भोपाल: मध्यप्रदेश के भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह लोकसभा चुनाव के प्रचार के लिए सोमवार को भोपाल में थे। यहां एक चुनावी सभा में उस वक्‍त झेंप गए जब उन्‍होंने भरे मंच से एक लड़के से पूछा 'क्‍या तुम्‍हारे खाते में 15 लाख आए' जवाब मांगते ही उसे उन्‍होंने मंच पर बुला लिया।

उस लड़के से मिले जवाब से वहां मौजूद सभी नेता हैरान रह गए। युवक स्टेज पर आ गया और उसने कहा कि मोदीजी ने सर्जिकल स्ट्राइक किया है और आतंकियों को मार गिराया है।

गौरतलब है कि इससे पहले दिग्विजय ने ट्वीट में कहा था कि मैं हिंदू धर्म को मानता हूँ, जो हज़ारों सालों से दुनिया को जीने की राह सिखाता आया है। मैं अपने धर्म को हिंदुत्व के हवाले कभी नहीं करूँगा, जो केवल और केवल राजनीतिक सत्ता पाने के लिए संघ का षड्यन्त्र है।

मुझे अपने सनातन हिंदू धर्म पर गर्व है जो वसुदैव क़ुटुम्बकम की बात कहता है। बता दें कि इससे पहले भोपाल से नामांकन करने के बाद दिग्विजय ने कहा था कि हिंदुत्व शब्द उनकी डिक्शनरी में ही नहीं है। पत्रकारों ने जब उनसे हिंदुत्व और हिंदू आतंकवाद पर बात किया तो उन्होंने कहा कि आप लोग हिंदुत्व शब्द का उपयोग क्यों करते हैं? यह शब्द मेरी डिक्शनरी में नहीं है।

मध्य प्रदेश की भोपाल सीट से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहीं साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा है कि यह चुनाव साबित कर देगा कि भगवा आतंकवाद नहीं होता है। साध्वी प्रज्ञा ने आरोप लगाया कि जो दिग्विजय सिंह भगवा आतंक के सूत्रधार रहे हैं, वही इस चुनाव में लड़ रहे हैं। ऐसे में यह चुनाव भगवा आतंकवाद को गलत साबित कर देगा।

Published in भोपाल

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का समर्थन करते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने अपना उम्मीदवार मैदान में नहीं उतारा है। भाकपा ने राज्य में चार संसदीय क्षेत्रों में उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव अरविंद श्रीवास्तव और सचिव मंडल सदस्य शैलेन्द्र कुमार शैली ने कहा है कि भाजपा द्वारा भोपाल संसदीय क्षेत्र से प्रज्ञा ठाकुर को प्रत्याशी बनाने से भाजपा के मूल फासिस्ट चरित्र का पर्दाफाश हुआ है।

उन्होंने आगे कहा, "प्रज्ञा ठाकुर पर मालेगांव बम विस्फोट और सुनील जोशी हत्याकांड जैसी गंभीर वारदातों में प्रकरण दर्ज हैं। वह नौ साल जेल में भी रही हैं और फिलहाल जमानत पर हैं। साम्प्रदायिक, कट्टरपंथी प्रज्ञा ठाकुर का संसद में चुनकर जाना संसदीय गरिमा और भारत के संवैधानिक लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए घातक है। इसलिए भाकपा ने कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह को समर्थन देने की घोषणा की है।"

भाकपा ने राज्य के चार संसदीय क्षेत्रों शहडोल, खरगोन, बालाघाट और सीधी से भाकपा प्रत्याशी को चुनाव मैदान में उतारा है। वहीं, भोपाल संसदीय क्षेत्र से प्रत्याशी को मैदान में न उतारने का फैसला लिया है। भोपाल में 12 मई को मतदान होने वाला है ।

--आईएएनएस

 

 

Published in भोपाल

भोपाल: मध्य प्रदेश की भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस उम्मीदवार व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने रविवार को यहां 'विजन भोपाल' जारी किया, जिसमें उन्होंने भोपाल को प्रदूषणमुक्त और हरियालीयुक्त शहर बनाने का वादा किया है। साथ ही उन्होंने 'समृद्घ भोपाल-समर्थ भोपाल' बनाने की भी बात कही है। 

पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में जारी किए गए 'विजन भोपाल' में दिग्विजय ने इस शहर के ऐतिहासिक महत्व के साथ ही यहां के नगर व जल संसाधन नियोजन के कौशल को विश्व की समृद्घ धरोहर बताया है। इसमें भोपाल की 30 हजार साल की जीवंतता का भी उल्लेख है। इसमें कहा गया है कि भोपाल परिक्षेत्र निवास के लिए सबसे उपयुक्त रहा है, और इस बात का अनुभव आज भी यहां के ठहराव व सकारात्मकता में किया जा सकता है।

'विजन भोपाल' में विशिष्ट सांस्कृतिक धरोहर और यहां के सौहार्द्र को अक्षुण्य बनाए रखने का सपना संजोया गया है। साथ ही राजधानी के संतुलित विकास और युवाओं को यथायोग्य रोजगार के अवसर और आधारभूत संरचना निर्माण के वादे किए गए हैं। शहर को अत्याधुनिक बनाने के साथ आम आदमी की आमदनी बढ़ाने की दिशा में प्रयास करने का भी जिक्र है। व्यावसायिक गतिविधियों को बढ़ाया जाएगा, और किसानों को आधुनिक सुविधाओं और बाजार से जोड़ा जाएगा।

इस घोषणा-पत्र में शहर को टूरिस्ट हब बनाने, त्वरित हवाई सेवा, आसपास के बड़े शहरों को कॉरिडोर के माध्यम से जोड़ने (भोपाल राज्य राजधानी क्षेत्र), किसान सिटी-फूड प्रोसेसिंग यूनिट, उद्यानिकी सेंटर, उत्कृष्ट शिक्षा, उत्तम रोजगार के अवसर देने के वादे किए गए हैं।

इसके अलावा कामकाजी महिलाओं और विद्यार्थियों के लिए छात्रावास, ज्ञान, विज्ञान, अनुसंधान कला को अहमियत, कलाकारों को सहूलियत, आर्ट सिटी, फिल्म सिटी, मेगा लॉजिस्टिक एंड वेयर हाउस जोन, भोपाल जॉब पोर्टल के वादे किए गए हैं।

सिंह ने 'विजन भोपाल' में सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, हर वार्ड में फ्री हेल्थ सेंटर खोलने का वादा किया है। इसके अलावा स्पोर्ट हब, प्रतिभाओं को सम्मान, जन अनुकूल यातायात प्रणाली, सबको साफ जल, सबका बेहतर कल, हर घर को नर्मदा जल की सुविधा देने की भी बात की गई है।

घोषणा-पत्र में शहर में जल और कचरा प्रबंधन नीति, बेघरों को घर, असहायों को सहायता, महिलाओं, बच्चों व बुजुर्गो की सुरक्षा सुनिश्चित कराने तथा जल संरक्षण के लिए तालाबों के संरक्षण पर जोर देने का वादा किया गया है।

--आईएएनएस

 

 

Published in भोपाल

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने चुनाव के दौरान गहराते 'हिंदुत्व' के मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि संघ का हिंदुत्व जोड़ता नहीं तोड़ता है। 

सिंह की ओर से श्निवार की रात को जारी एक बयान में कहा गया, "मेरा हिंदू धर्म मेरी आस्था है। इसीलिए मैंने अपनी नर्मदा परिक्रमा का प्रचार नहीं किया, राघोगढ़ मंदिर की परंपराओं का कभी प्रचार नहीं किया, दशकों गोवर्धन परिक्रमा और पंढरपुर दर्शन का प्रचार नहीं किया। भाजपा के लोग कब से मेरे और ईश्वर के बीच आ गए, सर्टिफिकेट देने वाले एजेंट बन गए?"

उन्होंने आगे कहा, "संघ का हिंदुत्व जोड़ता नहीं, तोड़ता है। अपने धर्म का राजनीतिक अपहरण मैं कभी नहीं होने दूंगा। हमारे लिए हिंदू धर्म आस्था का विषय है, भगवान से हमारा निजी रिश्ता है।"

दिग्जिवय सिंह ने कहा, "मैं हिंदू धर्म को मानता हूं, जो हजारों सालों से दुनिया को जीने की राह सिखाता आया है। मैं अपने धर्म को हिंदुत्व के हवाले कभी नहीं करूंगा, जो केवल और केवल राजनीतिक सत्ता पाने के लिए संघ का षड्यन्त्र है। मुझे अपने सनातन हिंदू धर्म पर गर्व है जो वसुधैव कुटुम्बकम की बात कहता है।"

--आईएएनएस

 

 

Published in भोपाल

भोपाल: मध्य प्रदेश के 10 साल तक मुख्यमंत्री रहे दिग्विजय सिंह के के पास कोई वाहन नहीं है। भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के बारे में यह खुलासा शनिवार को लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन के दौरान उनके द्वारा दिए गए शपथ-पत्र से हुआ है। 

पूर्व मुख्यमंत्री सिंह ने शनिवार को भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस उम्मीदवार के तौर नामांकन दाखिल किया। नामांकन के साथ पेश किए गए हलफनामे में उन्होंने बताया कि उनकी बीते वर्ष की वार्षिक आय 657,990 रुपये थी, और उनकी धर्मपत्नी अमृता सिंह की आय 696,925 रुपये थी। इसके अलावा हिंदू अभिक्त परिवार के तौर पर आय 627,546 रुपये रही।

शपथ-पत्र के अनुसार, दिग्विजय सिंह के बैक खातों में 32,57,547 रुपये और पत्नी अमृता सिंह के खाते में 39,32,852 रुपये हैं। इसके अलावा उनके पास 407,838 रुपये के विभिन्न कंपनियों के शेयर और डिवेंचर आदि हैं। उन्होंने 44,51,000 रुपये कंपनी, फर्म आदि को बतौर कर्ज दिए हैं।

दिग्विजय की बैंक में जमा राशि, जेवरात, नगदी, दिए गए कर्ज कुल मिलाककर 88,87,596 रुपये के हैं। वहीं उनकी पत्नी अमृता सिंह की सकल संपत्ति 105,85,357 रुपये है।

शपथ-पत्र में बताया गया है कि उनके नाम पर कोई वाहन नहीं है, वहीं उनकी पत्नी अमृता सिंह के पास कोरोला आस्टिस गाड़ी है। दिग्विजय को विरासत में मिली संपत्ति की बाजार कीमत 2,95,21,858 रुपये है। कर्ज 18,00,000 रुपये है। वहीं दिग्विजय से जुड़े आठ मामले विभिन्न न्यायालयों में लंबित हैं, मगर किसी भी प्रकरण में अपराध सिद्घ नहीं हुआ है।

--आईएएनएस

 

 

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद सियासी गलियारों में 'हिंदुत्व' शब्द गूंजने लगा है, मगर कांग्रेस उम्मीदवार व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का कहना है कि हिंदुत्व शब्द उनकी डिक्शनरी में नहीं है।

दिग्विजय शनिवार को नामांकन पर्चा दाखिल करने के बाद पार्टी कार्यालय में संवाददाताओं से मुखातिब हुए। उनसे जब साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाए जाने और हिंदुत्व को लेकर चल रहे बयानों का जिक्र किया गया तो उन्होंने कहा, "आप लोग हिंदुत्व शब्द का उपयोग क्यों करते हैं? हिंदुत्व शब्द मेरी डिक्शनरी में है ही नहीं।"

सिंह ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि जिस व्यक्ति ने गृह सचिव के तौर पर हिंदू आतंकवाद (हिंदू टेरर) शब्द का उपयोग कर बयान दिया हो, उस व्यक्ति को भाजपा ने लोकसभा का टिकट दिया और उसे केंद्रीय मंत्रिमंडल में मंत्री बनाया, उसके बारे में भाजपा कुछ कहेगी क्या।

--आईएएनएस

 

 

Published in भोपाल

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शनिवार को नामांकन दाखिल किया। सिंह पैदल चलकर निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय पहुंचे और उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया।

दिग्विजय सिंह पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी के आवास से जिलाधिकारी कार्यालय के लिए पैदल रवाना हुए। उनके साथ कांग्रेस के तमाम नेताओं के साथ बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे। सिंह ने जिला निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय में नामांकन दाखिल किया।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय नामांकन से पहले झरनेश्वर मंदिर पहुंचे और वहां उन्होंने पूजा-अर्चना की। उसके बाद उन्होंने शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के दर्शन कर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया। इस मौके पर उनके साथ उनकी धर्मपत्नी अमृता सिंह भी थीं।

ज्ञात हो कि भोपाल में सिंह के खिलाफ भाजपा ने मालेगांव बम विस्फोट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवार बनाया है। इस सीट के लिए मतदान 12 मई को होना है। प्रज्ञा 23 अप्रैल को नामांकन भरने वाली हैं।

--आईएएनएस

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर द्वारा मुंबई आतंकवादी हमले के दौरान शहीद हुए आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे पर की गई टिप्पणी पर कांग्रेस उम्मीदवार व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कोई प्रतिक्रिया देने से शुक्रवार को इंकार कर दिया। 

सिंह से यहां संवाददाताओं ने प्रज्ञा ठाकुर की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया मांगी तो उन्होंने कहा कि वह अपने प्रतिद्वंद्वी पर कोई टिप्पणी नहीं करते। उन्होंने हेमंत करकरे की शहादत को देश के लिए गर्व बताते हुए कहा, "वह (हेमंत करकरे) ईमानदार व कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी थे, जिन्होंने देश की रक्षा के लिए अपनी जान गंवाई थी। देश के लिए शहादत देने वालों पर किसी को भी टिप्पणी नहीं करना चाहिए।"

भाजपा उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर ने हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख रहे शहीद हेमंत करकरे पर मालेगांव विस्फोट के आरोप में गिरफ्तारी के दौरान प्रताड़ित किए जाने का आरोप लगाया है। प्रज्ञा ने कहा है उन्होंने करकरे को श्राप दिया था, और करकरे आतंकी हमले में 26 नवंबर, 2008 को शहीद हो गए थे।

--आईएएनएस

 

 

Published in भोपाल

भोपाल: मध्य प्रदेश की भोपाल संसदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवार बनाए जाने का कांग्रेस उम्मीदवार और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बुधवार को स्वागत किया। उन्होंने कहा है कि रमणीक शहर भोपाल प्रज्ञा ठाकुर को पसंद आएगा।

सिंह ने एक वीडियो संदेश के जरिए प्रज्ञा ठाकुर का स्वागत करते हुए कहा, "मैं साध्वी प्रज्ञा जी का भोपाल में स्वागत करता हूं। आशा करता हूं कि भोपाल रमणीक शहर है, यहां का शांत, सभ्य और शिक्षित वातावरण आपको पसंद आएगा। मैं मां नर्मदा से साध्वी जी के लिए प्रार्थना करता हूं और मां नर्मदा जी से आशीर्वाद मांगता हूं कि हम सब सत्य, अहिंसा और धर्म की राह पर चल सकें। नर्मदे हर।"

कांग्रेस ने जहां दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाया है, वहीं भाजपा ने मालेगांव बम विस्फोट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर को मैदान में उतारा है। सिंह और प्रज्ञा ठाकुर की अदावत पुरानी है। सिंह और प्रज्ञा एक दूसरे पर मौके बे मौके अपने-अपने तरीके से प्रहार करते रहे हैं। अब दोनों चुनाव के मैदान में आमने-सामने हैं। लिहाजा दोनों के बीच व्यंग्य बाण और तीखे हमलों की संभावनाएं नकारी नहीं जा सकतीं।

--आईएएनएस

 

 

Published in भोपाल

भोपाल: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने सोमवार को केंद्र सरकार पर जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के एजेंटों के सामने रोजीरोटी का संकट खड़ा करने का आरोप लगाया और वादा किया कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने पर वेतनमान पुनर्निर्धारण (वेज रिवीजन) की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में बीमा एजेंटों का सम्मेलन बुलाया गया। दिग्विजय सिंह ने बीमा एजेंटों को संबोधित करते हुए कहा, "मोदी सरकार ने एलआईसी एजेंटों के सामने रोजीरोटी का संकट पैदा कर दिया है। आपको विश्वास दिलाता हूं कि कांग्रेस सरकार बनने पर मुझसे जो भी बनेगा, वह करूंगा। एलआईसी एजेंटों का जो वेज रिवीजन अटका पड़ा है, उस पर भी चर्चा की जाएगी।"

सिंह ने एलआईसी सहित सभी पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग (पीएसयू) का पक्षधर होने की बात कही और अपनी मंशा जाहिर करते हुए कहा कि वे चाहते हैं कि सभी पीएसयू अच्छे ढंग से चलें और जनता की सेवा करें। उन्होंने एजेंटों से आग्रह किया कि वे एलआईसी के भोपाल डिवीजन में जहां-जहां रहते हैं, वहां-वहां के पोलिंग बूथ पर जाकर जनता को सच्चाई बताएं और कांग्रेस को जिताएं।

इस मौके पर एलआईसी एजेंट संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवीशंकर शुक्ला ने कहा कि भोपाल संभाग में एलआईसी के साढ़े चार हजार बीमा एजेंट हैं और 10 लाख पॉलिसीधारक हैं। पिछले लंबे समय से एलआईसी की हालत केंद्र सरकार ने दयनीय कर दी है। देश में 28 करोड़ बीमाधारकों के हित के सवाल पीछे छूटते जा रहे हैं। सभी कर्मचारियों की ग्रेच्युटी सीमा 20 लाख रुपये है, लेकिन एजेंटों की ग्रेच्युटी सीमा तीन लाख रुपये पर अटकी हुई है।

उन्होंने कहा, "पीएफ हमारे कमीशन से काटा जा सकता है। हम लोग तोप जरूर नहीं चलाते हैं, लेकिन तोप खरीदने के लिए एलआईसी ने ही पैसा दिया है।"

भोपाल संभाग के अध्यक्ष गंगा सागर यादव ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने एलआईसी को बचाने के लिए पूरी कोशिश करने का भरोसा दिलाया है। लिहाजा, एलआईसी एजेंट कांग्रेस को जिताने के लिए काम करेंगे।

सम्मेलन में ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह भी उपस्थित थे।

--आईएएनएस

 

 

Published in भोपाल

Don't Miss