Print this page

मप्र का नक्शा ड्रोन तकनीक से बनेगा
Friday, 07 February 2020 04:14

भोपाल: मध्य प्रदेश का नक्शा अब ड्रोन तकनीक से तैयार किया जाएगा। इससे सीमांकन संबंधी समस्याओं का निपटारा हो सकेगा। इसके लिए राजस्व विभाग ने सर्वे ऑफ इंडिया और एमपीऑनलाइन के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया। राज्य के राजस्व विभाग ने गुरुवार को भारत सरकार के सर्वे ऑफ इण्डिया से आबादी सर्वे और सीमांकन एक्यूरेसी के लिए कन्टीन्यूसली अपरेटिंग रिफरेंस स्टेशन (कोर्स) एमओयू पर हस्ताक्षर किया। वहीं, आमजन को खसरे एवं नक्शे की नकल सहजता से उपलब्ध कराने के लिए राजस्व विभाग ने एमपीऑनलाईन के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया।

राज्य के राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा, "नक्शा बनाने के लिए सर्वे ऑफ इंडिया प्रदेश में पहली बार ड्रोन तकनीक का उपयोग करेगा। इसके लिए प्रदेश के 55 हजार गांवों का चयन किया गया है।"

राजस्व मंत्री ने कहा, "आम आदमी के पास भूमि स्वामित्व संबंधी दस्तावेज, आबादी क्षेत्र का नक्शा एवं अधिकार अभिलेख नहीं होने पर उन्हें कई तरह की समस्याओं से गुजरना होता है, इन समस्याओं को दूर करने के लिए आबादी क्षेत्रों का नक्शा तैयार कराया जाएगा।"

राजपूत ने कहा, "मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में सबसे अधिक आवेदन सीमांकन से संबंधित होते हैं। वहीं खड़ी फसल, खराब मौसम एवं कुशल चैनमेनों के अभाव में भूमि का मूल्य निर्धारण और सीमांकन के लिए हाई एक्यूरेसी की आवश्यकता होती है। इस समस्या से अब लोगों को दो-चार नहीं होना पड़े, इसके लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए हैं।"

--आईएएनएस