दिल्ली में महिला पुलिसकर्मियों की बेहद कमी
Saturday, 23 March 2013 09:47

  • Print
  • Email

दिल्ली में महिलाओं से संबंधित मुकदमों का अंबार लगता जा रहा है। इसके पीछे एक मामूली वजह है और वह है, दिल्ली पुलिस में महिला पुलिसकर्मियों की कमी।

दिल्ली पुलिस की अनेक महिला पुलिसकर्मियों ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईएएनएस को बताया कि महिलाकर्मियों की कमी की वजह से महिलाओं की प्रताड़ना या घरेलू हिंसा संबंधी मुकदमों का अंबार लगता जा रहा है।

16 दिसबंर के सामूहिक दुष्कर्म की वारदात के बाद महिला पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाने की जरूरत शिद्दत से महसूस की जा रही है। केंद्र गृह मंत्रालय ने हालांकि राजधानी के 180 थानों में से प्रत्येक में कम से कम नौ महिला पुलिसकर्मियों की तैनाती की बात कही है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "दिल्ली पुलिस ने 3,000 महिला पुलिस कर्मियों की बहाली के लिए गृह मंत्रालय को प्रस्ताव भेजा है। लेकिन अभी मंजूरी मिलनी बाकी है।"

दिल्ली पुलिस की कुल संख्या बल 85,000 है, इसमें से लगभग 5,700 महिलाकर्मी हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार दिल्ली की एक करोड़ साठ लाख आबादी में लगभग 70 लाख महिलाएं हैं।

महिला पुलिसकर्मी ज्यादातर दुष्कर्म, छेड़खानी और प्रताड़ना से संबंधित मामलों की छानबीन करती हैं। इसका मतलब है कि वे कार्य के बोझ तले दबी हैं।

एक महिला सब इंस्पेक्टर ने नाम जाहिर न करने का अनुरोध करते हुए बताया, "मैं महिलाओं से जुड़े आठ मुकदमों पर काम कर रही हूं।"

एक अन्य महिला पुलिस अधिकारी ने बताया कि दिल्ली पुलिस में 1,313 पुरुष इंस्पेक्टर के मुकाबले केवल 87 महिला इंस्पेक्टर ही हैं।

इसी तरह 44,945 पुरुष सब इंस्पेक्टरों के मुकाबले केवल 265 महिला सब इंस्पेक्टर हैं।

दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता राजन भगत ने आईएएनएस को बताया, "थाने में महिला पुलिस कर्मी की तैनाती नहीं रहने की स्थिति में हम इन्हें दूसरे थानों से बुलाते हैं।"

दिल्ली पुलिस ने 2003 से प्रत्येक थाने में महिलाओं से संबंधित मामलों की छानबीन के लिए एक महिला अनुसंधानकर्ता का रखना अनिवार्य कर दिया है।

महिला पुलिस का अभाव दिल्ली पुलिस में उच्चे पदों पर ही हैं।

दिल्ली पुलिस में 65 पुरुष के मुकाबले केवल चार महिलाएं ही पुलिस उपायुक्त और अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त हैं।

दिल्ली में पुलिस सहायक उपायुक्त के कुल 238 पद हैं, इसमें 20 पदों पर महिलाएं तैनात हैं।

एक अन्य पुलिस अधिकारी ने नाम नहीं खुलासा करने के शर्त पर आईएएनएस को बताया, "दिल्ली पुलिस ने हर थाने की महिला सहायता डेस्क पर महिलाकर्मियों की तैनाती की है, लेकिन महिला अनुसंधानकर्ताओं की कमी है।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss