें विकेट के लिए ताबड़तोड़ 54 रनों की सोझेदारी कर मुंबई इंडियंस सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

मुंबई ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट के नुकसान पर 168 रन का सम्मानजनक स्कोर बनाया।

रोहित शर्मा और क्विंटन डी कॉक ने पारी की शुरूआत की, लेकिन पावरप्ले का लाभ उठाने से नहीं चूके। सलामी जोड़ी ने पहले छह ओवर में 57 रन जड़े।

इसके बाद अनुभवी अमित मिश्रा ने अपने ओवर की पहली ही गेंद पर रोहित को बोल्ड कर दिया। राहित ने 22 गेंदों पर 30 रनों की पारी खेली, जिसमें उन्होंने तीन चौके और एक छक्का लगाया।

तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए बेन कटिंग भी कुछ खास नहीं कर पाए और दो के निजी स्कोर पर पवेलियन लौट गए। कटिंग का विकेट अक्षर पटेल ने लिया।

डी कॉक (35) एक छोर पर अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन 10वें ओवर की पांचवीं गेंद पर वह भी तीसरे विकेट के रूप में रन आउट हो गए। डी कॉक ने 27 गेंदों की अपनी पारी में दो चौके और दो छक्के जड़े।

इसके बाद यादव और क्रूणाल ने चौथे विकेट के लिए 30 रनों की साझेदारी की। कगिसो रबाडा ने यादव को 26 के निजी स्कोर पर आउट करके इस साझेदारी को तोड़ा।

हार्दिक ने महज 15 गेंदों में 32 रन बनाए। उन्होंने अपनी पारी में दो चौके और तीन छक्के लगाए। राबाडा ने हार्दिक को पवेलियन भेजा। क्रणाल ने 26 गेंदों पर 37 रन की नाबाद पारी में पांच चौके लगाए। मुंबई ने अंतिम तीन ओवरों में 50 रन बटोरे।

दिल्ली के लिए रबाडा ने दो जबकि मिश्रा और पटेल ने एक-एक विकेट लिया।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

Don't Miss