अमित शाह ने फिर दोहराया 'नागरिकता कानून नागरिकता लेने का नहीं, देने का कानून
Saturday, 29 February 2020 10:29

  • Print
  • Email

भुवनेश्वर: नागरिकता कानून पर दिल्ली में भड़की हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने फिर दोहराया है यह कानून नागरिकता लेने का नहीं है, नागरिकता देने का है। उन्होंने कहा कि नागरिकता उन लोगों को दी जाएगी जो विभाजन के दौरान पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में रह गए थे जिसमें हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन और पारसी शामिल हैं। भुवनेश्वर के जनता मैदान में नागरिकता कानून के पक्ष में एक रैली को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने यह कानून सिर्फ मानव अधिकारों की रक्षा के लिए लाया है। इस मौके पर अमित शाह ने रैली में कांग्रेस पार्टी, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, लेफ्ट और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जोरदार हमला बोला।

उन्होंने कहा कि ये सभी नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर रहे हैं, झूठ और दंगा फैला रहे हैं। ये कह रहे हैं कि सीएए से मुस्लिमों की नागरिकता चली जाएगी। हालांकि सच्चाई यह नहीं है। अमित शाह ने कहा कि हम नागरिकता संशोधन अधिनियम में एक भी मुस्लिम या अल्पसंख्यक व्यक्ति की नागरिकता नहीं जाने देंगे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने फिर दोहराया कि सीएए नागरिकता लेने का कानून नहीं हैं, नागरिकता देने का कानून है। नागरिकता उन लोगों को दी जाएगी, जो विभाजन के दौरान पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में छूट गए हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन और पारसी समुदाय से आते हैं।

अमित शाह ने रैली में लोगों से पूछा कि क्या पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में उत्पीड़न के शिकार लोगों को नागरिकता नहीं देनी चाहिए? क्या उनके मानवाधिकार को नहीं देखा जाना चाहिए? इस पर जनता ने हां में जवाब दिया।

अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन लोगों को नागरिकता देने और मानवाधिकारों की रक्षा करने के लिए सीएए लेकर आए हैं, जिन पर धर्म के आधार पर पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में अत्याचार हो रहा है। जिनका जबरन धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है, लेकिन विपक्ष इस पर राजनीति कर रही है और लोंगो को गुमराह कर रही है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा, "मोदी जी अपने दूसरे कार्यकाल में एक बहुत बड़ी योजना लेकर आए हैं। 2024 तक देश के हर घर में नल से स्वच्छ पानी पहुंचाना है और इस योजना का सबसे बड़ा लाभ ओडिशा को होने वाला है। अमित शाह ने जनता को विश्वास दिलाया कि वह प्रधानमंत्री मोदी के प्रतिनिधि के रूप में राज्य आए हैं और उनको विश्वास दिलाना चाहते हैं कि इस राज्य के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ा जाएगा।

रैली में अमित शाह ने कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद वो पहली बार उड़ीसा आए हैं, लेकिन वह भारतीय जनता पार्टी की तरफ से लोगों को धन्यवाद देते हैं कि आपने 8 सीटों पर विजय देकर 21 फीसदी वोट दिलवाया। आपके वोट से ही मोदी जी पीएम बन पाए।

--आईएएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss