Print this page

धारावी की कोविड-19 रणनीति अब उत्तर मुंबई में दोहराई जा रही
Thursday, 25 June 2020 19:00

मुंबई: एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सफलता से प्रेरित होकर बृहन्मुंबई नगर निगम(बीएमसी) अब इसी रणनीति को मुंबई के उत्तर-पूर्व और उत्तर-पश्चिम उपनगरों में दोहरा रहा है, जोकि अभी घातक कोरानावायरस की गिरफ्त में हैं। एक अधिकारी ने यहां गुरुवार को इसकी जानकारी दी। रैपिड एक्शन प्लान(आरएपी) को पब्लिक-प्राइवेट-पार्टनरशिप मॉडल के तहत धारावी और वर्ली में प्रभावी पाया गया, जिसे अब मुलुंड-भांडुप और दहिसर-बोरिवली-कांदिवली-मलाड उपनगरों में लागू किया जा रहा है। इन क्षेत्रों में मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

एक अधिकारी ने कहा, "धारावी और वर्ली की तरह, हमें कोविड-19 के फैलाव को रोकने के लिए कई सारी पहलों पर जोर देना होगा और अगले हफ्ते तक 25 लाख लोगों को कवर करने के लिए प्रत्येक वार्ड में कम से कम 10,000 घरों की स्क्रीनिंग करनी होगी।"

बीएमसी ने उपनगरों में इन समर्पित पहलों के लिए स्थानीय डॉक्टरों और रियल्टर्स निकाय सीआरईडीएआई-एमसीएचआई, एनजीओ भारतीय जैन संस्थान व देश अपन्य फाउंडेशन के साथ सहयोग के लिए हाथ मिलाया है।

50 मोबाइल फीवर क्लिनिक एंबुलेंस में डाक्टरों की एक टीम पूरे दिन घर-घर जाकर लक्षणों की पहचान करती है, सैंपल एकत्रित करती है और लोगों के बीच जागरूकता फैलाती है।

जांच के दायरे को बढ़ाने के लिए, महाराष्ट्र एसडी बायोसेंसर, दक्षिण कोरिया से 100,000 रैपिड एंटीजेन टेस्ट किट्स खरीद रही है, जो कि आईसीएमआर से स्वीकृत है। मुंबई और पुणे के कोरोना हॉटस्पॉट में रह रहे लोगों के लिए यह केवल 30 मिनट में नतीजे दे सकता है।

इससे, मुंबई में प्रतिदिन टेस्ट की संख्या 35 प्रतिशत बढ़कर 6000 हो जाएगी, जबकि दिल्ली में प्रतिदिन 15,000 से ज्यादा टेस्ट हो रहे हैं।

मौजूदा समय में, मुंबई में 69,528 कोराना संक्रमित हैं, जिनमें से 28,548 सक्रिय मामले हैं। यहां इस महामारी से 3,964 मौते हुईं हैं।

--आईएएनएस