मप्र में दवा कारोबारियों की हड़ताल से मरीज परेशान
Friday, 10 May 2013 16:47

  • Print
  • Email

दवा कारोबारियों की देशव्यापी हड़ताल का मध्य प्रदेश पर भी व्यापक असर नजर आ रहा है। दवा दुकानों के बंद होने से आम मरीज को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि उसे जरूरत के मुताबिक दवाएं नहीं मिल पा रही है। केंद्र सरकार की नई दवा नीति के खिलाफ ऑल इंडिया ऑर्गेनाइजेशन केमिस्ट एण्ड ड्रगिस्ट एसोसिएशन और रिटेलर्स एण्ड डिस्टीब्यूटर्स केमिस्ट एसोसिएशन (आरडीसीए) के आह्वान पर दवा कारोबारी शुक्रवार को हड़ताल पर हैं। जगह-जगह रैलियां निकालकर दवा कारोबारियों ने जिलाधिकारियों व संभागायुक्तों को अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन सौंपे।

दवा कारोबारियों की राज्य में हड़ताल पूरी तरह सफल है। दुकानों पर ताले लटके हुए हैं। राज्य में लगभग 20 हजार दवा दुकानें हैं, इनमें से अधिकांश दुकानें बंद रहे। भोपाल केमिस्ट एसोसिएशन के सचिव दिनेश बलेचा के मुताबिक हड़ताल के चलते राजधानी में 1339 दुकानें बंद हैं।

दवा कारोबारियों की हड़ताल के चलते मरीज व उनके परिजनों को दवा के लिए भटकना पड़ रहा है। निजी अस्पतालों ने जरूर दवाओं को एक दिन पहले इकट्ठा कर लिया था मगर वह भी मरीजों की जरूरत को पूरा करने में नाकाफी साबित हो रही है।

वहीं एक अन्य संगठन केमिस्ट एण्ड डिस्ट्रीब्यूटर्स एसोसिएशन ने अपने को हड़ताल से दूर रखा है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss