मप्र में विदेशी महिला से दुष्कर्म के मामले ने कांग्रेस को दी संजीवनी
Thursday, 21 March 2013 07:32

  • Print
  • Email

भोपाल, 19 मार्च (आईएएनएस)| मध्य प्रदेश में कांग्रेस एक लम्बे अरसे से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार के खिलाफ मुद्दों के लिए भटक रही थी। दतिया में विदेशी महिला के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म मामले के रूप में कांग्रेस को एक जबदस्त मुद्दा हाथ लग गया है। यही वजह है कि कांग्रेस वर्षो बाद सरकार को सड़क से लेकर विधानसभा तक घेरने का साहस दिखा रही है।

राज्य में दो विधानसभा चुनावों में लगातार मिली शिकस्त के बाद हताशा के दौर से गुजर रही कांग्रेस उठ खड़ी होने का साहस नहीं जुटा पा रही थी। सरकार के खिलाफ कांग्रेस हालांकि कई छोटे-बड़े आंदोलन कर चुकी है। मगर, इन आंदोलनों में वह आक्रामकता नहीं थी, जिससे सरकार को जनता की अदालत में खड़ा किया जा सके।

कांग्रेस ने सरकार पर पहला बड़ा हमला अविश्वास प्रस्ताव के जरिए किया था। उसने सरकार पर अवैध खनन, बढ़ते अपराध और भूमाफियाओं को संरक्षण देने का आरोप लगाया था। लेकिन यह हमला विधानसभा के भीतर ही सीमित रहा।

कांग्रेस को ऐसे मुद्दे की लंबे अरसे से तलाश थी, जिससे वह सरकार पर अचूक हमला कर सके। दिल्ली में 'दामिनी' सामूहिक दुष्कर्म मामले के बाद से देश में महिलाओं के खिलाफ अत्याचार को लेकर आमजन का आक्रोश बढ़ा है। इसी बीच दतिया में स्विट्जरलैंड की महिला के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म ने कांग्रेस को राजनीतिक मुद्दा दे दिया। कांग्रेस भी इसे भुनाने से नहीं चूकी।

इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर जमकर हमला बोला है। पूरे राज्य के जिला मुख्यालयों पर एक दिवसीय धरने का आयोजन किया गया है। जहां पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय पर धरना दिया, वहीं विधायकों ने विधानसभा में जमकर हंगामा किया। उन्होंने राज्य के गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता का इस्तीफा मांगा। हंगामे के चलते सोमवार को पूरे दिन विधानसभा की कार्यवाही नहीं चल पाई।

कांग्रेस को पता है कि महिला सशक्तीकरण का नारा देकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य के बाहर अपनी एक खास छवि बनाई है। इसलिए महिलाओं पर होने वाले अत्याचार के मुद्दे पर उन्हें आसानी से घेरा जा सकता है। विधानसभा उप नेता चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी कहते हैं कि राज्य में दुष्कर्म की वारदातें लगातार बढ़ रही हैं। अब तो यहां विदेशी महिलाएं भी सुरक्षित नहीं हैं। दतिया की घटना ने देश को शर्मसार किया है।

कांग्रेस के तेवर से डरे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा इस मसले पर राजनीति न करने की दुहाई दे रहे हैं। सरकार का आरोप है कि विपक्ष दुष्कर्म के मुद्दे पर विधानसभा में चर्चा करने की बजाय राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर रहा है।

सरकार के लिए कांग्रेस के हमलों का जवाब देना मुश्किल हो रहा है। लगता है कि यह मुद्दा आगे भी राज्य की राजनीति को गर्म बनाए रखने का कारण बनेगा।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss