नई दिल्‍ली: देश में कोरोना वायरस से निपटने और लॉकडाउन की स्थिति को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य और गृह मंत्रालय की संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेंस हुई। इस मौके पर संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले 24 घंटों में 693 नए कोरेाना वायरस के मामले सामने आए हैं। इससे भारत में मामलों की कुल संख्या 4067 हो गई है, जिसमें से 1445 मामले तब्‍लीगी जमात से संबंधित हैं। पुरुषों में 76 प्रतिशत और महिलाओं में 24 प्रतिशत मामले सामने आए हैं। उन्‍होंने कहा कि COVID-19 से मौतों की संख्या 109 है। कल कोरोना से 30 लोग मारे गए। 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में 63 प्रतिशत मौतें हुई हैं, 40 से 60 वर्ष की आयु वर्ग में 30 प्रतिशत और 7 प्रतिशत 40 वर्ष से कम आयु में  7 प्रतिशत है।  

लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले 13 दिनों में भारतीय रेलवे ने 1340 वैगनों के माध्यम से चीनी, 958 वैगनों के माध्यम से नमक और 316 वैगनों / टैंकों के माध्यम से खाद्य तेल का परिवहन किया। लॉकडाउन के दौरान अब तक पूरे भारत में 16.94 लाख मीट्रिक टन अनाज पहुंचाया गया है। 13 राज्यों में 1.3 लाख मीट्रिक टन गेहूं और 8 राज्यों में 1.32 लाख मीट्रिक टन चावल बांटा गया है।

नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस महामारी के संकट को देखते हुए सोमवार को कैबिनेट मीटिंग में अहम फैसला लिया गया। इसके तहत सांसद निधि को दो साल के लिए टाल दिया गया वही राष्‍ट्रपति, उपराष्‍ट्रपति, राज्‍यपाल समेत तमाम सांसदों ने भी अपने वेतन का 30 फीसद योगदान देने का फैसला किया है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद अधिनियम, 1954 के सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन में संशोधन के अध्यादेश को मंजूरी दे दी। 1 अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए भत्ते और पेंशन को 30 फीसद तक कम किया जाएगा।

कैबिनेट मीटिंग के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, कैबिनेट ने भारत में महामारी के प्रतिकूल प्रभाव के प्रबंधन के लिए 2020-21 और 2021-22 के लिए सांसदों को मिलने वाले MPLAD फंड को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है। 2 साल के लिए MPLAD फंड के 7900 करोड़ रुपये का उपयोग भारत की संचित निधि में किया जाएगा।'

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री जावड़ेकर ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया, ‘दो साल के लिए सांसद निधि स्‍थगित कर दी गई है। राष्‍ट्रपति-उपराष्‍ट्रपति-राज्‍यपाल भी 30 फीसद कम सैलरी लेंगे।’  उन्‍होंने कहा, 'राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपालों ने स्वेच्छा से सामाजिक ज़िम्मेदारी के रूप में वेतन कटौती का फैसला किया है। यह धनराशि भारत के समेकित कोष में जाएगा।' 

कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए सोमवार को केंद्रीय कैबिनेट (Union Cabinet) की बैठक का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing) के जरिए कराया गया। बैठक की अध्‍यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। पहली बार मंत्रिमंडल की बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित कराई गई है।

आगरा: उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में एक अलग नजारा दिखा। यहां के 60 से अधिक पुलिस कर्मियों ने कोरोनोवायरस के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता का संदेश देने के लिए अपने सिर के बाल मुंड़वा दिए हैं।

वायरल हो रहे एक वीडियो में मुगल बादशाह अकबर की राजधानी फतेहपुर सीकरी की सड़कों पर एसएचओ की अगुवाई में पुलिस का एक दल दिखाई दे रहा है, जिसमें उनके सिर बिना बालों के चमकते हुए दिख रहे हैं।

एसएचओ भूपेंद्र बालियान ने मीडियाकर्मियों को बताया कि थाना के 68 पुलिसकर्मियों ने सामूहिक रूप से अपने बालों को मुड़वा दिया। ऐसा उन्होंने कोरोनोवायरस से अंत तक लड़ने का संकल्प व्यक्त करने के लिए किया।

स्थानीय लोगों ने विश्वास व्यक्त किया है और अब वे लॉकडाउन प्रतिबंधों के बीच सरकारी अधिकारियों के साथ सहयोग कर रहे हैं।

--आईएएनएस

लंदन: कोरोनावायरस से संक्रमित ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा है और फिलहाल उनका वहीं उपचार होगा। डाउनिंग स्ट्रीट ने इस बात की पुष्टि की है।

समाचार पत्र मेट्रो ने डाउनिंग स्ट्रीट के प्रवक्ता के हवाले से कहा, "प्राइम मिनिस्टर के डॉक्टर की सलाह पर आज रात (रविवार को) उन्हें जांच के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।"

डाउनिंग स्ट्रीट के प्रवक्ता ने कहा, "कोविड-19 संक्रमण की जांच में पॉजिटिव पाए जाने के दस दिनों बाद भी प्राइम मिनिस्टर में लगातार महामारी के लक्षण दिख रहे हैं। ऐसे में यह एक एहतियाती कदम है।"

डाउनिंग स्ट्रीट के प्रवक्ता ने कहा, "प्राइम मिनिस्टर ने एनएचएस कर्मचारियों के अविश्वसनीय परिश्रम के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। उन्होंने जनता से आग्रह किया कि एनएचएस की रक्षा करने व जीवन बचाने के लिए वह सरकार की सलाह का पालन करना जारी रखें और घर पर ही रहें।"

प्रवक्ता ने स्पष्ट किया, "उन्हें आपातकालीन आधार पर अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया है और वह सरकार के प्रभारी बने रहेंगे। वह अपने मंत्री, सहयोगियों और अधिकारियों के संपर्क में बने हुए हैं।"

मेट्रो ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के पहली बार कोविड-19 संक्रमण से संक्रमित होने की पुष्टि 27 मार्च को हुई थी। उन्होंने इस बात की जानकारी देते हए कहा था कि उन्हें महामारी के 'हल्के लक्षण' हैं।

प्रधानमंत्री जॉनसन की अनुपस्थिति में विदेश मंत्री डॉमिनिक रैब सरकार की अगली कोरोनावायरस संबंधी बैठक की अध्यक्षता कर सकते हैं।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

व्हाइट हाउस में रविवार को एक दैनिक ब्रीफिंग के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, "प्राइम मिनिस्टर बोरिस जॉनसन वर्तमान समय में वायरस (कोविड-19) से व्यक्तिगत रूप में लड़ रहे हैं, ऐसे में मैं हमारे देश (अमेरिका) की ओर से उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।"

उन्होंने कहा, "सभी अमेरिकी उनके लिए प्रार्थना कर रहे हैं। वह मेरे दोस्त हैं। वह एक महान व्यक्ति व राजनेता हैं और जैसा कि आप जानते हैं, उन्हें आज (रविवार को) अस्पताल में भर्ती कराया गया है लेकिन मुझे उम्मीद और विश्वास है कि वह ठीक हो जाएंगे। वह मजबूत व्यक्ति हैं।"

जॉनसन के अस्पताल में भर्ती होने की खबर ऐसे समय में आई है, जब विश्व के सभी देश कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम को लेकर संघर्ष कर रहे हैं।

वर्तमान में कोविड-19 संक्रमण के ब्रिटेन में अब तक कुल 48,440 मामले आ चुके हैं, जिनमें से कुल 4,943 लोगों की मौत हो गई है।

--आईएएनएस

नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को ट्विटर पर एक वीडियो जारी किया, जिसमें उन्होंने लोगों से अपील की है कि अधिक से अधिक टेस्टिंग (कोरोना की जांच) के लिए अपनी आवाज उठाएं। प्रियंका ने हिंदी में ट्वीट किया और कहा, कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने का एकमात्र रास्ता ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग है। तभी हम संक्रमित व्यक्ति का ट्रीटमेंट कर सकते हैं। ज्यादा से ज्यादा टेस्ट करो, ट्रीट (देखभाल व इलाज) करो-यही हमारा मंत्र होना चाहिए। आप सबसे मेरी गुजारिश है-ज्यादा टेस्टिंग के लिए आवाज उठाइए।

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम ने भी सोमवार को ट्वीट कर व्यापक परीक्षण की मांग की है।

उन्होंने कहा, महामारी विज्ञानियों, डॉक्टरों और जिला-स्तरीय प्रशासकों में एकमत है कि समय की आवश्यकता आक्रामक और व्यापक परीक्षण है। सरकार आज से ही प्रयास शुरू करें।

सोमवार को कई ट्वीट करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ने लिखा, भारत आज दुनिया के साथ दो सप्ताह की महत्वपूर्ण अवधि में प्रवेश कर रहा है। यह अच्छा है कि नरेंद्र मोदी ने विपक्षी दलों के नेताओं से बात की। मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है कि उनमें से हर एक ने कोविड-19 के प्रसार के लिए सरकार के प्रयासों का समर्थन किया।

इससे पहले कांग्रेस ने रविवार को कहा, भाजपा सरकार ने परीक्षण किटों को इतने लंबे समय तक विदेशी देशों में निर्यात करने की अनुमति क्यों दी है?

पार्टी ने इसे भारत के लिए हमारे बहादुर स्वास्थ्यकर्मियों और प्रत्येक भारतीय के लिए विश्वासघात करार दिया।

--आईएएनएस

नई दिल्ली: घातक कोरोनवायरस के लिए महिलाओं की तुलना में पुरुष अधिक संवेदनशील होते हैं। यह बात महाराष्ट्र सरकार द्वारा सोमवार को जारी आंकड़ों से पता चलती है। इस पश्चिमी राज्य में अब तक सामने आए कुल 781 कोरोनावायरस पॉजिटिव मामलों में से 63 प्रतिशत पुरुष हैं। चिकित्सा शिक्षा और ड्रग्स विभाग के आंकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र में अब तक 45 व्यक्ति इस घातक रोग के कारण जिंदगी की जंग हार चुके हैं। यहां मृत्यु दर 6.01 प्रतिशत है।

3 अप्रैल को यहां 3 लोगों की मौत हुई थी, वहीं 6 अप्रैल को यहां मरने वालों की संख्या 13 थी। मुंबई 469 मामलों के साथ इस महामारी से सबसे अधिक प्रभावित है। इसके बाद पुणे, ठाणे और सांगली में क्रमश: 119, 82 और 25 मरीज सामने आए हैं।

महाराष्ट्र सरकार ने अब तक 16,000 नमूने एकत्र किए हैं, जिनमें से 96 प्रतिशत का परीक्षण नेगेटिव आया है।

इस बीच, भारत में कुल कोरोना मामलों की संख्या: 4000 पार कर गई है, वहीं 121 लोगों की मौत हो चुकी है। विश्व स्तर पर लगभग 70,000 लोग मारे गए हैं और 12.5 लाख से अधिक परीक्षण पॉजिटिव आ चुके हैं।

--आईएएनएस

 

 

 

बलरामपुर: कोरोना के खिलाफ लड़ाई में रविवार रात 9 बजे नौ मिनट के लिए दीया जलाने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर जहां देशवासियों ने दीए जलाए, वहीं इसी दौरान उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले में भाजपा महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष मंजू तिवारी ने दीप जलाने के बाद फायरिंग की।

फायरिंग के बाद मंजू तिवारी ने इसका वीडियो फेसबुक पर अपलोड कर दिया जिसके बाद यह वीडियो वायरल हो गया। इस मामले पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर लिया है और पार्टी ने पद मुक्त कर दिया है।

भाजपा नेता का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद नगर कोतवाली पुलिस ने मंजू तिवारी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अरविन्द मिश्रा ने बताया, "सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें 5 अप्रैल की एक घटना दिखाई जा रही है। जिसमें मंजू तिवारी द्वारा फायरिंग की जा रही है।" उन्होंने बताया कि मामले में समुचित धाराओं में नगर कोतवाली में केस दर्ज हो गया है।

भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष दर्शना सिंह ने कहा, "फायरिंग की घटना का पार्टी ने संज्ञान लिया है। उन्हें पद से तुरंत मुक्त किया जाता है। भाजपा एक अनुशासित पार्टी है उसमें ऐसे किसी कृत्य की जगह नहीं है।"

महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष मंजू तिवारी ने रिवाल्वर से हवाई फायरिंग का वीडियो फेसबुक पर पोस्ट कर लिखा, "दीप जलाने के बाद कोरोना को भगाते हुए।"

इसके बाद उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रिया भी शुरू हो गईं। मामला सुर्खियों में आने के बाद मंजू तिवारी ने अपने फेसबुक वाल से वीडियो को डिलीट भी कर दिया। जिलाध्यक्ष मंजू तिवारी ने अपने पति की लाइसेंसी रिवाल्वर से फायरिंग की थी।

वीडियो वायरल होने के बाद अब भाजपा नेता को अपनी गलती का एहसास हो रहा है।

मंजू तिवारी ने अपने बयान में कहा, "कल जब मैंने पूरे शहर को रोशनी से सराबोर देखा तो मुझे लगा कि आज दीवाली है। इसी उत्साह में मैंने फायरिंग कर दी। मैं अपने इस कृत्य के लिए सभी से माफी मांगती हूं।"

--आईएएनएस

बेंगलुरू: शहर के नगर निगम ने कोरोनावायरस मामलों से निपटने के लिए क्वोरंटीन केंद्र के रूप में अब तक केवल दो होटलों का उपयोग कर रहा है, जबकि इसके लिए 16 संपत्तियों को अधिसूचित किया गया था। इसकी जानकारी एक अधिकारी ने सोमवार को दी। वृहत बेंगलुरू महानगर पालिक (बीबीएमपी) के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "हमने अब तक केवल दो होटलों का इस्तेमाल किया है, हालांकि हमने कोरोनावायरस के मामलों से निपटने के लिए 16 होटलों को अधिसूचित किया है।"

29 मार्च को नागरिक निकाय ने शहर के 16 होटलों को कोरोनावायरस संदिग्धों को 14 दिन के लिए आइसोलेशन में रखने के लिए अधिसूचित किया था।

अधिसूचित होटलों में अमीरात होटल, एंपायर होटल, अराफान इन, होटल सिटाडेल, ओयो टाउन और ट्रिनिटी वुड होटल शामिल हैं, जो शहर भर में स्थित हैं।

होटलों में नागरिक निकाय के निपटान के लिए 1,227 कमरे उपयोग होने थे।

अधिकारी ने कहा, "दिलचस्प बात यह है कि कुछ होटल अपनी संपत्तियों को क्वोरंटीन केंद्रों के रूप में उपयोग करने की अनुमति देने से कतरा रहे हैं।"

--आईएएनएस

रायपुर: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लॉक डाउन के बाद परिवहन सेवाएं शुरू किए जाने से पहले ठोस उपाय किए जाने की मांग की है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि बिना उपाय किए लॉक डाउन के बाद अंतर राज्यीय परिवहन सेवाएं शुरू किए जाने से नई कठिनाइयां बढ़ने की भी आशंका रहेगी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना वायरस महामारी की स्थिति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। उन्होंने इस पत्र में कहा है कि छत्तीसगढ़ वह राज्य है जिसने 18 मार्च को पहला मरीज मिलने पर ही 19 मार्च से लॉक डाउन की घोषणा कर दी थी। आपके निर्णय अनुसार अप्रैल तक लक डाउन की स्थिति रहेगी।

राज्य में आखिर कोरोनावायरस काबू में कैसे रखा गया है इसका जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि शासन की ओर से किए गए उपाय और अनुशासित जन सहयोग से अभी तक यह स्थिति बनी हुई है। वहीं देश के अन्य भागों में कोरोना वायरस पीड़ितों की संख्या में लगातार वृद्घि हो रही है और जैसे तैसे वायरस टेस्ट की संख्या में बढ़ोतरी होने पर संक्रमित लोगों की संख्या भी बढ़ने की संभावना है।

उन्होंने 14 अप्रैल के बाद अर्थात लॉक डाउन की अवधि समाप्त होते ही ट्रेन, वायु यातायात और अंतर राज्यीय सड़क परिवहन प्रारंभ किए जाने की संभावनाओं का जिक्र करते हुए कहा है कि ऐसा होने पर छत्तीसगढ़ सहित अन्य राज्यों में संक्रमित व्यक्ति आ सकते हैं , जिससे छत्तीसगढ़ राज्य को नई कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। इस तरह की स्थितियां अन्य राज्यों में भी उत्पन्न होने की संभावना है।

बघेल ने अपने पत्र में प्रधानमंत्री को सुझाव दिया है कि अंतर राज्यीय आवागमन को प्रारंभ करने का निर्णय लेने के पूर्व व्यापक विचार विमर्श कर ऐसे ठोस उपाय किए जाएं जिससे कि पूरे देश में कोरोनावायरस स्थिति को नियंत्रण में रखा जा सके।

छत्तीसगढ़ में कोरोनावायरस की महामारी को रोकने के लिए किए गए प्रयासों का जिक्र करते हुए बघेल ने अपने पत्र में लिखा है कि राज्य में चार अप्रैल तक 1590 व्यक्तियों के सैंपल लिए गए थे, इनमें से 1335 व्यक्तियों के परिणाम नेगेटिव आए हैं , वहीं 205 की जांच जारी है। राज्य में अब तक 10 लोग ही कोरोनावायरस पीड़ित पाए गए, इनमें से सात व्यक्ति ठीक होकर घरों को चले गए हैं और तीन मरीजों की हालत सामान्य है। राज्य में अब तक कोई भी गंभीर रूप से पीड़ित नहीं है और ना ही कोई मौत हुई है।

--आईएएनएस

गया: बिहार के गया स्थित अनुग्रह नारायण मेडिकल कलेज अस्पताल (एएनएमसीएच) की सुरक्षा को धता बताते हुए रविवार की रात दो संदिग्ध युवक अचानक घुस गए और कोरोना संक्रमितों के लिए बने आइसोलेशन वार्ड तक पहुंच गए।

आरोप है कि ये सीधे कोरोना संक्रमित मरीज के पास पहुंच गए। इस सूचना के बाद अस्पताल में अफरा तफरी की स्थिति उत्पन्न हो गई। इस मामले की एक प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है।

पुलिस के मुताबिक, दो व्यक्ति चिकित्सक की पोशाक में आइसोलेशन वॉर्ड में पहुंच गए और संक्रमित लोगों से बात की। सूत्रों का कहना है कि एक मरीज को इन लोगों ने कोई दवा भी खिलाई है। बाद में जब मरीजों को शक हुआ तब बाहर से आए लोगों से पूछताछ की गई। इस दौरान एक व्यक्ति तो फरार होने में सफल रहा लेकिन दूसरे व्यक्ति को पकड़ लिया गया।

मेडिकल थाना के प्रभारी फहीम आजाद ने सोमवार को आईएएनएस को बताया कि एनएमसीएच प्रशासन द्वारा मेडिकल थाना में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। उन्होंने बताया कि पकड़ा गया व्यक्ति वीरेंद्र चौधरी स्थानीय एक निजी अस्पताल में कार्यरत है। इसे भी एहतियातन क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है तथा पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

इधर, जिले के एक अधिकारी ने बताया कि आइसासेलेशन वार्ड तक कोई अनजान व्यक्ति कैसे पहुंच सकता है, यह मामला जांच का विषय है। उन्होंने कहा कि पूरे मामले की जांच कराई जाएगी और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

--आईएएनएस

Page 1 of 14411

Don't Miss