खराब चाय की शिकायत करने वाले यात्री को पैंट्रीकार वालों ने जमकर पीटा

 

रेलवे में खान-पीने की चीजों की गुणवत्ता पर अक्सर सवाल उठते रहते हैं। ट्रेन में सफर करने वाले रेलयात्री इस बात की शिकायत भी करते रहे हैं। शायद ही आपने कभी ऐसा सुना हो कि शिकायत करने पर किसी यात्री को पेंट्री के स्टाफ ने मिलकर पीटा हो। दरअसल, ऐसा ही एक मामला छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस से सामने आया है। छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में नीतेश सिंह नामक शख्स अपने परिवार के साथ यात्रा कर रहे थे। उस दौरान उन्होंने पेंट्री से बेचने आए एक स्टाफ से चाय खरीदी। चाय पीने के बाद उन्होंने इसकी शिकायत चाय बेचने वाले स्टाफ से की, जब स्टाफ ने उनकी बातों को नजरअंदाज कर दिया तो वह पेंट्री कार में मैनेजर के पास इस बात की शिकायत लेकर पहुंच गए। नीतेश सिंह की बात सुनकर मैनेजर को इतना गुस्सा आया कि उसने नीतेश को पेंट्रीकार के अंदर ही बंद कर लिया। इतना ही नहीं नीतेश जब मदद के लिए आवाज लगाने लगा तो मैनेजर और स्टाफ ने मिलकर उसके मुंह में कपड़ा डाल दिया। मैनेजर पर आरोप है कि वह अपने 12 स्टाफ के साथ मिलकर नीतेश को आधे घंटे तक पीटता रहा।

जब नीतेश आधे घंटे तक एस-10 कोच में अपनी सीट पर वापस नहीं आए तो परिवार वालों को उनकी चिंता होने लगी। इसके बाद कोच के दूसरे यात्रियों ने पेंट्री स्टाफ के खिलाफ रेल मंत्री के पास शिकायत भेज दी। जैसे ही खबर रेलवे मंत्रालय तक पहुंची, इस पर एक्शन लिया गया। झांसी में जीआरपी के कुछ जवान ट्रेन में आए और पेंट्रीकार के 12 कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया।

हालांकि, पेंट्री कार में सवार मैनेजर वहां से भाग गया। इसके बाद नितेश सिंह को पेंट्रीकार से सही सलामत बाहर निकाल गया और उनका मेडिकल चेकअप कराया गया। नितेश अपने परिवार के साथ दुर्ग से निजामुद्दीन जा रहा थे। आरोपी मैनेजर को ढूंढा जा रहा है, वहीं छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के पेंट्री कार में मैनेजर सहित पूरे स्टाफ को बदल दिया गया और आगे के सफर के लिए नए स्टाफ को वहां नियुक्त किया गया।