नई दिल्ली: मोदी 2.0 सरकार में इसे सत्ता के समीकरण में बदलाव ही कहा जाएगा क्योंकि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी अब एयर इंडिया मामले को लेकर दोबारा गठित होने वाली मंत्रिमंडलीय समिति का हिस्सा नहीं होंगे। इस समिति की अध्यक्षता गृहमंत्री अमित शाह करेंगे। यह समिति एयर इंडिया के निजीकरण के संबंध में फैसला लेगी।

समिति के अध्यक्ष अमित शाह होंगे और इसमें वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण, वाणिज्य एवं रेल मंत्री पीयूष गोयल, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी बतौर सदस्य होंगे।

पूर्व की मोदी सरकार में तत्कालीन वित्तमंत्री अरुण जेटली मंत्रिमंडलीय समिति 'एयर इंडिया स्पेसिफिक अल्टरनेटिव मेकेनिज्म (एआईएसएएम)' के अध्यक्ष थे।

सरकार के एक अधिकारी ने बताया, "मंत्रियों के समूह का दोबारा गठन किया गया है। नितिन गडकरी इसका हिस्सा नहीं हैं।"

इससे पहले दो अहम मंत्रिमंडलीय समितियों में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह का नाम नहीं था। इससे भारतीय जनता पार्टी के भीतर सत्ता के समीकरण में बदलाव की कयासबाजी तेज हो गई। हालांकि अगले ही दिन अटकलों पर थोड़े समय के लिए विराम लगाते हुए उनको नाम शामिल कर लिया गया।

सरकार ने पिछले साल एयर इंडिया में 76 फीसदी हिस्सेदारी बेचने के लिए निविदा आमंत्रित की थी, लेकिन निविदा प्रक्रिया के पहले चरण में एक भी निजी पक्ष ने दिलचस्पी नहीं ली जिससे यह योजना विफल रही।

पिछली सरकार में यह एजेंडा पूरा नहीं हो पाया, इसलिए इस बार एयरलाइन को बेचने की गंभीर कोशिश की जा रही है।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) के नेताओं ने राष्ट्रीय राजधानी में बिगड़ती कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर मंगलवार को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। इस दौरान आप नेताओं ने दिल्ली की कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को लेकर शाह को एक ज्ञापन भी सौंपा। आप विधायक संजय सिंह ने कहा, "हमने आज गृह मंत्री से मुलाकात की। हमने उनसे दिल्ली पुलिस आयुक्त, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और गृह मंत्री की उनके अधिकारियों के साथ एक बैठक कराने का अनुरोध किया, ताकि पूरी स्थिति की पड़ताल की जा सके। इसके बाद दिल्ली की कानून व्यवस्था में सुधार के लिए आवश्यक कदम उठाए जा सकते हैं।"

सिंह ने कहा कि उन्होंने पहले भी दिल्ली की कानून-व्यवस्था का मुद्दा उठाया था, मगर जिस तरह से दिल्ली में अपराध का ग्राफ बढ़ रहा है, वह चिंताजनक है।

उन्होंने कहा कि बुजुर्गों की हत्या की जा रही है और सड़कों पर गोलियां चलाई जा रही हैं।

सिंह ने कहा, "चौबीस घंटों में नौ हत्याएं हुई हैं। एक परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी गई। चेन-स्नैचिंग के मामले लगभग रोज दर्ज किए जा रहे हैं।"

आप के एक अन्य विधायक सुशील गुप्ता ने कहा कि उनकी पार्टी ने राष्ट्रीय राजधानी में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को लेकर शाह को एक ज्ञापन सौंपा है।

--आईएएनएस

अगरतला: इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) के नेता अगले सप्ताह राज्य की मांग को लेकर दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और अन्य केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात करेंगे। आईपीएफटी राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सहयोगी पार्टी है।

एक पार्टी नेता ने शनिवार को कहा, "हम 15 और 16 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और दूसरे केंद्रीय मंत्रियों से मिलने के लिए रविवार को अगरतला से दिल्ली के लिए रवाना होंगे।"

आईपीएफटी के महासचिव और वन मंत्री मेवर कुमार जमातिया ने आईएएनएस से कहा, "राज्य की हमारी मुख्य मांग के अलावा, हम त्रिपुरा में आदिवासियों के सर्वागीण विकास के बाबत अन्य मांगों के लिए भी दबाव डालेंगे।"

जनजातीय आधारित स्थानीय पार्टी आईपीएफटी 2009 से त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्र स्वायत्त जिला परिषद (टीटीएएडीसी) के उन्नयन के लिए एक अलग राज्य बनाने के लिए आंदोलन कर रही है, जिसमें त्रिपुरा के 10,491 वर्ग किलोमीटर के दो-तिहाई से अधिक क्षेत्राधिकार है। यह 12,16,000 से अधिक लोगों को घर है।

त्रिपुरा की सबसे पुरानी आदिवासी-आधारित राजनीतिक पार्टी, इंडिजिनस नेशनलिस्ट पार्टी ऑफ त्रिपुरा (आईएनपीटी) के साथ-साथ प्रमुख सत्तारूढ़ भाजपा, विपक्षी कांग्रेस और वाम मोर्चा का प्रतिनिधित्व करने वाली मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने भी आईपीएफटी के अलग राज्य की मांग का विरोध किया है।

आईपीएफटी के प्रवक्ता और पार्टी के सहायक महासचिव मंगल देबबर्मा ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष और राजस्व मंत्री नरेंद्र चंद्र देबबर्मा के नेतृत्व में 15 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल भी प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से टीटीएएडीसी को अधिक स्वायत्तता और शक्ति देने का आग्रह करेगा।

देबबर्मा ने आईएएनएस से कहा, "केंद्र सरकार ने पहले आदिवासियों के सामाजिक-आर्थिक विकास के विभिन्न उपायों की सिफारिश करने के लिए एक उच्च-स्तरीय समिति का गठन किया था। "

उन्होंने कहा, "हम समिति की सिफारिशों के कार्यान्वयन के बारे में अंधेरे में हैं।"

आईपीएफटी की अन्य मांगों में भारत के संविधान की 8वीं अनुसूची में आदिवासियों की 'कोकबोरोका' भाषा को शामिल करना और 'कोकबोरोक' के लिए रोमन लिपि का परिचय शामिल करना है।

आईपीएफटी ने हालिया लोकसभा चुनाव और चल रहे पंचायत चुनावों में भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ा था।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी के कार्यवाहक अध्यक्ष जे.पी. नड्डा रविवार को यहां पार्टी कार्यालय में पार्टी के पदाधिकारियों के साथ एक उच्चस्तरीय बैठक करेंगे। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार, शाह और नड्डा भाजपा मुख्यालय में अपराह्न तीन बजे बैठक करेंगे और पार्टी के सदस्यता अभियान तथा अन्य मुद्दों का जायजा लेंगे।

बैठक में, दोनों शीर्ष नेता पार्टी पदाधिकारियों को केंद्रीय बजट के बारे में जमीनी स्तर पर आम जनता को बताने के लिए भी दिशा-निर्देश देंगे।

उन्होंने कहा कि शाह और नड्डा झारखंड, हरियाणा और महाराष्ट्र में पार्टी की तैयारियों पर भी चर्चा करेंगे। इन राज्यों में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं।

--आईएएनएस

Published in देश

हैदराबाद: केंद्रीय गृहमंत्री व भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने यहां शनिवार को आत्मविश्वास प्रकट करते हुए कहा कि निकट भविष्य में तेलंगाना, आंध्र और केरल भाजपा के गढ़ बनेंगे। उन्होंने कहा कि तेलंगाना के लोगों को यह फैसला लेना है कि क्या वे अपने राज्य को पार्टी का पहला गढ़ बनाना चाहते हैं।

पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत करने के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि जिस पार्टी ने हाल के लोकसभा चुनाव में 19 प्रतिशत वोट हासिल किए हैं, वह निश्चित रूप में राज्य की सत्ता में आएगी।

उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे संगठन को हर बूथ में मजबूत करें और वोट शेयर को 50 प्रतिशत तक ले जाना सुनिश्चित करें, जैसा कि पार्टी द्वारा समूचे देश के लिए लक्ष्य तय किया गया है।

केंद्र की सत्ता में भारी जनादेश के साथ पार्टी की वापसी के बाद पहली बार तेलंगाना के दौरे पर पहुंचे शाह ने राज्य में मजबूत प्रदर्शन करने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई दी।

उन्होंने कहा, "आप सबने मजबूत नींव रखी है, जिस पर पार्टी विशाल इमारत बनाएगी।"

शाह ने तेलंगाना में पार्टी के सदस्यता लक्ष्य में संशोधन करते हुए इसे 12 से 18 लाख कर दिया और कहा, "अगर आप इस लक्ष्य को पूरा नहीं कर सकें तो मुझे बताएंगे और मैं जिलों में अभियान चलाने में भाग लूंगा।"

उन्होंने कहा कि इससे राज्य में पार्टी की सदस्यता दोगुनी हो जाएगी।

यह कहते हुए कि वह एक समावेशी संगठन देखना चाहते हैं, शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे समाज के सभी तबकों के लोगों को सूचीबद्ध करें।

इससे पहले, शाह ने एक जनजातीय महिला को सदस्यता कार्ड जारी कर तेलंगाना में पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत की।

उन्होंने हैदराबाद का बाहरी इलाका माने जाने वाले रंगा रेड्डी जिले के ममीदिपल्ली गांव में दोपहर का भोजन एक जनजातीय महिला सोनी नायक के घर में किया।

भाजपा प्रमुख ने जनजातीय महिला और उसके परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत की। इस मौके पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी, भाजपा की तेलंगाना इकाई के प्रमुख के. लक्ष्मण, राष्ट्रीय महासचिव पी. मुरलीधर राव और अन्य नेता भी उनके साथ थे।

--आईएएनएस

 

हैदराबाद: भाजपा अध्यक्ष व केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने यहां शनिवार को एक जनजातीय महिला को सदस्यता कार्ड जारी कर तेलंगाना में पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत की। शाह ने दोपहर का भोजन जनजातीय महिला सोनी नायक के घर में किया। सोनी का घर रंगा रेड्डी जिले के ममीदिपल्ली गांव के जनजातीय टोले 'रंगानायकुला थांडा' में है। यह हैदराबाद का बाहरी इलाका माना जाता है।

भाजपा प्रमुख ने जनजातीय महिला और उसके परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत की। इस मौके पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी, भाजपा की तेलंगाना इकाई के प्रमुख के. लक्ष्मण, राष्ट्रीय महासचिव पी. मुरलीधर राव और अन्य नेता भी उनके साथ थे।

भाजपा की अगुवाई वाले राजग की केंद्र की सत्ता में वापसी के बाद शाह का यह पहला तेलंगाना दौरा है।

तेलंगाना में लोकसभा की चार सीटों पर जीत मिलने से उत्साहित पार्टी की योजना आक्रामक तरीके से सदस्यता अभियान चलाकर राज्य में अपना आधार बढ़ाने की है।

--आईएएनएस

Published in देश

अहमदाबाद: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी पत्नी सोनल शाह के साथ गुरुवार की सुबह यहां के ऐतिहासिक जगन्नाथ मंदिर में 'मंगला आरती' की। इसके साथ ही पुरी की ऐतिहासिक रथयात्रा के साथ होने वाली गुजरात की वार्षिक जगन्नाथ रथ यात्रा भी शुरू हो गई। राष्ट्रीय भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष शाह का केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल होने के बाद अपने गृह राज्य गुजरात का यह पहला दौरा था। उन्होंने बुधवार को कई परियोजनाओं का उद्घाटन किया था।

पुरी में ऐतिहासिक रथ यात्रा के साथ ही भगवान जगन्नाथ की 142वीं रथ यात्रा गुरुवार को शुरू हुई।

पुराने अहमदाबाद के विभिन्न क्षेत्रों में भारी सुरक्षा के बीच नौ दिवसीय रथ यात्रा की शुरुआत हुई। जमालपुर क्षेत्र के 450 साल पुराने भगवान जगन्नाथ के मंदिर से जुलूस शुरू होकर शहर के बीच से गुजरेगा।

ओडिशा के पुरी की रथ यात्रा के साथ ही अहमदाबाद की यह जगन्नाथ रथ यात्रा तीन सबसे बड़ी रथ यात्राओं में से एक है।

--आईएएनएस

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर पीपल्स मूवमेंट (जेकेपीएम) के अध्यक्ष शाह फैसल ने बुधवार को कहा कि अमरनाथ गुफा मंदिर जाने वाले तीर्थयात्रियों का स्वागत है, लेकिन तीर्थयात्रा के कारण स्थानीय लोगों पर लगाए गए प्रतिबंधों को हटाया जाना चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया, "बीते 30 सालों में पहली बार एसएक्सआर-जेएमयू एनएच (श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग) को चुनाव के दौरान नागरिक यातायात के लिए बंद कर दिया गया था। अब यात्रा के लिए फिर से बंद कर दिया गया है। स्थानीय लोगों के आवागमन को रोकने के आदेश पर हस्ताक्षर करने वालों को याद रखना चाहिए कि एक दिन इसका हिसाब होगा। हम शिव की भूमि पर यत्रियों का स्वागत करते हैं। लेकिन यह कर्फ्यू समाप्त होना चाहिए।"

पूर्व आईएएस अधिकारी से राजनेता बने शाह फैसल ने रेल अधिकारियों के अमरनाथ यात्रा के 15 अगस्त तक समाप्त होने तक श्रीनगर घाटी के काजीगुंड शहर से जम्मू डिविजन के बनिहाल शहर के बीच सुबह 10 बजे से 3 बजे के बीच रेल सेवाओं के निलंबित रखने के फैसले की आलोचना की।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: गृह मंत्री अमित शाह बुधवार को गुजरात का दौरा करेंगे। केंद्रीय गृह मंत्रालय (एमएचए) का कार्यभार संभालने के बाद यह शाह का अपने गृह राज्य का पहला दौरा होगा। एमएचए के एक बयान के अनुसार, शाह अहमदाबाद में आश्रम रोड और डी.के.पटेल हॉल के बीच इनकम टैक्स फ्लाईओवर का उद्घाटन करेंगे और कुछ अन्य कार्यक्रमों में भी भाग लेंगे। वह गुरुवार दोपहर दिल्ली लौटेंगे।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: चांदनी चौक इलाके में स्थित हौज काजी दो संप्रदायों के बीच झड़प के बाद मामला शांत होता नजर नहीं आ रहा है। बुधवार को भी इलाके में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है, हालांकि सुबह कुछ लोगों ने मंदिर में पूजा-अर्चना भी की है। इस बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस मुद्दे को लेकर दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक को तलब किया और पूरे मामलेे पर रिपोर्ट मांगी।

वहीं, मुलाकात के बाद पुलिस कमिश्ननर अमूल्य पटनायक ने कहा- मैंने हालात के बाबत उन्हें अवगत कराया है। यहां पर हालात सामान्य है और हमने इस विवाद में चार लोगों को गिरफ्तार किया है।

 

सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली के पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक को गृह मंत्री अमित शाह ने बुलाया था। उन्हें इस घटना पर फटकार लगाई गई थी। साथ ही सुरक्षा व्यवस्था लेकर चर्चा भी की। वहीं, इससे पहले इस मामले में एक और शख्स को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

बता दें कि बुधवार सुबह मंदिर में लोंगो ने पूजा-अर्चना भी की, लेकिन यहां पर तनाव का माहौल पूर्व की तरह बरकरार है। 

रविवार की रात हौज काजी के लाल कुआं इलाके में स्कूटी पार्क करने को लेकर दो संप्रदाय के लोगों में मारपीट के बाद इलाके में तनाव फैल गया था। वहीं सोशल मीडिया पर उन्मादी हिंसा की अफवाह फैलने के बाद एक संप्रदाय को लोग भड़क गए थे। बाद में उन्होंने हौज काजी थाने में प्रदशर्न के बाद लाल कुआं स्थित मंदिर में तोड़फोड़ की थी। कई घरों को भी निशाना बनाया गया। जिसके बाद सोमवार को भी क्षेत्र में तनाव था।

मंगलवार को स्थिति में पहले से कुछ नरमी तो आई, लेकिन तनाव बरकरार रहा। एहतियात के तौर पर चावड़ी बाजार, अजमेरी गेट, हौजकाजी, लालकुआं नई सड़क, बल्लीमारान व आसपास के इलाके में पुलिस की भारी तैनाती की गई थी। लेकिन शरारती तत्वों की नारेबाजी और हंगामे के कारण ज्यादातर कारोबारियों ने मंगलवार को भी दुकानें नहीं खोलीं।