मप्र में महिला हेल्प लाइन पर 4 माह में 3875 शिकायतें
Tuesday, 07 May 2013 17:26

  • Print
  • Email

भोपाल, 7 मई (आईएएनएस)| मध्य प्रदेश में महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों पर रोक लगाने और आरोपियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई के लिए स्थापित महिला हेल्प लाइन पर बीते चार माह में 3875 शिकायतें मिली हैं। औसतन हर रोज 30 से ज्यादा शिकायतें महिला हेल्प लाइन पर मिली हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सोमवार को राज्य सुरक्षा परिषद की पहली बैठक हुई। इस बैठक में सामान्य सुरक्षा परि²श्य, पुलिस की क्षमता में वृद्घि और शिकायत निवारण के क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा किए गए प्रयासों की जानकारी दी गई। परिषद द्वारा सर्व सम्मति से गुंडा तत्वों पर कड़ी कार्रवाई करने और अधिक कड़े कानूनों की जरूरत बताई गई।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराधों को रोकने के लिए समय-सीमा में कार्रवाई, कड़े कानूनी प्रावधानों के साथ ही लोगों की मानसिकता में बदलाव के भी प्रयास जरूरी हैं। प्रदेश शासन द्वारा इस परिप्रेक्ष्य में कारगर कदम उठाए गए हैं। राष्ट्रीय स्तर की कार्यशाला का भी आयोजन कराया जा रहा है।

बैठक में बताया गया कि महिलाओं के विरुद्घ अपराधों के निरंतर पर्यवेक्षण और रोकथाम के लिए जून 2012 में पुलिस मुख्यालय में महिला अपराध शाखा का गठन कर कार्रवाई की जा रही है। बलात्कार के प्रकरणों में 15 दिवस में चालान प्रस्तुत किए जाते हैं। जनवरी 2013 से प्रारंभ महिला अपराध हेल्पलाइन पर अभी तक 3,875 शिकायत मिलीं हैं। इनमें से 3,828 शिकायतों का निराकरण हो गया है। ग्रामीण अंचल में ग्राम स्तर पर कोटवार, ग्राम रक्षा समिति तथा शहरों में नगर सुरक्षा समिति के सदस्यों को जागरूक तथा संवेदनशील बनाने के लिए स्पेशल एक्शन प्लान जिलेवार बनाए गए हैं। विगत पांच माह में ही न्यायालयों द्वारा बलात्कार के प्रकरणों में आठ लोगों को फांसी की सजा सुनाई गई है।

बैठक में नक्सल विरोधी अभियान, कानून-व्यवस्था की स्थिति, अपराध नियंत्रण, पुलिस बल और उसकी क्षमता में वृद्घि, प्रशिक्षण एवं उपकरणों के अर्जन आदि के प्रयासों की जानकारी दी गई।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss