बिहार : मुख्यमंत्री आवास में छठ को लेकर उत्साह, राबड़ी आवास पर उदासी
Saturday, 02 November 2019 16:16

  • Print
  • Email

पटना: लोकआस्था के महापर्व छठ पर कभी पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के आवास पर उत्साह और गहमागहमी रहती थी, लेकिन इस साल छठ पर्व के मौके पर इस आवास पर उदासी छाई हुई है। दूसरी ओर, मुख्यमंत्री आवास पर छठ पर्व को लेकर गहमागहमी और उत्साह का माहौल है।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और उनकी पत्नी राबड़ी देवी छठ की तैयारी में दिवाली के बाद से ही लग जाते थे। नेताओं और कार्यकर्ताओं को घर बुलाकर प्रसाद खिलाया करते थे।

फिलहाल, लालू चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता होने के कारण रांची की जेल में बंद हैं। स्वास्थ्य खराब रहने के कारण वह इन दिनों रांची के रिम्स में भर्ती हैं। राजद के एक नेता की मानें तो लालू प्रसाद रिम्स के पेइंग वार्ड में ही छठ पर्व मना रहे हैं।

इधर, राजद के एक नेता की मानें तो लालू प्रसाद के पुत्र तेजप्रताप यादव मथुरा में हैं जबकि राबड़ी देवी की तबीयत खराब है। इस कारण इस साल व्रत नहीं हो सका।

इधर, मुख्यमंत्री आवास में छठ पर्व पर गहमागहमी बनी हुई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भाभी और परिवार के कई अन्य सदस्य यहां पहुंचे हैं और छठ पर्व कर रहे हैं। शुक्रवार की रात छठ पर्व के खरना के अवसर पर बड़ी संख्या में लोग मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे और प्रसाद ग्रहण किया। मुख्यमंत्री ने स्वयं राज्यपाल फागू चौहान का स्वागत किया और उन्हें खरना का प्रसाद खिलाया।

मुख्यमंत्री आवास स्थित तालाब में शनिवार को अस्ताचलगामी सूर्य को अघ्र्य दिया जाएगा। इसके लिए तालाब की साफ-सफाई कर उसे सजाया गया है।

बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी के घर भी छठ पूजा का उत्साह है। चौधरी अपने पैतृक गांव दलसिंहसराय के केवटा पहुंचे हैं, जहां उनकी पत्नी छठ पूजा कर रही हैं।

इसके अलावा, बिहार के कई मंत्रियों के यहां भी सूयरेपासना के इस महापर्व को लेकर गहमागहमी और उत्साह है।

बिहार के भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी के आवास पर भी छठ पूजा की तैयारी हो रही है, जहां उनकी पत्नी छठ पूजा के मौके पर भगवान भास्कर को अघ्र्य देंगी। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के घर भी छठ पूजा को लेकर गहमागहमी बनी हुई है।

--आईएएनएस

 

 

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.