'आरक्षण आंदोलन से हरियाणा में निवेश पर असर संभव'

टोरंटो: हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान बड़े पैमान पर हुई हिंसा से दुखी कनाडा में हरियाणा मूल के अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) ने आशंका जताई है कि इससे राज्य में निवेश प्रभावित हो सकता है। उन्होंने राज्य के 36 बिरादरियों से अपील की है कि उन्हें वर्षो पुराने भाईचारे को बरकरार रखना चाहिए। 

कनाडा में ओवरसीज एसोसिएशन ऑफ हरियाणवीज ने यहां जारी एक बयान में कहा, "हम हरियाणा मूल के अनिवासी भारतीय अपने भाइयों-बहनों से अपील करते हैं कि वे हरियाणा और देश के हित में 36 बिरादरियों के बीच सदियों पुराने भाईचारे को बनाकर रखें।"

बयान के मुताबिक, हिंसा से हरियाणवियों की छवि प्रभावित हुई है। बयान में कहा गया है, "इसका हरियाणा में निवेश की संभावना पर गहरा प्रभाव पड़ेगा।"

संगठन ने कहा है कि आंदोलन का आम आदमी को कोई फायदा नहीं मिला है। संगठन के मुताबिक, "उलटे, इससे बेरोजगारी बढ़ेगी और राज्य की समृद्धि घटेगी।"

संगठन ने कहा, "इससे असामाजिक और देश विरोधी तत्वों को राज्य में अराजकता फैलाने का एक अवसर मिल गया।"

बयान में खाप पंचायतों से अनुरोध किया गया है कि वे राज्य में सदियों से कायम भाईचारे को स्थापित करने में मदद करें।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।