मिलावटखोरों पर सख्त मप्र सरकार
Thursday, 12 November 2020 08:58

  • Print
  • Email

भोपाल: मध्य प्रदेश में मिलावटखोरों की अब खैर नहीं रहने वाली। सरकार ने मिलावटी खाद्य सामग्री की जांच के लिए राज्य के विभिन्न हिस्सों के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नौ चलित प्रयोगशाला वाहन रवाना किए। इन प्रयोगशालाओं में 10 रुपए के शुल्क पर जांच हो सकेगी।

प्रदेश के संभागों के लिए स्वास्थ्य विभाग की अगुवाई में नौ चलित प्रयोगशाला वाहन रवाना करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आम नागरिकों द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली वस्तुओं में मिलावट न सिर्फ स्वास्थ्य के लिए घातक है बल्कि मानव समाज के विरूद्ध बड़ा अपराध भी है। ऐसे मिलावटखोरों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाना चाहिए। प्रदेश में आम नागरिकों के सहयोग से मिलावट से मुक्ति अभियान प्रारंभ किया जा रहा है। मिलावट के संबंध में प्रमाणिक जानकारी देने वाले व्यक्तियों के नाम प्रकट नहीं किए जाएंगे और इस दंश को समाप्त करने के पूरे प्रयास होंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने प्रयोगशालाओं में उपलब्ध सुविधाओं का जिक्र करते हुए कहा अत्याधुनिक उपकरणों से लैस इन वातानुकूलित वाहनों में मिल्क स्केनर, पी.एच. मीटर, रेफ्रेक्टोमीटर, टी.पी.आर. मीटर, पैथोजिन किट के साथ-साथ बैलेंस, मिक्सर ग्राइंडर, हॉट एयर ओवन, गैस सिलेण्डर और कम्प्यूटर प्रिंटर उपलब्ध हैं। इन उपकरणों की मदद से यूरिया, डिटर्जेंट, पीने के पानी, शक्कर, खाद्य तेल और दैनिक उपयोग की वस्तुओं जैसे मावा, पनीर, दूध, मिर्च-मसाले आदि का प्रारंभिक परीक्षण कर मौके पर रिपोर्ट दी जा सकेगी। इन वाहनों में टेलीविजन और लाउडस्पीकर भी स्थापित किए गए हैं, जो भ्रमण कर खाद्य पदार्थो में होने वाली मिलावट और उसके त्वरित परीक्षण की व्यवस्था के बारे में आमजन को जागरूक करने का माध्यम बनेंगे। यह आधुनिक प्रयोगशालाएं कुल 102 प्रकार के प्रारंभिक परीक्षण में सक्षम हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने उम्मीद व्यक्त की है कि प्रदेश के नागरिकों को शुद्ध और गुणवत्तापूर्ण आहार मुहैया कराने में यह प्रयोगशालाएं उपयोगी सिद्ध होंगी। मुख्यमंत्री चौहान ने इस अवसर पर नकली हल्दी के परीक्षण का डिमांस्ट्रेशन भी देखा।

मुख्ममंत्री श्री चौहान ने कहा कि मिलावट से कैंसर जैसे रोग की आशंका भी होती है। आम लोगों की जिन्दगी से खिलवाड़ करने वाले तत्वों को किसी भी स्थिति में नहीं बख्शा जाएगा। अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि ऐसे दोषियों की जड़ों पर प्रहार करें।

इस तरह के अभियान के दौराना छोटे व्यापािरयों को परेशान करने की बात सामने आती है, उसका जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि ऐसे छोटे व्यापारियों और ठेले वालों को मिलावटी सामग्री के लिये परेशान न करते हुए मिलावट के स्रोत तक पहुंचकर दोषी लोगों के विरूद्ध कदम उठाने के निर्देश दिये।

--आईएएनएस

एसएनपी/एएनएम

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss