रामल्ला: फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन (पीएलओ) ने इजरायल सरकार की वेस्ट बैंक में निर्मित दर्जनों अवैध आउटपोस्ट बस्तियों को वैध बनाने की योजना के खिलाफ चेतावनी दी है। शनिवार को सिन्हुआ समाचार एजेंसी को भेजी गई एक आधिकारिक रिपोर्ट में, पीएलओ की 'नेशनल ब्यूरो फॉर डिफेंडिंग लैंड एंड रिजिस्टिंग सेटलमेंट्स' ने इजरायल के सेटलमेंट मामलों के मंत्री जाकी हानेजबी द्वारा पिछले हफ्ते की गई टिप्पणी के संदर्भ में कहा कि इजरायल की योजना वेस्ट बैंक में और अधिक भूमि पर कब्जा करने और नियंत्रण में लेने की है।

रिपोर्ट में कहा गया है, "इजरायल वेस्ट बैंक के बड़े क्षेत्रों को मिलाने, बस्तियों का विस्तार करने के लिए (अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड) ट्रंप के प्रशासन की शेष अवधि का इस्तेमाल करने की जुगत में है।"

पीएलओ की रिपोर्ट के अनुसार, वेस्ट बैंक में 1990 के दशक से बिना किसी आधिकारिक इजरायली मंजूरी के करीब 124 इजरायली सेटलमेंट आउटपोस्ट बनाए गए हैं।

फिलिस्तीनी अधिकार समूहों ने कहा कि 1967 से वेस्ट बैंक और पूर्वी यरूशेलम में लगभग 700,000 बसाए हुए लोग रह रहे हैं।

फिलिस्तीनी क्षेत्रों पर बसाई गई इजरायल की बस्तियों को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा अवैध माना जाता है।

--आईएएनएस

वीएवी-एसकेपी

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना सकं्रमण के दौरान वैवाहिक समारोह आयोजित करने वालों को किसी तरह की परेशानी से न गुजरना पड़े, इसके लिए जिला प्रशासन ने ऑनलाइन अनुमति देने की व्यवस्था की है। जिलाधिकारी अविनाश लवानिया के मुताबिक भोपाल जिले के निवासियों के राजस्व सीमा में विवाह, सगाई, समारोह करने के लिए ऑनलाइन अनुमति दिए जाने की सुविधा प्रदान की गई है। कोई व्यक्ति जिसके परिवार में विवाह समारोह है वह एनआईसी के संबंधित पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन अनुमति के लिए आवेदन कर सकता है।

बताया गया है कि आवेदन करने के बाद संबंधित व्यक्ति को उसके मोबाइल पर एसएमएस से उसकी अनुमति प्राप्त हो जाएगी, यह अनुमति ही उसको संबंधित विवाह समारोह की बुकिंग आदि के लिए पात्र रहेगी।

बताया गया है कि जिस परिवार में समारोह है उनको ऑनलाईन आवेदन करना होगा, जिसमें आवदेक का नाम, मोबाइल नंबर, पता, एसडीएम क्षेत्र, पुलिस थाना, वर-वधु का नाम, विवाह स्थल, विवाह कार्यक्रम दिनांक, समय एवं आगंतुकों की संख्या आदि की जानकारी पोर्टल पर दर्ज करनी होगी। उसके बाद एसएमएस के माध्यम से पुष्टि और सूचना प्राप्त हेागी।

--आईएएनएस

एसएनपी-एसकेपी

माउंट माउंगानुई: विकेटकीपर-बल्लेबाज ग्लैन फिलिप्स के शानदार शतक के दम पर न्यूजीलैंड ने रविवार को बे ओवल मैदान पर खेले गए दूसरे टी-20 मैच में वेस्टइंडीज को 72 रनों से हरा दिया। फिलिप्ल की 51 गेंदों पर 108 रनों की पारी के दम पर न्यूजीलैंड ने 20 ओवरों में तीन विकेट खोकर 238 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। फिर कीवी टीम के गेंदबाजों ने विंडीज को 20 ओवरों में नौ विकेट पर 166 रनों पर रोकते हुए सीरीज में 2-0 की बढ़त ले ली।

फिलिप्स की पारी में पांच चौके और दो छक्के शामिल रहे। उनका साथ दिया डेवन कॉन्वे ने। कॉन्वे ने 37 गेंदों पर चार चौके और चार छक्कों की मदद से 65 रनों की पारी खेली।

मार्टिन गुप्टिल ने 34 और टिम सेइफर्ट ने 18 रन बनाए।

विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी विंडीज कभी भी इसे हासिल करने की रेस में नहीं लगी। वह लगातार विकेट खोती रही। कप्तान केरन पोलार्ड ने उसके लिए सबसे ज्यादा 28 रन बनाए। पोलार्ड के अलावा कीमो पॉल ने 26, शिमरन हेटमायेर 25 रनों की पारी खेली।

कीवी टीम के लिए काइल जेमिसन और मिशेल सैंटनर ने दो-दो विकेट लिए। टिम साउदी, लॉकी फग्र्यूसन, ईश सोढी, जिम्मी नीशम ने एक-एक विकेट लिए।

--आईएएनएस

एकेयू/जेएनएस

नई दिल्ली: किसानों के दिल्ली सीमा पर चल रहे आंदोलन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को नए कृषि कानूनों को उनके हित में बताया। उन्होंने कहा कि कानून की सही और पूरी जानकारी किसानों के लिए ताकत बन सकती है। प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों से हर तरह के अफवाहों से दूर होकर सही जानकारी से खुद को संबल बनाने की अपील की। उन्होंने एक उदाहरण देते हुए बताया कि कैसे महीनों से पेमेंट के लिए चक्कर लगा रहे महाराष्ट्र के एक किसान जितेंद्र भोइजी का पैसा नए कानून की वजह से मिल सका। नए कानून में जहां तीन दिन के अंदर किसान को पैसा मिलने की बात है, वहीं एक महीने के अंदर उनकी शिकायतें भी दूर होंगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि महाराष्ट्र के धुले जिले के किसान जितेंद्र भोइजी ने मक्का की खेती की थी। सही दाम के लिए उन्होंने फसल व्यापारी को बेचना तय किया। तीन लाख 32 हजार रुपये का पेमेंट तय हुआ था। 25 हजार रुपये उन्हें एडवांस मिल गए थे। बाकी पैसा 15 दिन में चुकाने की बात हुई थी। लेकिन उन्हें बाकी पेमेंट नहीं मिला।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मक्का खरीदने वाले बरसों से चली आ रही उसी परंपरा को निभा रहे थे कि 'किसान से फसल खरीद लो, महीनों तक पेमेंट न करो'। चार महीने तक जितेंद्र का पेमेंट नहीं हुआ था। सितंबर से जो नए कृषि कानून बने हैं, इस कानून में यह तय हुआ है कि फसल खरीदने के तीन दिन में ही किसान को पूरा पैसा पेमेंट करना है। किसान शिकायत दर्ज कर सकता है। क्षेत्र के एसडीएम को एक महीने के भीतर ही किसान की शिकायत का निपटारा करना होगा। ऐसे में जितेंद्र की शिकायत का समाधान होना था। आखिर शिकायत के चंद दिन में उनका बकाया मिल गया। इस प्रकार कानून की सही और पूरी जानकारी जितेंद्र की ताकत बनी।

प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को अपने चर्चित रेडियो कार्यक्रम मन की बात के दौरान किसानों से जुड़े मसले पर खासतौर से चर्चा की। उन्होंने कहा, भारत में खेती और उससे जुड़ी चीजों के साथ नए आयाम जुड़ रहे हैं। बीते दिनों हुए कृषि सुधारों ने किसानों के लिए नए संभावनाओं के द्वार भी खोले हैं। बरसों से किसानों की जो मांग थी, जिन मांगों को पूरा करने के लिए किसी न किसी समय में हर राजनीतिक दल ने उनसे वायदा किया था, वो मांगें पूरी हुई हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने तीनों कृषि कानूनों का बचाव करते हुए कहा कि काफी विचार-विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरूप दिया। इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बंधन समाप्त हुए हैं, बल्कि उन्हें नए अधिकार भी मिले हैं, नए अवसर भी मिले हैं।

--आईएएनएस

एनएनएम-एसकेपी

नई दिल्ली: माइक्रोसॉफ्ट एक ऐसे प्रोजेक्ट 'लाटे' के साथ काम कर रहा है, जिससे ऐप डवलपर्स कोड्स में थोड़े बहुत बदलाव के साथ अपने एंड्राइड ऐप को सीधे विंडोज ऐप पर चला सकेंगे। विंडोज सेंट्रल की रिपोर्ट्स के अनुसार, डवलपर्स को अपने एंड्राइड ऐप्स को एमएसआईएक्स फॉरमेट के अनुसार पैकेज करना होगा और इसे माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस में सबमिट करना होगा।

एमएसआईएक्स एक विंडोज ऐप पैकेज फॉरमेट है जो सभी विंडोज ऐप्स को आधुनिक पैकेजिंग अनुभव मुहैया कराता है।

मैजूदा समय में यूजर विंडोज 10 के लिए बने ऐप 'योर फोन' के जरिए अपने पीसी पर एंड्राइड ऐप चला सकते हैं।

इसका इस्तेमाल हालांकि कुछ सेमसंग फोन से ही किया जा सकता है।

प्रोजेक्ट लाटे से अब डवलपर्स अपने उन ऐप को विंडोज 10 पर ला सकेंगे जो जिसका विंडोज वर्जन उपलब्ध नहीं थे।

प्रोजेक्ट लाटे हालांकि प्ले सर्विस को सपोर्ट नहीं करेगा, क्योंकि गुगल नेटिव एंड्राइइ ऐप और क्रोम ओसएस के छोड़कर इस सेवा को कहीं भी इंस्टाल करने की अनुमति नहीं देता है।

--आईएएनएस

आरएचए-एसकेपी

यांगून: म्यांमार की राष्ट्रीय स्तर की कोविड-19 रोकथाम, नियंत्रण और उपचार पर केंद्रीय समिति ने सुरक्षात्मक, निवारक उपायों की अवधि 15 दिसंबर तक बढ़ा दी है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, इस विस्तार को सभी आदेशों, घोषणाओं, संबंधित केंद्रीय स्तर के सरकारी संगठनों और मंत्रालयों द्वारा जारी निर्देशों पर लागू किया जाएगा, जो रोग के प्रसार को रोकने के लिए निवारक उपायों के हिस्से के रूप में सोमवार को समाप्त होंगे।

शनिवार को स्वास्थ्य और खेल मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, म्यांमार ने पिछले 24 घंटों में 1,344 नए मामले और 22 मौतें दर्ज कीं।

मंत्रालय के आंकड़ों में कहा गया है कि देश में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 87,977 हो गई है, जबकि 1,887 लोगों की मौत हो चुकी है।

ठीक होने के बाद अब तक कुल 67,588 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी मिल चुकी है।

--आईएएनएस

वीएवी-एसकेपी

भोपाल: मध्यप्रदेश में भले ही अभी नगरीय निकायों के चुनावों की तारीखों का ऐलान न हुआ हो मगर राजनीतिक दलों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) भी नगरीय निकाय का चुनाव लड़ने वाली है और अगर ऐसा होता है तो कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

राज्य में विधानसभा के उपचुनाव हो चुके हैं और आगामी समय में नगरीय निकाय व पंचायतों के चुनाव प्रस्तावित हैं। संभावना इस बात की है कि पहले नगरीय निकाय चुनाव होंगे। यह चुनाव सत्ताधारी भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस के लिए महत्वपूर्ण है, दोनों ही दल तैयारियों में जुटे हैं, तो वहीं बसपा ने भी चुनाव लड़ने का मन बनाया है।

बहुजन समाज पार्टी के विधायक संजीव कुशवाहा का कहना है कि आगामी समय में होने वाले नगरीय निकाय के चुनाव बसपा पूरी ताकत से लड़ेगी। विधानसभा का उपचुनाव भी बसपा ने पूरी ताकत से लड़ा था और नतीजे भी बेहतर रहे हैं। नगरीय निकाय के चुनाव में भी बसपा दोनों प्रमुख दल कांग्रेस और भाजपा के लिए मुसीबत बनेगी।

बसपा के नगरीय निकाय के चुनाव लड़ने के फैसले से कई स्थानों पर मुकाबले के त्रिकोणीय होने के आसार बनेंगे। साथ ही कांग्रेस के वोट बैंक पर भी सेंधमारी होगी। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि बसपा को राज्य में विधानसभा और लोकसभा के चुनाव में पांच से सात प्रतिशत तक वोट मिलते हैं और यही मत प्रतिशत कांग्रेस की हार का बड़ा कारण बनता है। नगरीय निकाय चुनाव में भी बसपा के चुनाव लड़ने से कांग्रेस को ही नुकसान होने के आसार हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता अजय यादव बसपा को वोट कटुवा पार्टी से ज्यादा कुछ नहीं मानते। उनका कहना है कि राज्य में बसपा का जनाधार कुछ क्षेत्रों के ग्रामीण इलाकों में है, उसका नगरीय क्षेत्र में असर नहीं है। हां वह चुनाव में असंतुष्टों और बागियों के लिए एक सहारा बन सकती है, तो इसका असर दोनों ही दलों पर पड़ेगा। पिछले विधानसभा के उप-चुनाव में यह बात साबित हो चुकी है कि बसपा नतीजे प्रभावित नहीं कर सकती, कुछ वोट जरुर काट सकती है। बसपा के मैदान में आने से सिर्फ कांग्रेस को नुकसान नहीं होगा, भाजपा को भी नुकसान हेागा।

राज्य का ग्वालियर-चंबल, बुंदेलखंड और विंध्य का वह इलाका है जहां बसपा का प्रभाव है। पिछले कई चुनावों में इस इलाके में कांग्रेस की हार का बड़ा कारण बसपा ही बनी है। इसलिए इस बात की संभावना ज्यादा है कि अगर बसपा पूरी ताकत से चुनाव लड़ी तो भाजपा की राह आसान होगी।

--आईएएनएस

एसएनपी-एसकेपी

लाहौर: पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान बाबर आजम पर एक महिला ने यौन उत्पीड़न और शारीरिक प्रताड़ना के आरोप लगाए हैं। पाकिस्तान के चैनल 24 न्यूजएचडी पर दिखाई गई प्रेस कॉन्फ्रेंस में महिला ने दावा किया है कि बाबर ने 10 साल तक उसका शोषण किया और उन्हें गर्भवती भी कर दिया। महिला ने कहा है कि बाबर ने उनसे शादी का वादा किया था।

महिला ने कहा, "हम दोनों के संबंध तब से थे जब से आजम क्रिकेटर भी नहीं थे। वह मेरे साथ स्कूल में पढ़े हैं और हम एक ही मौहल्ले में रहते थे। 2010 में उन्होंने मुझे प्रपोज किया और मैंने उसे कबूल कर लिया।"

उन्होंने कहा, "जैसे-जैसे समय बीतता गया, हमने शादी के बारे में सोचा। हमने अपने परिवारों से कहा लेकिन उन्होंने मना कर दिया। इसलिए 2011 में हम भाग गए और वह लगातार मुझसे कहते रहे कि हम कोर्ट में शादी करेंगे। हम कई किराए के मकानों में रहे, लेकिन वह शादी के लिए मना करते रहे।"

महिला ने कहा कि वह जब आजम पाकिस्तान टीम में चुने नहीं गए थे तब वह उनका खर्चा उठाती थी और उसके बाद भी उठाया।

उन्होंने कहा, "2014 में जैसे ही वह पाकिस्तान टीम में चुने गए, उनका व्यवहार बदल गया। अगले साल, मैंने पूछा कि शादी करते हैं लेकिन उन्होंने मना कर दिया। 2016 में मैंने कहा कि मैं गर्भवती हूं, उन्होंने अजीब तरह का व्यवहार करना शुरू कर दिया और मुझे शारीरिक प्रताड़ना दी। मैंने अपने परिवार से यह सब नहीं कहा क्योंकि हम घर से भाग चुके थे।"

उन्होंने कहा कि आजम ने उनसे गर्भपात कराने को कहा। उन्होंने कहा, "2017 में, मैंने बाबर के खिलाफ नसीराबाद स्टेशन पुलिस में शिकायत की। उन्होंने 10 साल तक मेरा उत्पीड़न किया।"

महिला ने कहा कि आजम ने उन्हें मारने तक की धमकी दे दी है।

--आईएएनएस

एकेयू/जेएनएस

गाजीपुर बॉर्डर (दिल्ली/उप्र): भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत की अगुवाई में किसानों का काफिला गाजीपुर बॉर्डर पहुंच कर सरकार के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन कर रहा है। हालांकि गृह मंत्री अमित शाह के बातचीत करने के प्रस्ताव पर राकेश टिकैत ने आईएएनएस से कहा कि, सरकार बुराड़ी गांव के निरंकारी मैदान को दूसरा शाहीन बाग बनाना चाहती है, वो हम नहीं होने देंगे। राकेश टिकैत ने आईएएनएस से कहा कि, 1 बजे तक सारी स्थिति साफ होगी कि हम लोगों की आगे की रणनीति क्या है। इस पूरे मसले पर सिंघु बॉर्डर पर बैठक चल रही है, सरकार को हमारी बात सुननी चाहिए।

उन्होंने कहा, सरकार किसानों को निरंकारी मैदान क्यों बुलाना चाहती है? अगर उन्हें बातचीत करनी है तो लोगों को बुलाकर बात करें।

बुराड़ी गांव पहुंचने के बाद हमारे ऊपर आरोप लगेंगे कि शाहीन बाग की तरह यहां पर भी वही हो रहा है। हम दूसरा शाहीन बाग नहीं बनने देंगे। निरंकारी मैदान को सरकार दूसरा शाहीन बाग बनाना चाहती है।

इससे पहले राकेश टिकैत ने कहा था कि सरकार को किसानों की दिक्कतें समझनी होगी। तभी कोई बातचीत हो सकेगी।

कृषि विधेयक सहित विभिन्न कृषि कानूनों को लेकर भाकियू ने किसानों से आंदोलन का आह्वान किया है। रास्ते में जगह-जगह किसानों का जत्था दिल्ली कूच में शामिल होता चला जा रहा है।

-- आईएएनएस

एमएसके -एसकेपी

नई दिल्ली: पिछले 24 घंटों में दर्ज हुए कोविड-19 के 41,810 नए मामलों और 496 मौतों के बाद देश में अब मामलों की संख्या रविवार को 94 लाख के करीब पहुंच गई है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, कुल मामलों की संख्या 93,92,920 और मरने वालों की संख्या 1,36,696 हो गई है। अभी देश में, 4,53,956 सक्रिय मामले हैं और कुल 88,02,267 मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं। मंत्रालय ने कहा कि देश में रिकवरी दर 93.71 प्रतिशत और मृत्यु दर 1.46 प्रतिशत है।

देश में महाराष्ट्र अभी भी 18,14,515 मामलों और 46,986 मौतों के साथ सबसे खराब स्थिति वाला राज्य बना हुआ है। यहां अभी 90,965 सक्रिय मामले हैं।

हर दिन सामने आ रहे मामलों में 70 फीसदी मामले देश के केवल 8 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों - महाराष्ट्र, दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और छत्तीसगढ़ से सामने आ रहे हैं।

वहीं जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के अनुसार दुनिया में कोरोनावायरस मामलों की कुल संख्या 6.2 करोड़ और मृत्यु संख्या 14.5 लाख से अधिक हो चुकी है। दुनिया में सबसे ज्यादा 1,32,33,884 मामले और 2,66,009 मौतें अमेरिका में दर्ज हुईं हैं, इसके बाद मामलों की संख्या में भारत दूसरे स्थान पर है।

--आईएएनएस

एसडीजे-एसकेपी

Page 1 of 16732

Don't Miss