नई दिल्ली: जेट एयरवेज की बंद उड़ानों की कमी पूरी करने और गर्मियों में यात्रा की बढ़ी मांग के मद्देनजर एयर इंडिया ने व्यस्त दिल्ली-दुबई, मुंबई-दुबई और दिल्ली-मुंबई क्षेत्रों में परिचालन क्षमता बढ़ाई है।

भारत-दुबई को सबसे फायदेमंद क्षेत्रों में से एक माना जाता है, क्योंकि व्यापार और घूमने-फिरने के संबंध में यात्रा मांग हमेशा बहुत अधिक रहती है। करीब आधा दर्जन स्थानीय और घरेलू विमान 20 भारतीय शहरों को शहर-राज्य से जोड़ते हैं।

नई उड़ानें बी 787 हवाई जहाज का उपयोग करके जून के पहले सप्ताह में शुरू की जाएंगी। सभी नई उड़ानों की बुकिंग शुरू हो गई है।

एक अधिकारी ने कहा, "दुबई के लिए उड़ानें हाल ही में सरकार के अतिरिक्त विदेशी उड़ान अधिकार का इस्तेमाल कर शुरू की जाएंगी।"

निजी विमानन कंपनियों में एयर इंडिया को तवज्जो देते हुए, नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इस सप्ताह की शुरुआत में भारत-दुबई मार्ग पर एयरलाइन को लगभग 5,700 साप्ताहिक सीट देने का फैसला किया। सार्वजनिक क्षेत्र की एयरलाइन ने भारत-कतर मार्ग पर 5,000 से अधिक सीटों के अलावा लंदन से लगभग 4,600 अतिरिक्त सीटों का वादा किया था।

एयर इंडिया की वर्तमान में घरेलू बाजार में 13.1 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी है। इस साल मार्च में इसने 15.19 लाख यात्रियों को अपनी सेवाएं दी।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया ने परिचालन बंद कर चुकी जेट एयरवेज से बी777 विमान लेने की अपनी योजना पर आगे नहीं बढ़ने का फैसला किया है। कंपनी को लगता है कि रखरखाव की इसकी भारी जरूरतों को देखते हुए इसे व्यवसायिक रूप से चलाना उचित नहीं है।

एयरलाइन के एक प्रबंधक ने कहा, "इंजीनियरिंग विभाग ने बी777 को लेकर अपना कार्य पूरा कर लिया और पाया कि इसे लेना उचित नहीं है।"

कुछ सप्ताह पहले, एयर इंडिया ने जेट एयरवेज के पांच बोइंग 777 विमान को ड्राई/वेट लीज पर लेने में रुचि दिखाई थी और संकट में फंसी विमानन कंपनी के प्रमुख ऋणदाता एसबीआई से बातचीत शुरू की थी।

एयर इंडिया के अध्यक्ष अश्विनी लोहानी ने एसबीआई के अध्यक्ष रजनीश कुमार के साथ इस प्रस्ताव पर बातचीत की थी।

लेकिन अब एयर इंडिया ने अपना निर्णय बदल दिया है, और एसबीआई के पास संभवत: जेट एयरवेज के लिए प्लान बी है। जेट एयरवेज के आंतरिक मेल से खुलासा हुआ है कि बी777 का एक विमान 10 मई को रखरखाव के लिए हांगकांग जा रहा है।

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

नई दिल्ली: दो तकनीकी गड़बड़ियों के कारण परिचालन में व्यवधान और वित्तीय नुकसान के बावजूद, सरकारी एयर इंडिया ने अपने यात्री सेवा प्रणाली (पीएसएस) प्रदाता एसआईटीए से मुआवजे का दावा नहीं किया है।

एयरलाइन एसआईटीए को 800 करोड़ रुपये का अनुबंध देने को प्रतिबद्ध है, जिसके तहत उसे सामान की जांच, बोर्डिग और ट्रैकिंग तकनीक के लिए आईटी समाधान प्रदान करना है।

एसआईटीए एक वैश्विक एयरलाइंस आईटी सेवा समाधान प्रदाता है, जो हवाईअड्डे पर संबंधित सेवाएं प्रदान करती है।

एयर इंडिया के एक अंदरूनी सूत्र ने बताया, "यह आश्चर्यजनक है कि एयरलाइन ने सर्वर को बंद करने से हुए भारी नुकसान के लिए एसआईटीए से कोई मुआवजा नहीं मांगा है। हाल ही में तकनीकी खराबी के कारण एयरलाइन को सैकड़ों उड़ानों में देरी करनी पड़ी थी।"

उन्होंने कहा कि खराब प्रदर्शन के लिए दंडित करने के बजाय, एयरलाइन ने अनुबंध की अवधि को दो साल तक बढ़ाने का फैसला किया है।

दो साल के विस्तार के बारे में एक अन्य एयरलाइन अधिकारी ने कहा कि अनुबंध में आठ साल बाद एक नया वेंडर खोजने का प्रावधान था।

आईएएनएस द्वारा इस मुद्दे पर ईमेल से जानकारी मांगी गई, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

पिछले हफ्ते एसआईटीए के सॉफ्टवेयर में तकनीकी समस्या के कारण, एयर इंडिया की 100 से अधिक उड़ानों में देरी हुई। इसी तरह की गड़बड़ पिछले साल भी हुई थी, जिससे देश भर में लगभग 25 उड़ानों में देरी हुई थी।

--आईएएनएस

Published in बिजनेस

नई दिल्ली: पाकिस्तानी उड़ान क्षेत्र में प्रवेश पर पाबंदी के कारण नई दिल्ली से यूरोप, खाड़ी क्षेत्र और अमेरिका के गंतव्य स्थलों की दूरी बढ़ जाने से एयर इंडिया को फरवरी के आखिरी दिनों से लेकर अब तक करीब 300 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है।

 जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को आत्मघाती बम विस्फोट के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने के कारण भारतीय उड़ानों के लिए पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र को बंद कर दिया गया है।

नई दिल्ली से उड़ान भरने वाले विमानों की उड़ान की अवधि बढ़ जाने से एयर एंडिया को अतिरिक्त ईंधन की खपत और कर्मचारियों पर होने वाले खर्च में वृद्धि व उड़ानों में कमी आने के कारण रोजाना छह करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है।

राष्ट्रीय विमानन सेवा कंपनी ने इस नुकसान की भरपाई के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय से संपर्क किया है।

मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, "एयर इंडिया ने इस संबंध में हमें सूचित किया है। सभी संबंधित पक्षों के साथ इस पर विचार किया जा रहा है।"

पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र पर रोक के कारण एयर इंडिया की उड़ान को नई दिल्ली से अमेरिका जाने में अब दो-तीन घंटे अधिक लगते हैं। वहीं, यूरोप की उड़ानों को करीब दो घंटे अधिक लगते हैं, जिससे वित्तीय नुकसान होता है।

भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविरों पर 27 फरवरी को हमला करने के बाद से पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में उड़ान भरने पर रोक लगा दी गई है, जिससे नई दिल्ली से यूरोप और अमेरिका के लिए विमान सेवा संचालित करने वाली अधिकांश एयरलाइंस प्रभावित हुई हैं।

अमेरिकी विमान सेवा कंपनी यूनाइटेड ने दिल्ली-नेवार्क की उड़ान अस्थाई रूप से रद्द कर दी है और हालात पर उसकी नजर है।

एयर इंडिया के एक अधिकारी ने कहा कि यूरोप और उत्तरी अमेरिका के लिए विमान संचालन एयरलाइन के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र पर रोक के कारण उड़ानों की दिशा में परिवर्तन को लेकर अबतक करीब 300 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: एयर इंडिया की यात्री सेवा प्रणाली में शनिवार को आई गड़बड़ी का असर रविवार को भी बना हुआ है और विमानन कंपनी की 137 उड़ानों में रविवार को लगभग तीन घंटों तक की देरी हो रही है।

विमानन कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि प्रति उड़ान औसत देरी लगभग 197 मिनट की होगी।

एयर इंडिया की यात्री सेवा प्रणाली में शनिवार तड़के निर्धारित रखरखाव के दौरान इसमें कुछ खराबी आ गई थी।

इसके बाद शनिवार को विमानन कंपनी समूह की एयर इंडिया, एयर इंडिया एक्सप्रेस और अलाइंस एयर द्वारा संचालित लगभग 149 उड़ानें विलंबित हुई थीं, जिस कारण हजारों यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा था।

एयर इंडिया प्रतिदिन 470 उड़ानें संचालित करती है, वहीं एयर इंडिया समूह 674 उड़ान सेवाएं उपलब्ध कराता है।

एक बार कोई विमान अपने मार्ग के पहले सेक्टर में विलंबित हो जाए, इसके बाद के क्षेत्रों में देरी होनी तय है। एक विमान आमतौर पर एक सेक्टर से दूसरे सेक्टर में दिन में जाता है।

एयर इंडिया की यात्री सेवा प्रणाली का संचालन एक वैश्विक विमानन प्रौद्योगिकी कंपनी 'एसआईटीए' करती है।

--आईएएनएस

 

 

Published in देश

नई दिल्ली/मुंबई: राष्ट्रीय विमानन सेवा एयर इंडिया के सर्वर में शनिवार सुबह हुई तकनीकी खराबी के रात तक ठीक होने की उम्मीद है। इस कारण विमानन सेवा की कई उड़ानें विलंबित हो गई हैं। सर्वर में खराबी के कारण चेक-इन, बैगेज हैंडलिंग और बोर्डिग जैसी सेवाएं प्रभावित हो गई थीं।

विमानन समूह की एयर इंडिया, एयर इंडिया एक्स्प्रेस और अलायंस एयर द्वारा संचालित 155 उड़ानों के शनिवार शाम 8.30 बजे तक देरी से चलने की संभावना है।

नई दिल्ली में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए एयर इंडिया के अध्यक्ष अश्वनी लोहानी ने कहा कि शनिवार सुबह 10 बजे तक 85 उड़ानें विलंबित हो गई थीं।

लोहानी के अनुसार, शुरुआत में उड़ानों के रद्द किए जाने का प्रभाव घरेलू उड़ानों पर दिन भर रहेगा, वहीं ज्यादातर अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें समय पर ही रहेंगी।

उड़ान सेवा प्रतिदिन 470 उड़ानें संचालित करती है, वहीं एयर इंडिया समूह 674 उड़ान सेवाएं प्रदान करता है।

लोहानी ने कहा कि सर्वर ठीक कर दिया गया है और यात्रियों को पहले ही उनकी उड़ानों के बारे में बताया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि कुछ उड़ानों का समय दोबारा निर्धारित किया गया है।

शनिवार तड़के, वैश्विक विमानन आईटी कंपनी 'एसआईटीए' के सर्वर में खराबी आने के बाद लगभग पांच घंटों तक उड़ानें प्रभावित रहीं।

'एसआईटीए' वायु यातायात उद्योग के लिए आईटी प्रदाता है।

दुनिया के व्यस्ततम हवाईअड्डों में शुमार छत्रपति शिवाजी महाराज अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा पर शनिवार तड़के 3.30 बजे से सेवा प्रभावित होने के बाद हजारों यात्री फंस गए।

इससे पहले एयर इंडिया ने एक बयान में कहा, "हमारी सर्वर प्रणाली के ठप होने के कारण दुनियाभर में हमारी कुछ उड़ानें प्रभावित हो रही हैं। सर्वर ठीक करने के लिए तेजी से काम चल रहा है।"

इसके जवाब में 'एसआईटीए' ने कहा कि सर्वर रखरखाव के दौरान एक जटिल समस्या हो गई, जिसके कारण संचालन में अवरोध हो गया।

विमानन कंपनी ने आगे कहा, "एयर इंडिया जहां-जहां प्रभावित हुई है, हमने उन सभी हवाईअड्डों पर सेवा बहाल कर दी है।"

विमानन कंपनी ने कहा, "यात्रियों को होने वाली परेशानी के लिए हम खेद प्रकट करते हैं।"

--आईएएनएस

Published in देश

मुंबई: राष्ट्रीय उड़ान सेवा एयर इंडिया के मुख्य सर्वर में शनिवार को गड़बड़ी आने के बाद कंपनी का उड़ान संचालन पांच घंटे से ज्यादा समय तक प्रभावित रहा।

एयर इंडिया के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने कहा कि सेवा बहाल कर दी गई है, लेकिन उड़ानों में देरी होगी क्योंकि स्थिति सामान्य होने में समय लगेगा।

दुनिया के व्यस्ततम हवाईअड्डों में शामिल मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा पर तड़के सर्वर फेल होने के कारण तड़के 3.30 बजे से हजारों यात्री फंसे हैं।

एक यात्री टी. चौधरी ने कहा, "यहां बुरी तरह अफरातफरी और भ्रम की स्थिति है। यात्रियों की लंबी कतारें लगी हैं।"

इससे पहले उड़ान सेवा ने एक बयान में कहा, "हमारे सर्वर सिस्टम के ठप होने के कारण दुनियाभर में हमारी कुछ उड़ानें प्रभावित हो रही हैं। सर्वर ठीक करने के लिए तेजी से काम चल रहा है।"

उड़ान सेवा के सूत्रों के अनुसार, यह समस्या चेक-इन, बैगेज हैंडलिंग और बोर्डिग की तकनीक देने वाले 'एसआईटीए' सर्वर में प्रतीत हो रही है।

उड़ान सेवा ने कहा, "यात्रियों को होने वाली परेशानी के लिए हम खेद प्रकट करते हैं।"

--आईएएनएस

 

 

Published in देश

नई दिल्ली: राष्ट्रीय विमानन कंपनी एयर इंडिया ने गुरुवार को कहा कि यहां आईजीआई एयरपोर्ट पर खड़े उसके एक बोइंग 777 विमान में आग लगने की कोई घटना नहीं हुई है।

एयरलाइन ने यह स्पष्टीकरण तब दिया है, जब इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट (आईजीआईए) के अग्निशमन कर्मचारियों ने बुधवार को 'एपीयू एक्जास्ट से निकलते काले धुएं को आग लगने की घटना मानते हुए' विमान के आक्जिलियरी पॉवर यूनिट (एपीयू) और फ्यूसलेज के एक हिस्से पर फोम स्प्रे (आग बुझानेवाला केमिकल) का छिड़काव किया था।

विमानन कंपनी ने एक बयान में कहा, "कल की रात दिल्ली में जब इंजीनियर एक खाली विमान (777) की नियमित जांच कर रहा था, तब एपीयू ऑटो शट डाऊन की घटना हुई।"

बयान में आगे कहा गया, "एयरपोर्ट के अग्निशमन कर्मियों ने एपीयू एक्जास्ट से काले धुएं को आग लगने की घटना मानते हुए उस पर फोम स्प्रे का छिड़काव किया।"

बयान में कहा गया, "इस घटना के बाद एपीयू की सघन जांच की गई और किसी प्रकार के आग लगने या बाहरी नुकसान की जानकारी नहीं मिली है। हालांकि मामूली तेल लीक होने के निशान मिले हैं, जो सामान्य है।"

यह विमान दिल्ली-सैन फ्रांसिस्को मार्ग पर सेवा देता है।

--आईएएनएस

Published in देश

नई दिल्ली: श्रीलंका में रविवार को हुए आतंकवादी हमलों के मद्देनजर एयर इंडिया और इंडिगो ने 24 अप्रैल तक कोलंबो जाने और आने वाले यात्रियों के लिए रद्दीकरण और पुनर्निर्धारण शुल्क की छूट देने की घोषणा की है। 

राष्ट्रीय विमानन कंपनी ने ट्वीट कर कहा, "श्रीलंका की स्थिति को देखते हुए 24 अप्रैल, 2019 तक कोलंबो से/कोलंबो के लिए टिकटों को रद्द कराने या किस दूसरे दिन की बुकिंग कराने पर लगने वाले सभी तरह के शुल्क में छूट दी जा रही है।"

इसने यात्रियों से अनुरोध किया कि वे कोलंबो में कोलंबो अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सुरक्षा जांच को पूरा के लिए 'समय से थोड़ा पहले' यात्रा के लिए आएं।

इंडिगो ने ट्वीट किया, "कोलंबो में हालिया घटनाओं के मद्देनजर, हम 24 अप्रैल, 2019 तक कोलंबो से/के लिए सभी उड़ानों के लिए यात्रा के पुनर्निर्धारण या रद्द करने पर पूर्ण शुल्क माफी प्रदान कर रहे हैं। हम प्रभावितों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।"

श्रीलंका की पुलिस के मुताबिक, ईस्टर संडे को हुए कई धमाकों में अब तक 207 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 450 से ज्यादा लोग घायल हैं। कुल मिलाकर देश में आठ विस्फोट किए गए हैं, जिसमें छह विस्फोट सुबह और दो दोपहर में हुए हैं। सोमवार की सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगा दिया गया है।

--आईएएनएस

Published in देश

चेन्नई: एयर इंडिया के पायलटों के संगठन, इंडियन पायलट्स गिल्ड (आईपीजी) ने शनिवार को राष्ट्रीय विमानन कंपनी के प्रबंधन से आग्रह किया कि वे ऊंची लागत वाले कैप्टन्स को भर्ती करने के बजाए बोइंग 777 (बी-777) रेटिंग वाले सह-पायलटों को अल्पकालिक अनुबंध पर भर्ती करें।

एयर इंडिया के परिचालन निदेशक को लिखे पत्र में आईपीजी ने एयरलाइन द्वारा बी-777 रेटिंग वाले कैप्टन्स और सह-पायलटों की अनुबंध आधार पर भर्ती की योजना का हवाला दिया और कहा कि कठिन वित्तीय स्थिति से जूझ रही कंपनी के लिए यह धन की घोर बर्बादी होगी।

उन्होंने पत्र में कहा है, "वर्तमान में बोइंग 777 बेड़े में करीब 219 कैप्टन्स और 110 फर्स्ट ऑफिसर्स हैं। यह संख्या बेड़े के 70 घंटों (प्रति माह) के औसत के हिसाब से पर्याप्त है।"

उन्होंने कहा, "हमारे पास लगभग 40 कैप्टन हैं, जो प्रतिनियुक्ति पर एयर इंडिया एक्सप्रेस से प्रत्यावर्तन की प्रतीक्षा कर रहे हैं और करीब इतनी ही संख्या में फर्स्ट ऑफिसर्स कमांड अपग्रेड के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं।"

आईपीजी के मुताबिक, अगर एयर इंडिया निजी एयरलाइन के असफल होने पर खाली हुई जगह को भरना चाहती है और अधिक बी-777 विमान हासिल करने की योजना बना रही है, तो यह समझ में आता है कि अल्पकालिक आधार पर सह-पायलटों की नियुक्ति की जाए।

आईपीजी के पत्र में कहा गया, "हालांकि अगल बी-777 रेटिग वाले कैप्टन को भर्ती किया जाता है तो वेतन का बिल नाटकीय रूप से बढ़ेगा और संसाधनों की भारी बरबारी होगी।"

--आईएएनएस

Published in बिजनेस