मांसपेशियां हैं कमजोर तो जल्दी हो सकती है मौत!

कमजोर मांसपेशियों वाले व्यक्ति आमतौर पर अपने मजबूत समकक्षों के मुकाबले ज्यादा दिन तक जीवित नहीं रहते और उनके 50 फीसदी पहले मरने का अंदेशा रहता है।शोधकर्ताओं के अनुसार, मांसपेशी की मजबूती, उसके द्रव्यमान (मास) की तुलना में समग्र स्वास्थ्य की भविष्याणी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके अलावा हाथ की पकड़ की मजबूती का संबंध गतिशीलता की सीमा के विपरीत है। हालांकि, साधारण व किफायती परीक्षण होने के बावजूद हाथ की पकड़ की मजबूती की जांच वर्तमान में ज्यादातर नियमित शारीरिक जांच का हिस्सा नहीं है।

सैन फ्रांसिस्को के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोधकर्ता काते डुचोवन ने कहा, “मांसपेशी की मजबूती को जीवन र्पयत बनाए रखना और खासकर जीवन के बाद वाले समय में लंबे जीवन व उम्र के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।” इस शोध को जर्नल जेरोटोलॉजी : मेडिकल साइंसेज में प्रकाशित किया गया है। इसके लिए शोध दल ने 8,326 पुरुषों व महिलाओं के आंकड़ों का विश्लेषण किया, जिनकी आयु 65 साल व इससे ज्यादा रही।

1. अंडे को प्रोटीन, सेलेनियम, विटामिन डी, विटामिन बी6, विटामिन बी12, जिंक, आयरन, तांबा, कैल्शियम व ओमेगा-3 फैटी एसिड का अच्छा स्रोत माना जाता है। विटामिन व मिनरल्स से भरपूर अंडा खाने से आपके शरीर को मजबूती मिलती है। तथा इसमें मौजूद प्रोटीन से हमारी मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

2. दही में कैल्शियम और विटामिन डी जैसे पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं, जो स्वस्थ्य मांसपेशियों के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। इसके अलावा दही खाने वालों को प्रोटीन की खुराक भी मिलती है जो मांसपेशियों के लिए अच्छा होता है।

3. पानी पीने से इम्यून सिस्टम मजबूत होती है और नई कोशिकाओं का निर्माण होता है और मांसपेशियां भी मजबूत होती है। पानी पीना मांसपेशियों के दर्द से निजात दिलाने वाले सबसे अच्छे तरीकों में से एक है।

4. अंकुरित अनाज प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत है। इसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक और कैलोरी बहुत कम होती है। एक कप अंकुरित अनाज में लगभग 15 ग्राम प्रोटीन होता है। इन्हें कच्चा खा सकते हैं, सलाद में या हल्का मसालेदार बनाकर भी खा सकते हैं।

5. सोयाबीन में मीट और अंडे से ज्‍यादा प्रोटीन होता है। एक चौथाई कप इस स्‍नैक्‍स में 15 ग्राम प्रोटीन के साथ फाइबर और पोटेशियम भी भरपूर मात्रा में होता है। प्रोटीन के साथ-साथ इसमें विटामिन और खनिज तथा विटामिन ‘बी’ कॉप्लेक्स और विटामिन ‘ई’ काफी अधिक मात्रा में होता है।