CM कैप्‍टन अमरिंदर का ऐलान- पंजाब में 18 मई से कर्फ्यू समाप्‍त, लागू होगा राहत वाला लाॅकडाउन
Saturday, 16 May 2020 21:07

  • Print
  • Email

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि पंजाब में 18 मई के बाद पंजाब में कफ़र्यू खत्‍म हाेगा। मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर ने शनिवार देर शाम कहा कि पंजाब में 17 मई के बाद राज्‍य में कर्फ्यू समाप्‍त होगा और इसके बाद के कदमों के बारे में जल्‍द ही ऐलान किया जाएगा। इसके साथ् ही उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में 31 मई तक लॉकडाउन लागू रहेगा। इस दौरान गैर कंटेनमेंट एरिया में दुकानों और छोटे व्‍यवसायों को छूट दी जाएगी।

मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार देर शाम सोशल मीडिया पर लाइव होकर पंजाब के लोगों से रूबरू हुए। उन्‍होंने पंजाब में कोरोना की हालत और इससे निपटने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी दी। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में काफी हद तक अब हालात पर काबू पा लिया गया है।

शनिवार शाम फेसबुक पर आस्क कैप्टन कार्यक्रम में सीधे तौर पर लोगों के सवालों के जवाब देते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि राज्य में कंटेनमेंट जोन को लॉक डाउन में भी पूरी तरह सील रखा जाएगा। कर्फ्यू हटने के बाद लोगों को मिलने वाली रियायतों के संबंध में कैप्टन ने कहा कि राज्य सरकार जारी रहने वाले प्रतिबंधों और राहतों के बारे में घोषणा सोमवार तक कर देगी। इनमें केंद्र सरकार द्वारा चौथे लॉक डाउन के नियमों का भी ध्यान रखा जाएगा।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि राज्‍य में पिछले चार दिनों में कोरोना मरीजों की संख्‍या घटी है। इसके साथ ही उन्‍होंने राज्‍य में सीमित सार्वजनिक परिवहन को फिर से शुरू करने संकेत भी दिए। उन्‍होंने 18 मई से गैर कंटेनमेंट जोन में छूट देने की भी घोषणा की।

उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन को सख्‍ती से सील रखा जाएगा। इसके साथ ही गैर कंटेनमेंट क्षेत्रों में दुकानों और छोटे व्यवसायों को फिर से शुरू किए जाने के लिए कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने घोषणा की कि सोमवार तक सभी छूटों का विवरण केंद्र के लॉकडाउन 4.0 के नए दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए घोषित कर दिया जाएगा। हालांकि, उन्होंने यह स्पष्ट कर दिया कि बच्चों की सुरक्षा और सुरक्षा के लिहाज से शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे।

सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने लोगों से अपील की कि वे सतर्कता और पूरी सावधानियां बरतते रहें। ऐसा कर सरकार को सहयोग दें। उन्‍होंने कहा कि 55 दिन बाद कड़े कर्फ्यू की जगह सरकार राहत भरा लॉकडाउन ला रही है। इसके साथ ही उन्‍होंने विपक्ष से पूरे हालत पर राजनी‍ति नहीं करने और कोरोना पर नियंत्रण करने के प्रयास में सहयोग दें।  

इसके साथ ही कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने खुलासा किया कि उन्‍होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह  को राहत भरे स्‍वरूप में देश में 31 मई तक लॉकडाउन लागू करने की सिफा‍रिश और अनुरोध किया है। लॉकडाउन 4.0 के बारे में केंद्र सरकार की घोषणा के बाद पंजाब सरकार छूटों और लॉकडाउन के स्‍वरूप के बारे में घोषणा करेगी।

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पहले विदेश से एनआरआइ आए और उनके कारण पंजाब में कोरोना फैला। उन्‍होंने नवांशहर में विदेश से लौटे बुजुर्ग की मौत और उसके कारण कोरोना फैलने की चर्चा की गई है। उन्‍होंने कहा कि इसके बाद हालात पर काफी हद तक काबू पा लिया गया, लेकिन महाराष्‍ट्र के नांदेड़ स्थित श्री हजूर साहिब से लौटे श्रद्धालु से फिर कोरोना के मामले एकाएक बढ़ गए।

उन्‍होंने पंजाब से अन्‍य राज्‍यों के श्रमिकों को उनके राज्‍य भेजने के बारे में भी जानकारी दी। उन्‍होंने कहा कि करीब 84 स्‍पेशल ट्रेनों से उत्‍तर प्रदेश और 32 ट्रेनों से बिहार श्रमिकों को भेजा गया है। अन्‍य राज्‍यों और विदेश में फंसे पंजाब के लोगों को भी राज्‍य में वापस लाने की व्‍यवस्‍था की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर फिलहाल शिक्षा संस्थानों को बंद ही रखा जाएगा।  कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि लोगों को अब भी कोरोना के संक्रमण से सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अब देश में ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन में शहरों को बांटने की बजाय कंटेनमेंट और नॉन कंटेनमेंट जोन में बांटा जाना चाहिए। इससे किसी एक छोटे क्षेत्र में कोरोना वायरस का प्रभाव होने के चलते पूरा शहर या जिला बंद करने की नौबत नहीं आएगी और ऐसे क्षेत्रों में व्यावसायिक और औद्योगिक गतिविधियां चलाई जा सकेंगी। 

पंजाब में पिछले चार दिनों में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में तेज गिरावट आने की जानकारी देते हुए कैप्टन ने कहा कि नांदेड़, महाराष्ट्र से श्रद्धालुओं और कोटा, राजस्थान से छात्रों की वापसी से पंजाब में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ था लेकिन लोगों के सहयोग से अब राज्य में कोरोना मरीजों की संख्‍या 44 दिन दोगुनी हो गई थी, जबकि महाराष्ट्र में यह 11 दिन में दोगुना‍हो गया था।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss