नई दिल्ली: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण के दौरान ट्विटर पर हजारों लोग मौजूद रहे और इस सीजन एक दिन में औसतन तकरीबन 5,29,411 ट्वीट हुए।

23 मार्च से शुरू होकर 12 मई को खत्म हुए आईपीएल-12 के दौरान 51 दिनों में कुल 2.7 करोड़ ट्वीट हुए हैं। यह बीते साल के आईपीएल के ट्वीट से 44 प्रतिशत ज्यादा है।

इन ट्विट्स में सबसे खास ट्वीट विजेता टीम मुंबई इंडियंस के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या का महेंद्र सिंह धोनी को लेकर किया गया ट्वीट रहा। पांड्या ने इस ट्वीट में धोनी को अपना दोस्त और प्ररेणास्त्रोत बताया था। इस ट्वीट को 16 हजार लोगों ने रीट्वीट किया था।

आईपीएस के इस सीजन में ट्विटर पर सबसे ज्यादा चर्चा मुंबई इंडियंस की हुई। वो भी तब जब टीम ने चेन्नई सुपर किंग्स को मात दे फाइनल पर कब्जा जमाया। इस दौरान 67 प्रतिशत मुंबई इंडियंस पर बात हुई तो बाकी 37 फीसदी चेन्नई पर।

हालांकि चेन्नई ऐसी टीम रही जिसे लेकर काफी चर्चा हुई। चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को लेकर सबसे ज्यादा ट्वीट आए जबकि उनके बाद विराट कोहली, रोहित शर्मा, हरभजन सिंह और आंद्रे रसेल रहे।

ट्वीटर इंडिया के महाप्रबंधक मनीष महेश्वरी ने कहा, "प्रशंसक क्रिकेट को लेकर ट्वीट करना पसंद करते हैं और इस साल हमने 2.7 करोड़ ट्वीट आईपीएल-2019 सीजन के दौरान देखे। आपके आस-पास क्या हो रहा है उसे देखने का ट्वीटर सबसे अच्छा तरीका है।"

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

मुंबई: ऑन लाइन स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म हॉटस्टार पर रिकॉर्ड 1.86 करोड़ दर्शकों ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 12वें संस्करण देखा।

इसके साथ ही हॉटस्टार कई वैश्विक रिकॉर्ड भी तोड़े।

एक बयान में कहा गया कि मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच रविवार को हुए फाइनल मैच में हॉटस्टार के 1.27 करोड़ दर्शकों का पुराना रिकॉर्ड टूटा।

आईपीएल के 12 वें संस्करण के लिए हॉटस्टार ने 30 करोड़ का लक्ष्य रखा था और टूर्नामेंट के अंत तक उसने न केवल इस लक्ष्य को हासिल किया बल्कि पिछले वर्ष की तुलना में 74 प्रतिशत की वृद्धि भी दर्ज की।

हॉटस्टार के चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर वरुण नारंग ने कहा, "हम विचारों के माध्यम से मौजूदा स्थिति को चुनौती देते हुए अपने उपभोक्ताओं को गेम-चेंजिंग व्यूइंग अनुभव प्रदान करने में विश्वास रखते हैं।"

उन्होंने कहा, "तकनीक और ड्राइविंग स्केल में हमारी चौतरफा विशेषज्ञता के साथ हमें विश्वास है कि हम वैश्विक रिकॉर्ड को तोड़ते रहेंगे और प्रत्येक गुजरते साल के साथ नए बेंचमार्क सेट करेंगे।"

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

नई दिल्ली: दिग्गज स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह का कहना है कि आस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर शेन वॉटसन ने चोटिल होने के बावजूद चेन्नई सुपर किंग्स के लिए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के फाइनल में बल्लेबाजी की।

वॉटसन ने हैदराबाद के राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में मुंबई इंडियंस के खिलाफ हुए फाइनल में 59 गेंदों पर महत्वपूर्ण 80 रनों की पारी खेली। हालांकि, उनकी इस पारी के बावजूद चेन्नई की टीम एक रन से खिताब अपने नाम करने से चूक गई।

हरभजन ने सोमवार को इंस्टाग्राम पर एक फोटो साझा की जिसमें वॉटसन ऑफ साइड में शॉट खेल रहे हैं और उनके घुटने मुड़े हुए हैं।

फोटो में यह भी देखा जा सकता है कि वॉटसन के बाएं पैर पर खून का एक बड़ा धब्बा है और हरभजन ने बताया कि सलामी बल्लेबाज इस चोट के बावजूद नहीं रुके।

हरभजन ने लिखा, "क्या आप लोग उनके घुटने पर खून देख सकते हैं। उन्हें मैच के बाद छह टांके लगे। वह डाइव लगाते हुए चोटिल हुए लेकिन बिना किसी को बताए बल्लेबाजी करते रहे।"

उन्होंने लिखा, "यह हमारे वॉटसन हैं, उन्होंने हमें लगभग खिताब दिला ही दिया था।"

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

नई दिल्ली: रिकॉर्ड चौथी बार आईपीएल का खिताब अपने नाम करने वाली मुंबई इंडियंस की टीम अब वापस मुंबई पहुंचने पर फैंस के साथ इसकी खुशियां मनाएंगी।

टीम सोमवार शाम को वापस मुंबई पहुंचने पर एंटिलिया से खुले बस में पेडर रोड और मरीन ड्राइव होते हुए नरीमन प्वाइंट स्थित होटल ट्राइडेंट तक जाएगी।

टीम के खिलाड़ी करीब छह किलोमीटर तक खिताबी जीत का जश्न मनाते हुए जाएंगे और इस दौरान वे प्रशंसकों से हाथ भी मिलाते नजर आएंगे।

मुंबई इंडियंस ने रविवार को राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में खेले गए फाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स को एक रन से हराकर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण का खिताब अपने नाम कर लिया।

चेन्नई के गेंदबाजों ने मुंबई को 20 ओवरों में आठ विकेट के नुकसान पर 149 रनों पर रोक दिया था। लेकिन इसके बाद वह निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट के नुकसान पर 148 रन ही बना सकी।

चेन्नई के लिए शेन वाटसन ने 59 गेंदों पर 80 रन की पारी खेली।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

हैदराबाद: चेन्नई सुपर किंग्स के साथ हुए आईपीएल के 12वें सीजन के फाइनल मुकाबले में रविवार को अम्पायर के फैसले पर नाराजगी जाहिर करने पर मुम्बई इंडियंस टीम के बल्लेबाज केरन पोलार्ड पर मैच फीस का 25 फीसदी हिस्सा बतौर जुर्माना लगाया गया है। 

मुम्बई इंडियंस टीम ने राजीव गांधी स्टेडियम में हुए खिताबी मुकाबले में सुपर किंग्स को एक रन से हराते हुए चौथी बार आईपीएल खिताब पर कब्जा किया। पोलार्ड ने इस मैच में नाबाद 41 रन बनाए थे।

अंतिम ओवर में पोलार्ड ने अम्पायर नितिन मेनन द्वारा दो गेंदों पर वाइड न दिए जाने को लेकर नाराजगी जाहिर की थी। अम्पायर के फैसले का मजाक उड़ाने के मकसद से वह ड्वायन ब्रावो द्वारा डाले जा रहे ओवर के दौरान स्टम्प्स से काफी दूर वाइड लाइन के पास जाकर स्टांस लिया था।

मैदान पर मौजूद दोनों अम्पायरों मेनन और इयान गाउल्ड ने पोलार्ड से बात की थी और फिर वह अपने सामान्य स्टांस में गए थे। मुम्बई ने इस मैच में सात विकेट पर 148 रन बनाए।

मैच के बाद आयोजन समिति ने एक बयान जारी कर पोलार्ड पर जुर्माना लगाने की पुष्टि की। बयान में हालांकि पोलार्ड की किसी गलती का उल्लेख नहीं है।

पोलार्ड ने आयोजन समिति के इस फैसले को स्वीकार कर लिया और इसी कारण इस सम्बंध में किसी प्रकार की सुनवाई की जरूरत नहीं महसूस हुई।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

हैदराबाद: आखिरी ओवर में अपनी बेहतरीन गेंदबाजी के कारण मुंबई इंडियंस को चौथा इंडियन प्रीमियर लीग खिताब दिलाने वाले तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा ने कहा है कि आखिरी गेंद उन्होंने अपनी वो गेंद फेंकी जो उन्हें अक्सर विकेट दिलाती है।

मुंबई ने रविवार को खेले गए फाइनल में चेन्नई के सामने 150 रनों का लक्ष्य रखा था। चेन्नई के लिए सब कुछ सही जा रहा था। आखिरी ओवर में उसे जीत के लिए नौ रन चाहिए थे। इसी ओवर में हालांकि उसके सैट बल्लेबाज शेन वाटसन (80) रन आउट हो गए। आखिरी गेंद पर चेन्नई को दो रन चाहिए थे, लेकिन मलिंगा ने यॉर्कर पर शार्दूल ठाकुर को पगबाधा आउट करा मौजूदा विजेता को हार सौंपी।

मैच के बाद मलिंगा ने कहा, "आखिरी गेंद पर मैंने सोचा था कि अगर उन्हें एक रन मिल गया तो यह सुपर ओवर होगा, लेकिन मैं अपनी टीम को जिताना चाहता था और इसलिए मैंने अपनी वो गेंद फेंकी जिस पर मुझे विकेट मिलता है।"

चार ओवरों में सिर्फ 14 रन देकर दो विकेट लेने वाले जसप्रीत बुमराह ने कहा, "हम आखिरी में शांत रहना चाहते थे क्योंकि इस तरह की स्थिति पुणे में 2017 में भी आई थी। इस सीजन हमें हमेशा अपनी टीम पर भरोसा था। हमें हर खिलाड़ी पर भरोसा था। हमारी टीम में अपने दिन हर खिलाड़ी मैच विजेता बन सकता है।"

केरन पोलार्ड ने कहा, "इस तरह के मैचों में आप अच्छा करना चाहते हो। दुनिया ऐसे मैचों को याद रखती है। कई फाइनल मैचों में खेलकर मुझे जो अनुभव मिला है उससे मैं कह सकता हूं कि दूसरी पारी खेलने वाली टीम पर दबाव होता है। बुमराह और मलिंगा ने जिस तरह आखिरी के दो ओवर निकाले वो शानदार रहे।"

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

हैदराबाद: बॉल टेम्पिरिंग विवाद के कारण लगे प्रतिबंध के चलते बीते साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) से बाहर रहे आस्ट्रेलिया के बल्लेबाज डेविड वार्नर ने आईपीएल के 12वें सीजन में दमदार वापसी की और लीग में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने।

वह लीग के 12वें सीजन में सबसे ज्याद रन बनाने के कारण औरेंज कप के हकदार रहे।

वार्नर ने इस सीजन 12 मैच खेले और 69.20 की औसत से 692 रन बनाए। इसमें एक शतक और आठ अर्धशतक शामिल हैं। वार्नर ने इस सीजन तीन मैच कम खेले क्योंकि विश्व कप टीम का हिस्सा बनने के लिए उन्हें बीच में से स्वदेश लौटना पड़ा। वार्नर के जाने के बाद हैदराबाद दो लीग मैच और प्लेऑफ में एक एलिमिनेटर मैच भी खेला था। उनका सर्वोच्च स्कोर नाबाद 100 रहा।

दूसरे स्थान पर किंग्स इलेवन पंजाब के सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल रहे। राहुल ने 14 मैचों में 53.90 की औसत से एक शतक और छह अर्धशतक के दम पर 593 रन बनाए। राहुल का इस सीजन सर्वश्रेष्ठ स्कोर नाबाद 100 रहा।

तीसरे स्थान पर मुंबई इंडियंस के क्विंटन डी कॉक हैं। जिन्होंने 16 मैचों की 16 पारियों में 35.26 की औसत से 529 रन बनाए। उन्होंने इस सीजन चार अर्धशतक भी जमाए। डी कॉक ने इस सीजन एक पारी में सर्वाधिक 81 रन बनाए।

छह सीजन बाद प्लेऑफ में पहुंचने वाली दिल्ली कैपिटल्स के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन चौथे स्थान पर रहे। धवन ने 16 मैचों में 34.73 की औसत से 521 रन अपने खाते में डाले। धवन ने अपनी टीम के लिए पांच अर्धशतक भी लगाए हैं। धवन का सर्वोच्च स्कोर नाबाद 97 रहा।

पांचवें नंबर वो कोलकाता नाइट राइडर्स के आंद्रे रसेल ने जिन्होंने इस सीजन अपनी कई पारियों से कोलकाता को हार से मुंह से बाहर निकाला। रसेल ने इस सीजन 14 मैच खेले जिसमें 56.66 की औसत से 510 रन बनाए। रसेल ने चार बार 50 का आंकड़ा पार किया। रसेल का सर्वोच्च स्कोर नाबाद 80 रहा।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

हैदराबाद: मुंबई इंडियंस ने रविवार को राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में खेले गए फाइनल में अपनी चिर प्रतिद्वंद्वी चेन्नई सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में बाजी पलट एक रन से हरा इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण का खिताब अपने नाम कर लिया।

चेन्नई के गेंदबाजों ने मुंबई को 20 ओवरों में आठ विकेट के नुकसान पर 149 रनों पर रोक दिया था। चेन्नई के लिए आखिरी ओवर तक सब सही जा रहा था लेकिन शेन वाटसन (80) के रन आउट होने से बाजी पलट गई। आखिरी गेंद पर चेन्नई को जीत के लिए दो रन चाहिए थे। लसिथ मलिंगा ने इसी गेंद पर शार्दूल ठाकुर को पगबाधा आउट करा मुंबई के खाते में चौथा आईपीएल खिताब डाला। चेन्नई 20 ओवरों में सात विकेट के नुकसान पर 148 रन ही बना सकी।

वाटसन ने 59 गेंदों पर आठ चौके और चार छक्के मारे। वाटसन को इस मैच में तीन जीवनदान भी मिले, लेकिन वह फिर भी चेन्नई को जीत नहीं दिला पाए।

इसी के साथ मुंबई ने एक बार फिर चेन्नई को फाइनल जीतने से रोक दिया। यह चौथी बार था तब चेन्नई और मुंबई फाइनल खेल रही थीं जिसमें से तीन बार मुंबई को जीत मिली है।

150 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई ने तेज शुरुआत की लेकिन मुंबई ने तुरंत वापसी करते हुए उसे परेशान किया। लगातार बड़े शॉट मार रहे फाफ डु प्लेसिस (26) को क्रुणाल पांड्या ने क्विंटन डी कॉक के हाथों स्टम्पिंग कराया। वह 33 के कुल स्कोर पर आउट हुए। वाटसन और सुरेश रैना (8) ने टीम का स्कोर 70 तक पहुंचाया। रैना इसी स्कोर पर आउट हो गए। इसके बाद अंबाती रायडू (1) जसप्रीत बुमराह का शिकार बने तो महेंद्र सिंह धोनी (2) को ईशान किशन ने डायरेक्ट हिट पर आउट कर पवेलियन भेजा।

चेन्नई का स्कोर चार विकेट पर 82 रन था। यहां वाटसन ने एक छोर संभाले रखा और टिके रहे। उन्होंने 16 और 18वें ओवर में 20-20 रन ले चेन्नई को रेस में बनाए रखा। वाटसन का साथ दे रहे ड्वयान ब्रावो (15) 19वें ओवर में आउट हो गए।

आखिरी ओवर में चेन्नई को नौ रनों की जरूरत थी। वाटसन के रहने से चेन्नई की जीत की उम्मीदें बरकरार थीं लेकिन चौथी गेंद पर रन लेने को लेकर हुई असमंजस में वाटसन रन आउट हो गए। अगली दो गेंदों पर चार रन चाहिए थे। ठाकुर ने पांचवीं गेंद पर दो रन लिए, लेकिन आखिरी गेंद पर अंपायर द्वारा पगबाधा करार दे दिए गए और चेन्नई को हार मिली।

इससे पहले बल्लेबाजी की दावत मिलने पर पहली पारी खेलने उतरी मुंबई बड़ा स्कोर नहीं कर पाई।

आखिरी के पांच ओवरों में केरन पोलार्ड के रहते हुए मुंबई 47 रन ही बना पाई और इस दौरान उसने तीन विकेट खो दिए। पोलार्ड ने आखिरी ओवर की आखिरी दो गेंदों पर दो चौके मारे लेकिन इससे पहले इसी ओवर में ड्वायन ब्रावो ने उन्हें रोके रखा। पोलार्ड ने 25 गेंदों पर नाबाद 41 रनों की पारी खेली जिसमें तीन चौके और तीन छक्के शामिल रहे।

चेन्नई के लिए दीपक चाहर ने तीन विकेट लिए। शार्दूल ठाकुर और इमरान ताहिर को दो-दो सफलताएं मिलीं।

रोहित शर्मा (15) और क्विंटन डी कॉक (29) ने शुरुआत से तेजी दिखाई और ठाकुर तथा चाहर पर बड़े शॉट्स लगाए। दोनों की आक्रामकता ज्यादा देर रह नहीं पाई। ठाकुर ने 45 के कुल स्कोर पर डी कॉक को आउट किया तो इसी स्कोर पर अगले ओवर में चाहर ने रोहित को महेंद्र सिंह धोनी के हाथों कैच कराया।

उसे युवा बल्लेबाज ईशान किशन और मुंबई के अनुभवी खिलाड़ी सूर्यकुमार यादव ने स्कोरबोर्ड चालू रखा। इन दोनों ने 11 ओवरों में मुंबई के स्कोरबोर्ड पर दो विकेट के नुकसान पर 80 टांग दिए थे। चेंज पर गेंदबाजी करने आए ताहिर के ओवर की दूसरी गेंद पर सूर्यकुमार बोल्ड हो गए। सूर्यकुमार ने 17 गेंदों पर एक चौके की मदद से 15 रन बनाए।

धोनी ने गेंदबाजी में बदलाव करते हुए ठाकुर को बुलाया जो सफल रहा। ठाकुर ने अपनी ही गेंद पर तकरीबन 50-60 मीटर भाग कर क्रुणाल (7) का कैच पकड़ मुंबई को चौथा झटका दिया। कुछ देर बाद किशन (23) ताहिर की गेंद को लंबा मारने की कोशिश में मिसहिट कर बैठे और सुरेश रैना ने उनका कैच पकड़ा।

मुंबई का स्कोर 15 ओवर बाद पांच विकेट के नुकसान पर 102 रन था। अब मैदान पर मुंबई की अंतिम ओवरों की विशेषज्ञ जोड़ी केरन पोलार्ड-हार्दिक पांड्या (10) की थी। यह जोड़ी कुछ खास नहीं कर पाई। रैना ने 18वें ओवर की दूसरी गेंद पर हार्दिक का आसान का कैच छोड़ उन्हें एक जीवनदान दिया जिसका फायदा हार्दिक नहीं उठा सके और अगले ओवर में चाहर का शिकार बने। इसी ओवर में चाहर ने अपने भाई राहुल चाहर को बिना खाता खोले पवेलियन भेज मुंबई का स्कोर सात विकेट पर 140 रन कर दिया।

आखिरी ओवर में ब्रावो ने ज्यादा रन खर्च नहीं किए और मुंबई की बड़े स्कोर की आस धरी रह गई।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट

हैदराबाद: चेन्नई सुपर किंग्स के लेग स्पिनर इमरान ताहिर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे और इसी कारण उन्हें पर्पल कैप से नवाजा गया।

आईपीएल में एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज को पर्पल कैप दी जाती है।

ताहिर ने इस सीजन 17 मैचों की 17 पारियों में कुल 26 विकेट लिए। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 12 रन देकर चार विकेट रहा। ताहिर ने इस सीजन 431 रन खर्च किए।

दूसरे स्थान पर दिल्ली कैपिटल्स के कागिसो रबाडा रहे जिन्होंने 12 मैचों में 368 रन देकर कुल 25 विकेट अपने नाम किए। रबाडा को चोट के कारण दक्षिण अफ्रीका लौटना पड़ा और इसी कारण तीन मैच नहीं खेल पाए। यहां ताहिर को हमवतन रबाडा को पीछे करने का मौका मिला। ताहिर ने फाइनल में भी दो विकेट लिए। रबाडा का इस सीजन सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 21 रन देकर चार विकेट रहा।

तीसरे स्थान पर चेन्नई के ही दीपक चाहर रहे। फाइनल में तीन विकेट लेने वाले चाहर ने इस सीजन 17 मैचों में कुल 22 विकेट अपने नाम किए।

राजस्थान के श्रेयस गोपाल और सनराइजर्स हैदराबाद के खलील अहमद क्रमश: चौथे और पांचवें स्थान पर रहे। गोपाल के हिस्से 14 मैचों में 20 विकेट आए हैं तो वहीं खलील ने नौ मैचों में 19 विकेट लिए हैं।

--आईएएनएस

Published in क्रिकेट

हैदराबाद: महेंद्र सिंह धोनी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) इतिहास के सबसे सफल विकेटकीपर बन गए हैं।

यहां राजीव गांधी स्टेडियम में रविवार को खेले जा रहे फाइनल मुकाबले में मुंबई इंडियंस के खिलाफ क्विंटन डी कॉक का कैच पकड़ कर धोनी ने यह उपलब्धि हासिल की।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान के नाम आईपीएल में 132 शिकार हो गए हैं जिनमें 94 कैच और 38 स्टम्पिंग शामिल हैं। धोनी ने कोलकाता नाइट राइडर्स के कप्तान दिनेश काíतक को इस मामले में पीछे छोड़ा है। कार्तिक के नाम 131 शिकार हैं।

धोनी ने डी कॉक के बाद रोहित शर्मा को आउट कर अपने खाते में एक और शिकार का इजाफा किया।

कार्तिक अब दूसरे स्थान पर पहुंच गए हैं। तीसरे स्थान पर कोलकाता के ही रोबिन उथप्पा हैं जिन्होंने कैच व स्टंपिंग के जरिए कुल 90 खिलाड़ियों को आउट किया है।

--आईएएनएस

 

 

Published in क्रिकेट