मुंबई: आम चुनाव से पहले सोमवार को एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में कांग्रेस की मुंबई इकाई के अध्यक्ष संजय निरुपम को अचानक उनके पद से हटा दिया गया और उनकी जगह पूर्व केंद्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा को मुंबई में कांग्रेस की कमान सौंप दी गई। इस बात का ऐलान अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने किया।

संजय निरुपम को मुंबई उत्तर पश्चिम संसदीय सीट से पार्टी का प्रत्याशी बनाया गया है।

--आईएएनएस

Published in मुंबई

चेन्नई: पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी. चिदंबरम के बेटे व कांग्रेस नेता कार्ति पी. चिदंबरम ने सोमवार को तमिलनाडु की शिवगंगा लोकसभा सीट से अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री ई.एम. सुदर्शन नचियप्पन के कार्ति चिदंबरम की उम्मीदवारी का विरोध किए जाने के बाद प्रदेश की राज्य इकाई के नेता कार्ति के समर्थन में खड़े हो गए। नचियप्पन ने भी शिवगंगा से चुनाव लड़ने की मंशा जताई थी।

यहां संवाददाताओं से बातचीत में कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष के. एस. अलागिरी ने कहा कि कोई यह बात नहीं कह सकता कि कार्ति चिदंबरम को किसी दबाव में नामांकित किया गया है, क्योंकि पार्टी नेतृत्व पर दबाव नहीं बनाया जा सकता।

उन्होंने कहा कि पार्टी के फैसले से नाखुश लोग सभ्य तरीके से अपने विचार रख सकते हैं और पार्टी आलाकमान तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं।

सीट के लिए नामांकित नहीं किए जाने से नाखुश नचियप्पन ने संवाददाताओं से कहा कि लोग चिदंबरम को पसंद नहीं करते, क्योंकि उन्होंने शिवगंगा निर्वाचन क्षेत्र के लिए कुछ भी नहीं किया है।

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि जब से उन्होंने पी. चिदंबरम को 1999 लोकसभा चुनाव में हराया, उसके बाद से चिदंबरम ने पार्टी में कोई भी पद नचियप्पन को दिए जाने के रास्ते में रोड़ा अटकाया।

1999 चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार नचियप्पन ने तमिल मनिला कांग्रेस के उम्मीदवार पी. चिदंबरम को हराया था।

हालांकि पी. चिदंबरम ने 2004 और 2009 में बतौर कांग्रेस उम्मीदवार शिवगंगा सीट पर जीत हासिल की थी।

2014 लोकसभा चुनाव में कार्ति चिदंबरम को अन्नाद्रमुक के पी.आर. सेंथिलनाथन के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा था।

इसबीच, दिल्ली की एक विशेष अदालत ने सोमवार को एयरसेल-मैक्सिस सौदे के मामले में पिता-पुत्र चिदंबरम की गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा 26 अप्रैल तक बढ़ा दी।

एक महीने के भीतर यह तीसरी दफा है, जब अदालत ने उन्हें अंतरिम राहत दी है।

--आईएएनएस

 

Published in देश

नई दिल्ली: पूर्व दूरसंचार मंत्री सुखराम और उनके पौत्र आश्रय शर्मा ने सोमवार को फिर से कांग्रेस का हाथ थाम लिया। दोनों ने औपचारिक रूप से पार्टी में शामिल होने से पहले हिमाचल प्रदेश की पार्टी प्रभारी रजनी पाटिल और प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कुलदीप राठौड़ के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की।

सुखराम 2017 में कांग्रेस छोड़ कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए थे।

--आईएएनएस

 

Published in देश

बेंगलुरू: कर्नाटक में जनता दल-सेक्युलर (जेडी-एस) ने बेंगलुरू उत्तर सीट पर अपना उम्मीदवार न उतारने का फैसला किया है। इस सीट पर उसकी गठबंधन सहयोगी कांग्रेस चुनाव लड़ेगी। जेडी-एस के प्रवक्ता रमेश बाबू ने यहां आईएएनएस से कहा, "हमारे पार्टी प्रमुख एच.डी. देवगौड़ा ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को सूचित कर दिया है कि हमारी पार्टी बेंगलुरू उत्तर सीट से चुनाव नहीं लड़ेगी और कांग्रेस अब यहां से अपना उम्मीदवार उतारने के लिए स्वतंत्र है।"

दोनों पार्टियों के बीच सीट समझौते की व्यवस्था के तहत, कांग्रेस यहां से 20 सीटों के बदले 21 लोकसभा सीटों और जेडी-एस आठ के बदले सात सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

बाबू ने हालांकि यह बताने से इनकार कर दिया कि जेडी-एस बेंगलुरू उत्तर सीट कांग्रेस को क्यों दे रही है।

उन्होंने कहा, "28 संसदीय क्षेत्रों में से हम इनमें से एक तिहाई पर चुनाव लड़ेंगे, जबकि कांग्रेस इनमें से तीन-चौथाई सीटों पर चुनाव लड़ेगी।"

--आईएएनएस

Published in कर्नाटक

नई दिल्ली: कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की सोमवार को आगामी लोकसभा चुनावों के लिए पार्टी के घोषणापत्र को अंतिम रूप देने के लिए बैठक हुई। लोकसभा चुनावों की शुरुआत 11 अप्रैल से हो रही है।

पार्टी नेताओं ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को दक्षिणी राज्यों से किसी दूसरी सीट से चुनाव लड़ना चाहिए या नहीं, इस बात पर भी चर्चा की।

सीडब्ल्यूसी, पार्टी की शीर्ष निर्णय लेने वाला निकाय है। दो सप्ताह से भी कम समय के भीतर सीडब्ल्यूसी की यह दूसरी बैठक है।

--आईएएनएस

Published in देश

शिवपुरी: मध्य प्रदेश के गुना संसदीय क्षेत्र से पिछले चार बार से लगातार जीत हासिल कर रहे कांग्रेस महासचिव व पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस बात का दर्द है कि तमाम विकास कार्यो के बावजूद वह गुना शहर व शिवपुरी शहर विधानसभा क्षेत्र से हार जाते हैं। उन्होंने कार्यकर्ताओं से जानना चाहा कि अगर उनकी कोई कमी है तो बताएं। सिंधिया ने रविवार को शिवपुरी विधनसभा क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच अपने दर्द का इजहार किया। उन्होंने कहा, "संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले अशोकनगर, शिवपुरी और गुना जिले के सभी विधानसभा क्षेत्रों से पार्टी हजारों वोटों के अंतर से जीतती है, मगर गुना शहर व शिवपुरी विधानसभा सीटों से हार जाती है। आखिर क्या बात है कि इन दो विधानसभा क्षेत्रों से हार मिलती है।"

सिंधिया ने कहा, "अगर मेरी कोई गलती है, मुझमें कोई कमी है तो बताएं, उसे मैं सुधारूंगा।"

गुना संसदीय क्षेत्र सिंधिया परिवार की परंपरागत सीटों में है। यहां से ज्योतिरादित्य सिंधिया की दादी विजयाराजे सिंधिया पांच बार जीती हैं, जबकि उनके पिता माधवराव सिंधिया ने चार बार जीत दर्ज की है। वहीं इस संसदीय सीट से ज्योतिरादित्य वर्ष 2002 से लगातार चार बार से जीतते आ रहे हैं।

--आईएएनएस

रांची: कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) और झारखंड विकास मोर्चा-प्रजातांत्रिक (झाविमो-पी) ने रविवार को आगामी लोकसभा चुनाव के लिए राज्य में गठबंधन की घोषणा की। हालांकि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने केवल एक सीट मिलने पर इस गठबंधन का बहिष्कार किया है। झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन और कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अजय कुमार और झाविमो-पी के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में उपस्थित थे। राजद के किसी भी व्यक्ति ने इस सम्मेलन में भाग नहीं लिया।

शिबू सोरेन ने कहा, "हम गठबंधन में चुनाव लड़ने के लिए सहमत हुए हैं।"

गठबंधन के बारे में जानकारी देते हुए अजय कुमार ने कहा कि कांग्रेस, झामुमो, झाविमो-पी और राजद क्रमश सात, चार, दो और एक लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।

कांग्रेस रांची, लोहरदगा, चतरा, हजारीबाग, कोडरमा, चाईबासा व खुटी सीट से, वहीं झामुमो जमशेदपुर, गिरिडीह, राजमहल व दुमका सीट से और झाविमो-पी गोड्डा व कोडरमा सीट से चुनाव लड़ेगी। पलामू सीट राजद के लिए छोड़ी गई है।

लेकिन विधानसभा चुनाव में विपक्षी दल झामुमो नेता हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चुनाव लड़ेंगे। झामुमो अधिकतर विधानसभा सीटों पर लड़ेगा।

हेमंत सोरेन ने कहा, "महागठबंधन केवल लोकसभा के लिए ही नहीं, बल्कि यह विधानसभा चुनाव में भी जारी रहेगा। गठबंधन का गठन करते हुए हमने 2020 में मुस्लिम समुदाय से संबंधित व्यक्ति को राज्यसभा भेजने का फैसला किया है।"

गठबंधन ने उन पार्टी नेताओं को निलंबित करने का भी फैसला किया है, जो लोकसभा चुनाव में किसी भी सीट से बागी उम्मीदवार के रूप में लड़ने की कोशिश करेंगे।

सीट बंटवारे को लेकर राजद की नाखुशी के बारे में पूछे जाने पर अजय कुमार ने कहा कि राजद को पलामू सीट दी गई है।

उन्होंने कहा, "राजद को गठबंधन का हिस्सा बनाने के लिए बातचीत चल रही है।"

राजद नेता संजय यादव ने एक अलग संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चाहे जो हो उनकी पार्टी पलामू और चतरा दोनों सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

कांग्रेस, झामुमो और झाविमो-पी ने लोकसभा चुनाव के लिए एक समन्वय समिति बनाने पर भी सहमति व्यक्त की है।

--आईएएनएस

Published in झारखण्ड

नई दिल्ली: कांग्रेस ने रविवार को आगामी लोकसभा चुनाव के लिए 10 उम्मीदवारों की नौवीं सूची जारी की। इस सूची में पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम का नाम भी शामिल है। कार्ति तमिलनाडु के शिवगंगा निर्वाचन क्षेत्र से लड़ेंगे। इस बीच कांग्रेस ने महाराष्ट्र में चंद्रपुर से पहले सुरेश धानोरकर को टिकट दिया था, जिसे बदल कर विनायक बांगड़े को नया उम्मीदवार घोषित किया गया है। बताया जाता है कि यहां स्थानीय कार्यकर्ताओं ने प्रदेश अध्यक्ष अशोक चव्हाण से इस बाबत शिकायत की थी।

इस संबंध में एक आडियो क्लिप भी वायरल हुआ। इसमें संकेत किया गया था कि बांगड़े पार्टी छोड़ भी सकते हैं।

कार्ति चिदंबरम ने 2014 में शिवगंगा से संसदीय चुनाव लड़ा था, लेकिन वह अन्नाद्रमुक के पी.आर.सेथिलनथन से हार गए थे। शिवगंगा उनके पिता चिदंबरम का गढ़ है। चिदंबरम ने इस निर्वाचन क्षेत्र का 2004 व 2009 में प्रतिनिधित्व किया था।

कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता बी.के.हरिप्रसाद को कर्नाटक के बेंगलोर दक्षिण निर्वाचन क्षेत्र से मैदान में उतारा है। इसके साथ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के पूर्व नेता तारिक अनवर व उदय सिंह उर्फ पप्पू सिंह को बिहार के क्रमश: कटिहार व पूर्णिया से मैदान में उतारा गया है।

इन 10 नामों में से चार उम्मीदवार महाराष्ट्र से हैं, दो बिहार से व एक जम्मू एवं कश्मीर से है।

कांग्रेस ने यह फैसला केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में लिया है।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: Sapna Chaudhary मशहूर डांसर सपना चौधरी ने कांग्रेस में शामिल होने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि मीडिया में आई तस्वीरें पुरानी हैं। मेरा कोई ट्विटर अकाउंट नहीं है। मेरी कोई राज बब्बर से मुलाकात नहीं हुई। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी कांग्रेस में शामिल होने की इच्छा नहीं है। कांग्रेस के लिए मैं कोई प्रचार नहीं करूंगी।

इसके साथ ही सपना ने कहा कि अभी मेरा चुनाव लड़ने का कोई इरादा नहीं है। सपना ने कहा कि मैं कलाकार हूं। चुनाव लड़ने की मेरी कोई मंशा नहीं है। प्रियंका गांधी के साथ फोटो पर सपना ने कहा कि मैं प्रियंका से मिली थीं, लेकिन वो तस्वीर पुरानी है। सपना ने कहा कि मैं मनोज तिवारी के संपर्क में हूं।

कांग्रेस नेता राजबब्बर से मैंने मुलाकात नहीं की है। न तो मैंने कांग्रेस ज्वाइन किया है और न ही मैं कांग्रेस के लिए प्रचार करूंगी। सपना ने कहा कि मैं 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी। दरअसल, सपना चौधरी के कांग्रेस में शामिल होने का दावा किया गया था। साथ ही यह भी कहा गया था कि दिल्ली में उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर के घर पर सपना चौधरी ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर लिया है।

Published in हरियाणा

देहरादून: कांग्रेस ने लोकसभा चुनावों के लिए उत्तराखंड की सभी पांच लोकसभा सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं। कांग्रेस ने पार्टी महासचिव हरीश रावत को नैनीताल से, पूर्व विधायक अम्ब्रीश कुमार को हरिद्वार, पूर्व मुख्यमंत्री बी.सी. खांडूरी के बेटे मनीष खांडूरी को पौड़ी, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह को टिहरी तथा राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा को अल्मोड़ा से उम्मीदवार बनया है।

कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने शनिवार को कहा, "कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति ने सभी उम्मीदवारों के नाम स्पष्ट कर दिए हैं।"

भारतीय जनता पार्टी ने राज्य से अपने उम्मीदवार गुरुवार को घोषित कर दिए थे।

राज्य में नामांकन दाखिल करने का अंतिम दिन सोमवार है।

--आईएएनएस