Maharashtra Assembly Polls: संजय निरुपम ने दिए कांग्रेस छोड़ने के संकेत, पार्टी पर लगाये गंभीर आरोप
Friday, 04 October 2019 12:26

  • Print
  • Email

मुंबई: मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद संजय निरुपम ने कहा कांग्रेस उनके खिलाफ साजिश रच रही है पार्टी में राहुल गांधी से जुड़े लोगों को पार्टी से अलग-थलग किया जा रहा है। महाराष्ट्र प्रभारी मल्लिकार्जुन खडगे पर निशान साधते हुए निरुपम ने कहा कि खडगे ने हमारे प्रत्याशियों से बात नही की है, कांग्रेस का पूरा मॉडल ही दोषयुक्त है। निरुपम ने कांग्रेस आलाकमान पर मुस्लिम समाज को दरकिनार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि ये पूरी तरह से गलत है। 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने वर्सोवा सीट पर अपने उम्मीदवार को टिकट न दिए जाने पर प्रश्न उठाया और दावा किया कि उनके द्वारा चुना गया प्रत्याशी बिलकुल सही था। उन्होंने स्वयं को चुनाव प्रचार अभियान से दूर रखने का एलान भी किया उन्होंने कहा कि मेरा दावा है कि कुछ सीटों को छोड़कर अन्य सीटों पर कांग्रेस की जमानत जब्त हो जाएगी। ज्ञात हो कि संजय निरुपम मुंबई में प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से पत्रकारों को संबोधित कर रहे हैं। 

विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए प्रचार न करने का निर्णय किया है। संजय निरुपम ने कहा कि दिल्ली में बैठे लोगों में समझ की कमी है। कांग्रेस पार्टी ने योग्य व्यक्तियों के साथ न्याय नहीं किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से जुड़े लोग उनके खिलाफ षडयंत्र रच रहे हैं। निरुपम का कहना है कि वह अब ज्यादा दिनों तक कांग्रेस में नही रह पाएंगे।

मुंबई में पत्रकारों से बातचीत करते हुए संजय निरुपम ने कहा कि कांग्रेस को अब उनकी सेवाओं की जरूरत नहीं है। संजय का कहना है कि मैंने सिर्फ एक टिकट की सिफारिश की थी लेकिन उसे भी निरस्त कर दिया गया। मैं पार्टी प्रमुख को बता चुका हूं कि में अब पार्टी के लिए प्रचार नहीं करूंगा। यह मेरा अंतिम फैसला है।निरुपम ने कहा कि  मैं अभी पार्टी को गुड बाय नही कह रहा हूं लेकिन पार्टी में मेरे साथ जिस तरह का व्यवहार किया जा रहा है उसे देखते हुए लग रहा है कि मैं ज्यादा दिन इसमें नहीं रह पाऊंगा।  

गौरतलब है कि कांग्रेस में आने से पहले शिवसेना में थे। उत्तर मुंबई से भाजपा के दिग्गज राम नाइक को हराकर संजय निरुपम कांग्रेस में सांसद चुने गये थे। उसे बाद उन्हें मुंबई कांग्रेस में अध्यक्ष पद की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गयी थी। परंतु पिछले लोकसभा चुनाव से पहले उनसे मुंबई कांग्रेस का अध्यक्ष पद छीन लिया गया और उसकी कमान मिलिंद देवड़ा को सौंप दी गयी। हालांकि पिछले माह ही ये महत्वपूर्ण जिम्मेदारी देवड़ा के स्थान पर बुजुर्ग नेता व पूर्व सांसद एकनाथ गायकवाड़ को दे दी गयी है। 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.