गोवा में स्वागत है, लेकिन सड़कों पर पेशाब ना करें : पर्रिकर

पणजी: लड़कियों के बीयर पीने पर विवादित बयान दे कर सुर्खियों में आए गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने बुधवार को कहा कि उनके राज्य में हर किसी का स्वागत है लेकिन कोई भी सड़क पर पेशाब ना करें और राज्य के कचरे की समस्या को ना बढ़ाए. गोवा के कृषि मंत्री विजय सरदेसाई के घरेलू पर्यटकों पर दिए गए विवादास्पद बयान के बाद पर्रिकर ने यह बयान दिया है.

 

विजय सरदेसाई ने घरेलू पर्यटकों, खासकर उत्तर भारत और उसमें भी विशेष रूप से हरियाणा से आने वाले पर्यटकों पर निशाना साधते हुए उन्हे 'धरती की गंदगी' बताया था. उन्होंने कहा था कि उत्तर भारतीय पर्यटक गोवा को 'एक और हरियाणा' में बदल देंगे. हालांकि बाद में उन्होंने कहा कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है. वह तो खराब व्यवहार करने वाले घरेलू पर्यटकों के एक हिस्से के बारे में यह कह रहे थे ना कि सभी के लिए.

 

पर्रिकर ने कहा कि सरदेसाई के बयान से राज्य के पर्यटन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा कि सरदेसाई के शब्द सही नहीं थे लेकिन इसका आशय हिंसा फैलाने या किसी की भावनाए आहत करने से नहीं था. मुख्यमंत्री ने कहा, "सभी लोगों का स्वागत है. बस एक शर्त है कि वे सड़कों पर पेशाब नहीं करें और कचरा ना फैलाएं."

 

पर्रिकर ने कहा, "सरदेसाई ने मुझसे पूछा कि क्या इससे पर्यटन पर प्रभाव पड़ेगा? मुझे नहीं लगता इससे प्रभाव पड़ेगा. मैं दुनिया के किसी भी हिस्से के अच्छे और जिम्मेदार पर्यटक को पसंद करूंगा. स्थानीय लोगों के लिए भी सामाजिक व्यवहार के मूलभूत नियम लागू होते हैं." उन्होंने यह भी कहा, "सरदेसाई को ऐसे शब्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए था. मैंने उनसे बात की. उनका ऐसा इरादा नहीं था लेकिन उनका तर्क गलत नहीं है. सरदेसाई के बयान को गलत तरीके से पेश किया गया. उन्होंने अगले दिन अपनी गलती सुधार ली थी."

 

बता दें कि इससे पहले मनोहर पर्रिकर ने एक विवादित बयान दिया था जिसमें उन्होंने कहा था कि लड़कियों के बीयर पीने से उन्हें डर लगता है. हालांकि बाद में उन्होंने कहा कि उनके बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है.