गोवर्धन पूजा पर शिवराज का वादा, गोपाष्टमी गौ अभयारण में मनाएंगे
Monday, 16 November 2020 06:15

  • Print
  • Email

भोपाल: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गोवर्धन पूजा के मौके पर गौवंश सरंक्षण पर जोर देते हुए वादा किया है कि वे गायों की पूजा के पर्व गोपाष्टमी को आगर-मालवा के गौ अभयारण में मनाएंगे। मुख्यमंत्री आवास पर गोवर्धन पूजा के अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने पत्नी साधना सिंह के साथ गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा कर पूजा-अर्चना की। वहीं मुख्यमंत्री निवास की गौशाला में जन्मीं दो बछिया अष्टमी और धनवंतरी को दुलार किया। इस मौके पर चौहान ने कहा कि गौवंश संरक्षण के अधिकाधिक प्रयास होंगे। मध्यप्रदेश ने गौ अभयारण बनाकर देश में अनूठी पहल की है। प्रदेश में निरंतर गौशालाएं बन रही हैं। गौरक्षा के लिए अन्य क्या कदम आवश्यक हैं, इसकी भी समीक्षा कर नए कदम लागू किए जाएंगे।

उन्होंने आगे कहा कि आगर-मालवा का गौ अभयारण, गौवंश संरक्षण का मॉडल बनेगा। सरकार और समाज मिलकर गौवंश संरक्षण का कार्य करें, यह सुनिश्चित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के दिन आमजन पर्यावरण बचाने का भी संकल्प लें। कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष के दिन के आठवें दिन गोपाष्टमी पर्व की परंपरा है। चौहान ने कहा कि इस बार वे गौ अभयारण में गायों की पूजा का गोपाष्टमी पर्व मनाएंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि आज गोवर्धन पूजा आनंद का अवसर है। दरअसल, यह प्रकृति और पर्यावरण की पूजा है। गोवर्धन पूजा का दिन पर्यावरण बचाने का संदेश देता है। भगवान श्रीकृष्ण द्वारा सर्वकल्याण के भाव से अपनी कनिष्ठिका पर गोवर्धन पर्वत को उठाया गया था। श्रीकृष्ण ने ब्रजवासियों से कहा था कि वे प्रतिवर्ष गोवर्धन पूजा कर अन्नकूट का पर्व मनाएं। तब से यह परंपरा चल रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गौमाता अद्भुत है। गाय के दूध से और गोमूत्र से अनेक औषधियां निर्मित होती हैं। गौवंश की पूजा से संतोष मिलता है।

--आईएएनएस

एसएनपी/एसजीके

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss