ध्यानचंद सभी खिलाड़ियों के लिए विरासत छोड़ गए : पुत्र अशोक
Thursday, 03 September 2020 08:35

  • Print
  • Email

कोलकाता: वर्ष 1975 विश्व कप विजेता हॉकी टीम के प्रमुख सदस्य और हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के पुत्र अशोक कुमार ने बुधवार को कहा कि उनके पिता ने न केवल हॉकी खिलाड़ियों के लिए, बल्कि भारत के सभी खिलाड़ियों के लिए एक विरासत छोड़ी थी। टाटा स्टील ने राष्ट्रीय खेल दिवस 2020 को एक खास तरीके से मनाया, जिसमें हॉकी के दिग्गजों और ओलंपियनों ने वर्चुअल पैनल डिस्कशन के रूप में भाग लिया।

अशोक कुमार ने कहा, "मेजर ध्यानचंद ने न केवल हॉकी खिलाड़ियों के लिए, बल्कि हमारे देश के सभी खिलाड़ियों के लिए एक विरासत छोड़ गए थे।"

उन्होंने कहा, "अपने व्यक्तिगत संघर्षों के बावजूद, उन्होंने कभी उन लोगों को प्रदर्शन नहीं करने का बहाना बनने दिया। वह खेल के लिए प्रतिबद्ध थे और उन्होंने अपने जीवनकाल में कई लोगों को प्रेरित किया। मुझे खुशी है कि आज टाटा स्टील नवोदित खिलाड़ियों और अवसरों के लिए नई प्रतिभा को चमकाने के लिए इस तरह के प्लेटफॉर्म बना रही है।"

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता टेनिस लिएंडर पेस, जो अपने पिता वीस पेस के साथ इसमें शामिल हुए, ने कहा, "एक बच्चे के रूप में, मैं इन खिलाड़ियों से बहुत प्रेरित था। गुरबख्श सिंह और अशोक कुमार मेरे पिता के साथी थे और मेरे नायक थे। मुझे आपका मूल्यवान मार्गदर्शन और प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए मैं आपका आभारी हूं। टाटा स्टील खेल के विभिन्न क्षेत्रों में, विशेष रूप से हॉकी में काम कर रहा है और भविष्य में उनकी बड़ी सफलता की कामना करता हूं।"

--आईएएनएस

ईजेडए/एसजीके

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.